मेनोपॉज के दौरान वेजाइना में होते हैं ये बड़े परिवर्तन, जानिए

मेनोपॉज के दौरान वेजाइना में होते हैं ये बड़े परिवर्तन, जानिए

मेनोपॉज के दौरान न केवल स्त्रियों के शरीर में कई तरह के परिवर्तन जैसे वजन बढ़ना, थकान, अनिद्रा, कमजोरी, रात के समय बहुत अधिक पसीना आना, पेट में गैस बनना आदि महसूस होते हैं. बल्कि वेजाइना में भी कई तरह के परिवर्तन जैसे ड्राईनेस, एस्ट्रोजन की कमी आदि दिखने देने लगते हैं. आइए इस आर्टिकल के माध्यम से ऐसे ही कुछ परिवर्तन व उनसे बचने के तरीकों के बारे में जानें.

स्मैल का बदलना

कुछ स्त्रियों में वेजाइना से अजीब सी स्मैल आने लगती हैं. व वह इस स्मैल से इतना परेशान होती हैं कि बार-बार वेजाइना को साफ करती हैं. लेकिन क्या आप जानती हैं कि ऐसा क्यो होता है तो हम आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि मेनोपॉज के बाद बहुत बार ऐसा वेजाइना में बैक्टीरिया के लेवल में परिवर्तन के कारण होता है व आमतौर पर प्रोबायोटिक का इस्तेमाल करके बहुत जल्दी इसे अच्छा भी किया जा सकता है.इसके अतिरिक्त मेनोपॉज के दौरान स्त्रियों को पेल्विक पेन भी होता है. बहुत सारी महिलाएं पेल्विक दर्द का अनुभव कर सकती हैं.

वेजाइना में ड्राईनेस:मेनोपॉज के दौरानवेजाइनामें सबसे बड़ी समस्या ड्राईनेस की होती है. इस समस्या के कारण महिला बहुत असहज हो जाती है. इस दौरान यौन संबंध बहुत ही कष्टकारी होता है. क्योंकि इस समय महिला के वेजाइना में नेचुरल लुब्रिकेंट बंद हो जाता है. स्त्रियों में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन होता है, मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन हार्मोन का स्राव कम होने लगता है जिसकी वजह से वेजाइना में ड्राईनेस की समस्या अधिक होती है.

एस्ट्रोजन वेजाइना की दीवारों को लुब्रिकेंट रखने के लिए जिम्मेदार होता है, इसलिए जैसे ही इस हार्मोन का लेवल कम होना प्रारम्भ होता है, आप पहले से कहीं ज्यादा ड्राईनेस महसूस करती हैं. वेजाइना के टिश्यु अधिक पतले व गम्भीर हो जाते है, व वेजाइना कम लोचदार हो जाती है. इसके अतिरिक्त एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी के कारण स्त्रियों की शारीरिक क्षमता कम होने लगती है. एस्ट्रोजन हार्मोन वेजाइना को लुब्रिकेंट बनाए रखने में हेल्प करती हैं, लेकिन जब यह कम हो जाता है तो वेजाइना ढीली होने लगती है. इसके कारण ही स्त्रियों में यौन ख़्वाहिश कम होने लगती है. जी हांमेनोपॉज के बादज्यादातर स्त्रियों की यौन इच्छा कम या बिल्कुल ही खत्म हो जाती हैं.

इसे दूर करने के लिए महिला को लुब्रिकेशन का इस्तेमाल करना चाहिए. लुब्रिकेशन के लिए नारियल का ऑयल वेजाइना पर लगाना बेहतर विकल्प होने कि सम्भावना है. इसमें एंटी-बैक्टीरियल व एंटी-फंगल गुण होते हैं जो इंफेक्शन से भी बचाता है. इस दौरान हार्मोन थेरेपी कराने के कई खतरे हो सकते हैं, ऐसे में बेहतर व सुरक्षित विकल्प के लिए एस्ट्रोजन थेरेपी का सहारा आप ले सकती हैं. इससे वेजाइना में ड्राईनेस की समस्या दूर हो जाती है. अगर मूड स्विंग व अनिद्रा की समस्या अधिक हो तो आप एस्ट्रोजन की गोलियां या फिर इंजेक्शन ले सकती हैं. लेकिन इन सभी चीजों के लिए हमेशा डॉक्टर के सम्पर्क में रहें व उनसे अपनी सारी प्रॉब्लम्स शेयर करें.