खुद को कामयाबी की किसी दौड़ में नहीं मानते अक्षय कुमार

खुद को कामयाबी की किसी दौड़ में नहीं मानते अक्षय कुमार

इंदौर : फिल्म (Film) अदाकार (Actor) अक्षय कुमार (Akshay Kumar) ने शुक्रवार को बोला कि वह स्वयं को पेशेवर कामयाबी की किसी भी प्रतिस्पर्धा से दूर मानते हैं और अदाकारी के मुद्दे में किसी खास छवि में कैद भी नहीं होना चाहते. अक्षय कुमार ने इंदौर में संवाददाताओं से कहा, ‘मुझे कभी नंबर एक, कभी नंबर दो, तो कभी नम्बर तीन पर बताया जाता है. लेकिन मैं स्वयं को किसी प्रतिस्पर्धा में मानता ही नहीं हूं.’ उन्होंने अपनी बात में जोड़ा, ‘मैं कोई घोड़ा नहीं हूं जो दौड़ में पहले, दूसरे या तीसरे नम्बर पर आता है.’ अक्षय कुमार ने बोला कि बतौर अदाकार उनकी हमेशा प्रयास रहती है कि वह किसी खास छवि में कैद होकर न रह जाएं.

उन्होंने कहा, ‘मैं भिन्न-भिन्न तासीर के भूमिका निभाना चाहता हूं.’ 54 वर्षीय अदाकार ने बोला कि उन्होंने कई सितारों वाली फिल्मों में काम करने से कभी गुरेज नहीं किया क्योंकि वह पेशेवर तौर पर स्वयं को हमेशा सुरक्षित मानते हैं. अक्षय कुमार अपनी फिल्म ‘रक्षाबंधन’ के प्रमोशन के लिए इंदौर आए थे जो 11 अगस्त से सिनेमाघरों में लगने वाली है. इसी तारीख को आमिर खान की मुख्य किरदार वाली फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ भी बड़े परदे पर उतर रही है.

यह भी पढ़ें

उन्होंने एक प्रश्न पर आमिर खान की इस फिल्म का नाम लिए बगैर बोला कि वह दोनों फिल्मों के बीच कोई प्रतिस्पर्धा महसूस नहीं कर रहे हैं और दिल से चाहते हैं कि दोनों फिल्में टिकट खिड़की पर अच्छा प्रदर्शन करें ताकि फिल्म उद्योग को लाभ हो सके. सोशल मीडिया पर फिल्म ‘रक्षाबंधन’ के बहिष्कार का हैशटैग प्रचलित होने के बारे में पूछे जाने पर अक्षय कुमार ने बोला कि उन्हें इस बारे में कुछ भी नहीं पता है. उन्होंने हालांकि कहा, ‘अगर आप जैसे पढ़े-लिखे लोग इन चीजों पर ध्यान देने लगेंगे, तो हमारे राष्ट्र में सबकुछ बायकॉट हो जाएगा. मैं तो यही कहूंगा कि हम अपने दिमाग का उपयोग करें और आपको जो पसंद आता है. वह करें और जो नापसंद है, वह ना करें.’ (एजेंसी)