जोड़ों के दर्द या अर्थराइटिस की समस्या से आराम दिलाती है ब्रोकली

जोड़ों के दर्द या अर्थराइटिस की समस्या से आराम दिलाती है ब्रोकली

उम्र बढ़ने के साथ अक्सर जोड़ों का दर्द सताने लगता है। जोड़ों का दर्द या अर्थराइटिस एक ऐसी समस्या है, जिससे हर उम्र के लोग परेशान रहते हैं। पहले के समय में यह रोग केवल बढ़ती उम्र में होता था। पर आजकल युवा वर्ग में भी अर्थराइटिस और जोड़ों के दर्द की समस्या देखी जा रही है। जोड़ों में दर्द होने पर चलने-फिरने में बहुत परेशानी होती है।

जोड़ों के दर्द से आराम दिलाते है ये उपाय:

ब्रोकली में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, विटामिन सी और क्रोमियम मौजूद होते हैं। ब्रोकली में पाए जाने वाले पोषक तत्व इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करते हैं। शरीर में खून की मात्रा बढ़ने से अर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा मिलता है।

अगर आप अर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो अपने खाने में ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त आहार को शामिल करें। फिश ऑयल, एलगी ऑयल और सैमन मछली में ओमेगा 3 फैटी एसिड की भरपूर मात्रा पाई जाती है।

लहसुन की तासीर गर्म होती है जिसके कारण यह हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. रोजाना लहसुन की एक या दो कली खाने से अर्थराइटिस की समस्या से आराम मिलता है।

हल्दी में भी एंटीबायोटिक, एंटीबैक्टीरियल, ऐंटिफंगल और गुणों की भरपूर मात्रा पाई जाती है जो बीमारी फैलने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में सहायक होती है। हल्दी का सेवन करने से अर्थराइटिस का दर्द कम हो जाता है।


रोज शराब का सेवन करने से बढ़ता का कैंसर का खतरा

रोज शराब का सेवन करने से बढ़ता का कैंसर का खतरा

शराब पीना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। लेकिन यह बहुत ही कम लोग जानते होंगे की इससे कैंसर का भी खतरा बढ़ जाता है। ज्यादा शराब पीने से त्वचा कैंसर के होने का खतरा बना रहता है। शराब पीने के और भी कई नुकशान है। जिससे दिन पर दिन इंसान अपनी जिंदगी खत्म कर रहा है। 

शराब पीने से बढ़ता है कैंसर का खतरा:

‘ब्रिटिश जर्नल ऑफ डर्मेटोलॉजी’ ने हाल ही में एक रिसर्च किया था। जिसमे में पाया गया है कि रोजाना दस ग्राम ज्यादा शराब लेने से बेसल सेल कार्सिनोमा (बीसीसी) का खतरा 7 फीसदी और स्किन स्केव्मस सेल कार्सिनोमा (सीएससीसी) का खतरा 11 फीसदी बढ़ जाता है। ये नॉन-मेलनोमा त्वचा कैंसर के दो सामान्य प्रकार हैं।

क्या है इसके लक्षण:

मेलानोमा सबसे घातक होता है। इस कैंसर में गले में सूजन या खुजली महसूस कर सकते हैं, यह शरीर पर कहीं भी हो सकता है। इसमें घाव जल्दी जल्दी बढ़ने लगते हैं। घाव के भी कई रंग हो सकते हैं जैसे काला या गुलाबी। सही समय पर इसका उपचार करना बहुत जरुरी होता है वरना धीरे धीरे ये गंभीर रूप ले लेता है।


चीन ने जनसंख्या वृद्धि रोकने में हासिल की कामयाबी, लेकिन...       US सिक्योरिटी ने किए नष्ट, गोबर के उपले लेकर अमेरिका पहुंचा एक भारतीय शख्स       Italy की इस महिला को एक ही बार में लगे Pfizer Covid-19 Vaccine के 6 डोज       कोविड-19 वायरस के भारतीय स्ट्रेन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने माना खतरनाक, कहा...       'इस्लाम को रियायत मिलने से फ्रांस को खतरा'       कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर भारतीय प्रस्ताव के समर्थन में विश्व स्वास्थ्य संगठन , चीफ साइंटिस्ट ने कहा...       साइबर हमले के बाद अमरीकी फ्यूल पाइपलाइन जल्द हो सकती है शुरू       अमेरिका में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों को लगेगी वैक्सीन       विदेश मंत्रालय ने कहा कि ईरान के ऑफिसरों ने सऊदी के साथ द्विपक्षीय मुद्दों पर सीधी वार्ता की पुष्टि की       गाजा पर रॉकेट से हमला, 20 लोग मारे गए       भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित, कहा...       कोरोना वैक्सीन की पहली डोज के बाद हो जाए कोविड-19 तो डरे नहीं       बीते 24 घंटे में 3.29 लाख नए केस आए, 3876 मरीजों ने गंवाई जान       योगी सरकार के कोविड प्रबंधन का कायल हुआ डब्‍ल्‍यूएचओ       देश में अब तक 17.27 करोड़ से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन       अफगानिस्तान में भारतीय राजनयिक विनेश कालरा का मृत्यु       जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखी पांच पन्नों की चिट्ठी, कहा...       कोविड-19 मुद्दे में केन्द्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को दी अति उत्साह में निर्णय ना लेने की सलाह, कहा...       Ghazipur में गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से मचा हड़कंप       राहुल का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला, कहा...