उपचुनावों के बाद बज सकता है नगर निकाय चुनाव का बिगुल

उपचुनावों के बाद बज सकता है नगर निकाय चुनाव का बिगुल

उत्तर प्रदेश में दोस विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव के नतीजों के तुरंत बाद प्रदेश में नगर निकाय चुनावों की दुदुंभी कभी भी बज सकती है सभी तैयारी लगभग मुकम्मल कर ली गयी हैं राज्य निर्वाचन आयोग ने वोटर लिस्ट तैयार कर ली है अब गवर्नमेंट को सीटों का आरक्षण करना बाकी है इस प्रक्रिया को पूरा करने के तुरन्त बाद कभी भी चुनावों का घोषणा हो जायेगा नगर निकाय चुनावों में हमेशा से ही भाजपा का दबदबा रहा है पिछले चुनाव में मेयर की 16 में से 14 सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की थी इस बार एक और नगर निगम बढ़ गया है- शाहजहांपुर

नगर निकाय चुनाव 2022 में 2017 के मुकाबले 95 लाख वोटर अधिक है 2022 में एक नगर निगम, दो नगर पालिका परिषद और 108 नगर पंचायत बढ़े हैं यानी पिछले पांच वर्षों में 111 निकाय बढ़ गये हैं 2017 में नगर निगम 16 थे अब शाहजहांपुर भी नगर निगम बन गया है जिसकी वजह से संख्या बढ़कर 17 हो गई है 2017 में नगर पालिका परिषद 198 थी अब इसकी संख्या 200 हो गई है नगर पंचायतें थीं 438, अब 546. अब कुल 546 नगर पंचायतों में कुल 7208 वार्ड, 10922 पोलिंग बूथ, 4620 मतदान केन्द्र और 93 लाख 5 हजार 232 वोटर हैं अब कुल 17 नगर निगमों में 1420 वार्ड, 15 हजार 445 पोलिंग बूथ, 4549 मतदान केन्द्र और 1 करोड़ 87 लाख 99 हजार 953 वोटर हैं अब कुल 200 नगर पालिका परिषदों में 5352 वार्ड, 16580 पोलिंग बूथ, 5179 मतदान केन्द्र और 1 करोड़ 46 लाख 47 हजार 429 वोटर हैं 2017 में प्रदेश के कुल 652 नगर निकायों में 3 करोड़ 32 लाख वोटर थे जबकि अब 4 करोड़ 27 लाख 52 हजार 614 वोटर हैं और निकायों की संख्या बढ़कर हो गयी है 7638. सबसे अधिक नगर निकाय बदायूं में हो गये हैं यहां कुल 21 नगर निकाय अब हो गये हैं लखनऊ में नगर निकायों की संख्या 11 है