जाने क्यों मनाया जाता है योग दिवस

जाने क्यों मनाया जाता है योग दिवस

आपका मन अगर अशांत है या शरीर की क्रियाशीलता कम हो गई है, तो इससे लिए आपको अपने ज़िंदगी का कुछ वक्त योग को समर्पित करना चाहिए जिससे कि आप न सिर्फ स्वस्थ रह सकें बल्कि अंदरूनी शांति से भी जुड़ सके.

 हर वर्ष 21 जून को मनाया जाता है.ऐसे में मन में कई बार यह सवाल आता है कि 21 जून को ही योग दिवस (Yoga Day) क्यों मनाया जाता है.आइए, जानते हैं इससे जुड़ी खास बातें.


21 जून ही क्यों चुना गया 
भारतीय संस्कृति के अनुसार, ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है. 21 जून वर्ष का सबसे बड़ा दिन माना जाता है. इस दिन सूर्य जल्दी उदय होता है व देर से ढलता है इसीलिए ही 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है.

कब से हुई शुरुआत 
आज से छह वर्ष पहले 2015 में पहली बार मनाया गया था.इस वर्ष संसार छठा योग दिवस मना रही है.11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या दुनिया योग दिवस के रूप में मनाए जाने को मान्यता दी थी. इस घोषणा के बाद अगले वर्ष यानी 2015 से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पूरी संसार में मनाया जाने लगा था.

क्या है इस वर्ष की थीम 
हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी योग दिवस को एक थीम दी गई है.लेकिन इस वर्ष कोरोनावायरस महामारी यानी कोविड 19 के चलते लोगों को ऐसी थीम दी गई है, जो स्वास्थ्य व स्वस्थ्य को बढ़ावा देगी. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 थीम है घर में रहते हुए अपने परिवार के साथ योग करना.

क्या है योग दिवस का महत्व 
योग को प्राचीन भारतीय कला का एक प्रतीक माना जाता है। भारतीय योग को ज़िंदगी में सकारात्मकता व ऊर्जावान बनाए रखने के लि‍ए जरूरी मानते हैं. इस दिन को मनाने का उद्देश्य योग के प्रति लोगों में जागरुकता पैदा करने के साथ लोगों को तनावमुक्त करना भी है.