उच्चतम न्यायालय का निर्णय आने से पहले ही अयोध्या में सुरक्षा घेरा कठोर

उच्चतम न्यायालय का निर्णय आने से पहले ही अयोध्या में सुरक्षा घेरा कठोर

काफी समय से चल रहे अयोध्या का मुद्दा अब किसी तरह एक मोड़ लेने वाला है जहा आज इस बात का निर्णय होगा वही श्रीरामजन्मभूमि/बाबरी मस्जिद धरती टकराव में उच्चतम न्यायालय का निर्णय आने से पहले ही अयोध्या में सुरक्षा घेरा कठोर किया जायेगा। वही पंचकोसी परिक्रमा खत्म होते ही विवादित परिसर के 1 किमी परिधि में सुरक्षा बेहद कड़ी हो चुकी है। मिली जानकारी के मुताबिक इससे आधी अयोध्या तमाम बंदिशों से घिरा हुआ है।

वही मोहल्लों में आने-जाने के रास्तों पर बैरिकेंडिंग करके पुलिस-पीएसी के साथ अर्धसैनिक बल के जवान तैनात कर दिए गए है। सूत्रों के मुताबिक शहर में सुरक्षा घेरा पहले से ही तंग था, शुक्रवार से गांवों में भी सुरक्षा बलों की तैनाती शुरुआत हो गई है। वही सुरक्षा बल व खुफिया एजेंसियां गांवों तक जारी हो चुकी है। जंहा शहर व ग्रामीण क्षेत्र में संवेदनशील स्थलों पर स्थित 95 से ज्यादा धर्मस्थल चिह्नित कर दी गई है। वही इनको भी सुरक्षा दायरे में रखा जाएगा। जानकारी के मुताबिक़ क्षेत्र के ऐसे धर्मस्थलों के ईर्द-गिर्द सुरक्षा बलों की तैनाती की जा चुकी है। वही शहर व ग्रामीण क्षेत्र में संवेदनशील 239 स्थलों को चिंहित हो चुका है। जंहा उच्चतम न्यायालय से कभी भी निर्णय आने को लेकर प्रशासन अब सुरक्षा तैयारी पुख्ता करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ा जायेगा।

कार्तिक मेला पर रामलला के दर्शन की अवधि बढ़ी: मिली जानकारी के मुताबिक कार्तिक पूर्णिमा मेला में श्रद्धालुओं की संभावित भीड़ को देखते हुए 11 व 12 नवंबर को मेक शिफ्ट स्ट्रक्चर में विराजमान रामलला के दर्शन अवधि एक घंटे बढ़ा दी गई है। एडीएम नगर डाक्टर वैभव शर्मा ने बताया कि दोनों दिन पहली पाली में प्रातः काल सात से साढ़े 11 बजे व दूसरी पाली में साढ़े 12 बजे से पांच बजे तक होगी। इसके बाद दर्शन अवधि पहले की ही तरह होगी। 10 अस्थायी जेलें बनाईं ऐसा माना गया है,‘अयोध्या में पर्याप्त सुरक्षा बल उपस्थित हैं। अब निर्णय के मद्देनजर सुरक्षा बढ़ाई जा चुकी है। जंहा बैरिकेडिंग से कोई कठिनाई नहीं आने दिया जायेगा। सब सामान्य रहेगा। मेक शिफ्ट स्ट्रक्चर में विराजमान रामलला के दर्शन में कोई बाधा नहीं आएगी। सुरक्षा के लिए एक हेलीकाप्टर भी यहां उपस्थित रहेगा। 10 अस्थायी जेलें बनाई गई हैं। ’