वैक्सीन के इतने दिन बाद मिलती है सुरक्षा वयस्कों को भी लगवाने चाहिए ये टीके

वैक्सीन के इतने दिन बाद मिलती है सुरक्षा वयस्कों को भी लगवाने चाहिए ये टीके

लां सेट ग्लोबल हेल्थ की एक रिपोर्ट के अनुसार सर्वाइकल कैंसर से होने वाली मौतें सर्वाधिक हिंदुस्तान में होती हैं. स्त्रियों को होने वाले इस सर्वाइकल (गर्भाशय) कैंसर व कई तरह के संक्रमण से एचपीवी नामक टीके (वैक्सीन) से बचाव किया जा सकता है.

 इसी तरह बिहार के गोरखपुर व दूसरे इलाकों में बच्चों की मौतों के लिए जिम्मेदार जापानी बुखार से बचाव के लिए जेईवी (जापानी एंसेफेलाइटिस) नामक वैक्सीन दी जा सकती है. वैक्सीनेशन के बाद ढेर सारी बीमारियों व संक्रमण से 90 प्रतिशत तक बचाव किया जा सकता है. इसके लिए सबसे महत्वपूर्ण बात है कब-कौन सा टीका लगवाना चाहिए. फिजिशियन व बाल रोग एवं एलर्जी विशेष डॉ अव्यक्त अग्रवाल ने वैक्सीनेशन गाइड में बताया कब-कौन सा टीका लगवाएं

वयस्कों को भी लगवाने चाहिए ये टीके
सर्वाइकल कैंसर से बचने के लिए लड़कियों को 10 से 45 साल की आयु तक एचपीवी का टीका लगता है. हालांकि इसे लगवाने की आदर्श आयु 29 वर्ष तक है, लेकिन 45 वर्ष तक भी इसे लगवाया जा सकता है. इसे गर्भावस्था के दौरान नहीं लगवाना चाहिए. इसके अतिरिक्त टाइफॉइड, चिकनपॉक्स, हेपेटाइटिस-ए, स्वाइन फ्लू व मीजल्स, रुबेला व मम्प्स से बचने के लिए भी टीके लगवाने चाहिए. हालांकि इनमें अधिकतर टीके बचपन में लग जाते हैं, लेकिन अगर किन्हीं कारणों से नहीं लगे हैं, तो आप अभी भी लगवा सकते हैं.

  • टाइफॉइड कॉन्जुगेट : यह टाइफॉइड का नया टीका है. इसकी मूल्य 1800 रुपए के करीब है. यह पांच सालों के लिए 90 फीसदी तक सुरक्षा प्रदान करता है. इसे 9 माह की आयु या उसके बाद भी लगवाया जा सकता है.
  • हेपेटाइटिस ए : बच्चों और बड़ों में होने वाले पीलिया के 90 फीसदी मुद्दे हेपेटाइटिस ए की वजह से होते हैं. इसके लिए इस टीके का एक डोज़ ज़िंदगी भर सुरक्षा देता है. इसकी मूल्य 1500 रुपए के करीब है. एक अन्य प्रकार का टीका भी बाज़ार में उपलब्ध है. हालांकि इसके दो डोज़ लगवाने पड़ते हैं.
  • वैरिसेला वैक्सीन : यह वैक्सीन चिकनपॉक्स (छोटी माता) से बचाव करता है. भिन्न-भिन्न ब्रांड्स की दवाओं में इसकी मूल्य 1600 से 2100 रुपए के बीच है. इसका एक डोज़ भी 90 फीसदी से ज़्यादा सुरक्षा देता है. लाइफटाइम में इसके दो डोज़ लगते हैं.
  • स्वाइन फ्लू वैक्सीन : यह वैक्सीन स्वाइन फ्लू के अतिरिक्त सामान्य फ्लू से भी रक्षा करता है, लेकिन यह सिर्फ एक वर्ष के लिए ही सुरक्षा प्रदान करता है. इसका टीका हर वर्ष लगवाना पड़ता है. इसे इंजेक्शन के अतिरिक्त स्प्रे रूप में भी ले सकते हैं. इंजेक्शन 6 माह से ऊपर किसी भी आयु में लगवाया जा सकता है. वहीं स्प्रे 2 वर्ष की आयु के बाद लिया जा सकता है. इसकी मूल्य 700 से 800 रुपए के लगभग है. गंभीर मस्तिष्क ज्वर व रक्त संक्रमण से बचाव में मैनिगोकोकल वैक्सीन सुरक्षा प्रदान करती है. इसकी मूल्य लगभग 5000 रुपए है.

जन्म से लेकर 5 साल तक के टीके

  • जन्म : बीसीजी, ओपीवी (पोलियो ड्रॉप), हेपेटाइटिस बी
  • 6 हफ्ते : डीपीटी, इंजेक्शन पोलियो, एचआईवी, हेपेटाइटिस बी, ओरल पोलियो, रोटावायरस, Pneumococcal (Pcv)
  • 10 हफ्ते : हेपेटाइटिस बी छोड़कर छठवें हफ्ते में लगे सारे वैक्सीन
  • 14 हफ्ते : छठवें हफ्ते में लगने वाले वैक्सीन दोबारा
  • 9 महीने : एमएमआर, टाइफॉइड कॉन्जुगेट वैक्सीन
  • 1 साल : हेपेटाइटिस ए
  • 15 महीने : एमएमआर
  • 16 महीने : चिकनपॉक्स
  • 18 महीने : डीपीटी, इंजेक्शन पोलियो, ओरल पोलियो, पीसीवी बूस्टर
  • 2 वर्ष : टाइफॉइड
  • 5 वर्ष : टाइफॉइड, डीपीटी, चिकनपॉक्स
  • 10 वर्ष : टिटनेस, टाइफॉइड

कैसे कार्य करते हैं टीके?
अधिकांश टीकों में मरे हुए वायरस अथवा बैक्टीरिया होते हैं या फिर कमज़ोर कर दिए गए जीवित वायरस उपस्थित होते हैं, जिससे यह टीके शरीर में जाकर इन कीटाणुओं के ख़िलाफ़ लड़ने वाली प्राकृतिक एंटीबाडी बनाते हैं. हालांकि मरे हुए होने या कमज़ोर होने से ये खुद बीमारी की वजह नहीं बनते. भिन्न-भिन्न बीमारियों में उत्पन्न एंटीबाडी भिन्न-भिन्न समय तक जीवित रहती हैं. जैसे चिकनपॉक्स, खसरे, हेपेटाइटिस बी व हेपेटाइटिस ए में ज़िंदगी भर सुरक्षा बनी रहती है, जबकि टिटनेस, टाइफॉइड जैसी बीमारियों में कुछ साल सुरक्षा रहती है. वहीं इन्फ्लुएंजा, स्वाइन फ्लू वायरस वर्ष दर वर्ष खुद में परिवर्तन करता है, इसलिए यह वैक्सीन हर वर्ष लगवानी पड़ती है. टिटनेस के टीके के बारे में भी लोगों को भ्रम है. अगर आपने टिटनेस का टीका लगवाया है, तो पांच वर्ष के दौरान चोट लगने पर अलग से इंजेक्शन लगवाने की आवश्यकता नहीं है. वैसे लगवाते हैं तो नुकसान भी नहीं है.

वैक्सीन के 10 दिन बाद मिलती है सुरक्षा
कोई भी वैक्सीन 100 फीसदी सुरक्षा नहीं देता. 90 फीसदी से ज़्यादा सुरक्षा देने वाला वैक्सीन बहुत अच्छा माना जाता है. वैक्सीन लगने के 10 दिन के बाद ही सुरक्षा मिलनी प्रारम्भ होती है. जैसे आज चिकनपॉक्स का टीका लगवाया है, लेकिन यदि आपने चिकनपॉक्स वायरस का संक्रमण एक सप्ताह पहले ग्रहण किया था तो अगले दो दिन में टीका लगा होने के बावजूद आप बीमार हो सकते हैं.

मुफ्त हैं यह टीके
बच्चों में उल्टी-दस्त होने का सबसे बड़े कारण रोटावायरस है. इससे बचने के लिए लगने वाला रोटावायरस वैक्सीन का डोज सरकारी अस्पतालों में मुफ्त है. प्राइवेट में इसकी मूल्य 700 से 1400 रुपए तक है. रोटावायरस वैक्सीन के डोज़ छह हफ्ते से ज्यादा के बच्चों को लगते हैं. इसके तीन डोज़ एक-एक महीने के अंतराल से व 6 माह की आयु के भीतर तीनों डोज़ हो जाना चाहिए. इसके अतिरिक्त न्यूमोनिया, मस्तिष्क ज्वर, सेप्टिसमिया (गंभीर रक्त संक्रमण), कान एवं गले के इन्फेक्शन से रक्षा के लिए पीसीवी या pneumococcal नाम का टीका लगता है. यह भी मुफ्त है, वहीं अगर व्यक्तिगत रूप से लगवाना चाहते हैं, तो इसकी मूल्य 1600 से 3800 रुपए तक है.