जानिए इस एक्टर ने अमिताभ को बनाया सुपरस्टार

जानिए इस एक्टर ने अमिताभ को बनाया  सुपरस्टार

बॉलीवुड इंडस्ट्री में एक्टर व कॉमेडियन महमूद (Mehmood) को उनकी जिंदादिली के लिए जाना जाता है. वे इंडस्ट्री के एक मात्र ऐसे कॉमेडी एक्टर थे जिनका कद हीरो से भी ऊपर होता था.

Related image

उस दौर में उन्हें लीड हीरो से ज्यादा फीस मिलती थी. उनका स्टारडम सब पर भारी था, इतना ही नहीं फिल्म मेकर्स फिल्म को हिट कराने के लिए पोस्टर पर महमूद (Mehmood) की फोटो लगाना बेहद महत्वपूर्ण समझते थे. सफलता की ऊंचाइयां छूने वाले महमूद को जब भी किसी की मदद करने का मौका मिलता था वो कभी पीछे नहीं हटते थे. ये बात अलग है कि आखिरी समय में जब उन्हें किसी की आवश्यकता पड़ी तो मुंह मोड़ लिया था. 23 जुलाई, 2004 को महमूद इस संसार को अलविदा कह गए थे. आइए जानते हैं उनकी डेथ एनिवर्सरी पर उनकी व्यक्तिगत व प्रोफेशनल जीवन से जुड़े कुछ सीक्रेट्स

महमूद ने बनाया अमिताभ को सुपरस्टार
महमूद (Mehmood) का जन्म 19 सितंबर, 1932 में हुआ था. इंडस्ट्री में अपनी दरियादिली के लिए पहचाने जाने महमूद 71 वर्ष की आयु में संसार को अलविदा कह गए थे. महमूद ही वो कॉमेडी एक्टर हैं जिन्होंने आज सदी के महानायक कहलाए जा रहे एक्टर अमिताभ बच्चन (amitabh bachchan) का कॅरियर बनाया था. कभी अमिताभ बच्चन, महमूद को अपने पिता समान मानते थे. लेकिन महमूद को उस समय तगड़ा झटका लगा था जब वह अस्पताल में बीमार पड़े थे व उन्होंने अमिताभ बच्चन (amitabh bachchan) से मदद मांगी थी.खुद महमूद ने एक साक्षात्कार में खुलासा किया था,'आज मेरे बेटे (अमिताभ बच्चन) के पास फिल्मों की लाइन लगी है. जिस आदमी के पास सक्सेस होती है उसके दो पिता होते हैं-एक जिसने पैदा किया व दूसरा जिसने सफलता तक पहुंचाया. मैंने उसकी बहुत ज्यादा मदद की. कई फिल्मों में कार्य दिलाया. उसे मैंने अपने घर में रहने के लिए स्थान दी.'

बाइपास सर्जरी होने पर देखने भी नहीं गए बिग बी
महमूद ने बोला था, 'वैसे तो अमिताभ मेरी बहुत इज्जत करता है, लेकिन उसकी एक हरकत से मुझे गहरा धक्का सा लगा. उसके पिता हरिवंशराय बच्चन गिर गए थे तो उन्हें देखने के लिए मैं अमिताभ के घर गया, लेकिन जब मेरा बाईपास सर्जरी हुआ तो अमिताभ अपने पिता के साथ ब्रीच कैंडी अस्पताल तो आया, लेकिन वो मुझे देखने नहीं आया. अमिताभ ने साबित कर दिया कि वास्तविक पिता वास्तविक होता है जबकि नकली पिता नकली.'

निधन पर अमिताभ ने लिखा था इमोशनल लेटर
जुलाई 2004 में जब महमूद साबह इस संसार को छोड़कर चले गए थे तो अमिताभ ने लिखा था, 'एक एक्टर के तौर पर स्थापित करने में उन्होंने हमेशा मदद की. महमूद भाई मेरे कॅरियर के शुरुआती ग्राफ में मदद करने वालों में से एक थे. वो पहले प्रोड्यूसर थे जिन्होंने मुझे 'बॉम्बे टू गोवा' में लीड भूमिका दिया था. मेरी कई फिल्में फ्लाप होने के बाद मैंने घर जाने का मन बना लिया था तब महमूद साबह ने भाई अनवर ने मुझे रोका था.'