विवाह से पहले युवक युवती ने लगाई फांसी, जानिए ये है वजह

 विवाह से पहले युवक युवती ने लगाई फांसी,  जानिए ये है वजह

कुछ ही दिनों में विवाह के अटूट बंधन में बंधने जा रहे युवक व युवती ने बुधवार को फांसी लगाकर जान दे दी. किसी बात पर मंगेतर से नाराज युवती ने दोपहर के समय फांसी लगा ली.यह समाचार युवक को मिली तो उसने भी मृत्यु को गले लगा लिया.

Related image

छह माह पहले ही बेहद खुशनुमा माहौल में दोनों की सगाई हुई थी. इस संबंध से दोनों के परिवार वाले भी बेहद खुश थे. लेकिन, बुधवार को यह खुशी गम व आंसुओं में बदल गई. किसी ने सोचा भी नहीं था कि दोनों के संबंध का ऐसा दुखद अंत होगा.

डालनवाला कोतवाली क्षेत्र में इंदर रोड निवासी सुखमाया व नेहरू कालोनी के नौका दौड़वाला निवासी सूरज थापा की सगाई छह महीने पहले ही हुई थी. सब कुछ ठीक-ठाक था, लेकिन पिछले तीन माह से सुखमाया अपने ज़िंदगी साथी के चुनाव को लेकर कुछ परेशान थी.

बताया जा रहा है कि सूरज को नशे की लत थी व इस बात को लेकर भी सुखमाया नाराज थी. पुलिस सूत्रों के मुताबिक सुखमाया व सूरज में किसी बात को लेकर अनबन हो गई थी.बुधवार प्रातः काल उनके रिश्तों में खट्टास व बढ़ गई. सुखमाया ने दोपहर बारह बजे के करीब अपने घर में ही फांसी लगा ली. परिजन सुखमाया को फंदे से उतारकर दून अस्पताल ले गए, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. उसकी मृत्यु से सारे परिवार में कोहराम मच गया.

उधर, सुखमाया की मृत्यु की समाचार मिलते ही सूरज थापा बदहवास हो गया. इसी हालत में दोपहर करीब तीन बजे उसने भी मृत्यु को गले लगाने का निर्णय कर लिया व अपने कमरे में ही दुपट्टे का फंदा बनाकर फांसी लगा ली. घर में उस समय सिर्फ उसकी मां थी. मां कमरे में पहुंची तो बेटे को फंदे से लटका देख चीख पड़ीं.

आसपास के लोगों की मदद से परिजन सूरज को अस्पताल ले गए, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. शाम को साढ़े पांच बजे के करीब सूरज के भाई अंकित थापा ने डालनवाला पुलिस को इसकी जानकारी दी. पुलिस अधीक्षक नगर श्वेता चौबे ने बताया कि घटना की सूचना बहुत ज्यादा देर से मिली. देर रात ही साफ हो पाया कि दोनों की सगाई हो चुकी थी.

इंदर रोड निवासी सुखमाया ने दो माह पहले भी खुदकुशी का कोशिश किया था. लेकिन, किसी तरह उसकी जान बच गई थी. पुलिस की जाँच में सामने आया है कि सुखमाया अपने ज़िंदगी साथी को लेकर असंतुष्ट थी.
यह भी बताया गया है कि सूरज थापा की नशे की लत को लेकर वह बहुत ज्यादा दुखी थी. सुखमाया ने कई बार सूरज को नशा छोड़ने को बोला था. इसी बात को लेकर उनमें कई बार झगड़ा भी हो गई थी.

सुखमाया व सूरज थापा की मृत्यु से दोनों परिवार सदमे में है. सूरज की मां का तो रोते-रोते बुरा हाल है. अनहोनी के समय सूरज का छोटा भाई अंकित थापा अपने कार्य पर था, इसलिए वह पुलिस को ज्यादा कुछ नहीं बता पाया.

ऐसी ही स्थिति सुखमाया के परिजनों की है. वो भी कुछ ज्यादा नहीं बोल पाए. पुलिस का बोलना है कि आज परिवार के नार्मल होने पर उनसे बात कर आत्महत्या के कारण पता लगाया जाएगा.