उत्तर प्रदेश में अब जमीन, मकान, दुकान आदि की रजिस्ट्री कार्यों में लगने वाले समय में हुआ यह परिवर्तन 

उत्तर प्रदेश में अब जमीन, मकान, दुकान आदि की रजिस्ट्री कार्यों में लगने वाले समय में हुआ यह परिवर्तन 

उत्तर प्रदेश में अब जमीन, मकान, दुकान आदि की रजिस्ट्री व शादी का पंजीकरण करवाने में देर नहीं लगेगी. प्रदेश सरकार ने जनहित गारंटी अधिनियम-2011 की धारा-3 के गुलाम शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए कुछ संशोधन किए हैं. गवर्नर ने इन संशोधनों पर अधिसूचना जारी कर दी है. इसमें सैनिक कल्याण विभाग के कार्यों में लगने वाले समय में भी परिवर्तन किया गया है.

स्टाम्प एवं पंजीकरण विभाग में वजन मुक्त प्रमाण लेटर (यानि पिछले 12 सालों में उक्त भू-सम्पत्ति बंधक तो नहीं हुई, किसी को बेची तो नहीं गई, विवादित तो नहीं है) हासिल करने के लिए उप निबंधक को आनलाइन आवेदन के बाद निर्धारित शुल्क जमा करने के एक सप्ताह में यह प्रमाण लेटर जारी करना होगा. अगर इस निर्धारित अवधि में प्रमाण-पत्र जारी नहीं होता है तो आवेदक की ओर से कोई अपील होती है तो प्रथम अपीलीय ऑफिसर यानी सहायक महानिरीक्षक निबंधक इसे एक सप्ताह में निस्तारित करेंगे.

एक हफ्ते में निस्तारित करनी होगी अपील
दूसरी अपील होने पर द्वितीय अपीलीय ऑफिसर उप महानिरीक्षक निबंधक भी इसे एक हफ्ते में ही निस्तारित करेंगे. इसी क्रम में शादी पंजीकरण के मुद्दे में भी उ। प्र। विवाह पंजीकरण नियमावली 2017 में भी परिवर्तन किया गया है. आनलाइन आवेदन के बाद दस्तावेजों के साथ पक्षकारों के रजिस्ट्री ऑफिस में मौजूद होने की तारीख को ही शादी पंजीकरण जारी कर दिया जाएगा. अगर उस दिन प्रमाण लेटर नहीं जारी हुआ व आवेदक ने इस मुद्दे में कोई की तो उसे सहायक महानिरीक्षक निबंधक एक हफ्ते में निपटाएंगे. दूसरी बार अपील होने पर उप महानिरीक्षक निबंधक भी इसे एक हफ्ते में ही निस्तारित करेंगे.

सभी पक्षकारों के उपस्थित होने पर जारी होगी रजिस्ट्री
इसी तरह जमीन जायदाद के पंजीकरण के मुद्दे में उपनिबंधक दस्तावेजों व नियमानुसार सभी संबंधित पक्षों के हस्ताक्षर वाले बैनामे के साथ आनलाइन आवेदन के बाद आवश्यक पक्षकारों के निबंधन ऑफिस में मौजूद होने की तारीख को ही रजिस्ट्री जारी करेंगे. इस मुद्दे में अपील होने पर सहायक महानिरीक्षक निबंधक एक हफ्ते में व दूसरी अपील होने पर उप महानिरीक्षक निबंधक भी एक हफ्ते में ही इसे निस्तारित करेंगे.

दिन में पूर्व सैनिकों व शहीदों की पत्नियों को जारी होगा पहचान पत्र
जिला सैनिक कल्याण ऑफिसर अब पूर्व सैनिकों व शहीद सैनिकों की पत्नियों को पहचान लेटर जारी करने में हीला-हवाली नहीं कर पाएंगे. उन्हें हर हाल में 5 काम दिवसों में आवेदक को पहचान लेटर जारी करना ही होगा. इस मुद्दे में अपील होने पर जिला सैनिक कल्याण ऑफिसर उसे 30 दिन में निपटाएंगे. दूसरी अपील होने पर डीएम भी उसे 30 दिन में ही निस्तारित करेंगे. डुप्लीकेट पहचान लेटर अधिकतम 15 दिन में जारी किया जाएगा. पहली और दूसरी अपील होने पर उपरोक्त व्यवस्था के अनुसार ही निस्तारण किया जाएगा.