स्टाइलिश Preetham Jukalker ने Samantha संग लिंक अप की खबरों पर तोड़ी चुप्पी, क्या इनकी वजह से टूटी शादी?

स्टाइलिश Preetham Jukalker ने Samantha संग लिंक अप की खबरों पर तोड़ी चुप्पी, क्या इनकी वजह से टूटी शादी?

साउथ सिनेमा (South Cinema) के फेवरेट कपल सामंथा (Samantha) और अपना रिश्ता टूटने के बाद भी हैडलाइन्स में बरकरार हैं इनकी विवाह टूटने के पीछे की वजह के बारे में अभी तक ठीक खुलासा नहीं हो पाया है कई मीडिया रिपोर्ट्स इसके पीछे अदाकारा को दोष वार मानती हैं तो कुछ में सामंथा और स्टाइलिस्ट Preetham Jukalker की लिंक अप की खबरें तलाक की वजह मानी जाती हैं ऐसे में अब स्टाइलिस्ट ने इस मुद्दे को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी है

टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए साक्षात्कार में प्रीतम जुकलकर ने खुलासा किया कि ‘वो नागा चैतन्य की चुप्पी से बहुत ज्यादा निराश हैं सामंथा को वो अपनी बहन की तरह मानते हैं और उन्हें जीजी कहते हैं सभी जानते हैं कि वो उन्हें जीजी कहते हैं ‘जीजी’ शब्द का इस्तेमाल उत्तरी हिंदुस्तान में किया जाता है ’ इस बात का खुलासा करने के बाद प्रीतम ने बोला कि ‘ऐसे में कोई कैसे उन दोनों को लेकर लिंकअप की खबरें जोड़ सकता है?’ इसके साथ ही उन्होंने नागा चैतन्य की चुप्पी को लेकर बोला कि ‘वो कुछ वर्षों से नागा चैतन्य को जानते हैं वो भी सामंथा और उनके संबंध के बारे में जानते हैं 

इसके अतिरिक्त प्रीतम ने आगे बोला कि ‘नागा चैतन्य को इस मुद्दे को लेकर आगे आना चाहिए और बताना चाहिए उन दोनों को लेकर जो अफवाहें उड़ाई जा रही है उस पर विराम लगाना चाहिए यदि उन्होंने एक बयान भी जारी किया होता तो बहुत फर्क पड़ा होता अभी कुछ तथाकथित प्रशंसक हैं, जो झूठी अफवाहें फैला रहे हैं उन्हें लगता है कि नागा के एक स्टेटमेंट से इन लोगों को कंट्रोल में किया जा सकता है 

प्रीतम ने खुलासा करते हुए बोला कि ‘उन्हें सोशल मीडिया पर ढेर सारे गालियों वाले मैसेज भी आ रहे हैं, जो कि उनके मानसिक स्वास्थ्य के लिए भारी पड़ रहा है ’ हालांकि, उन्होंने ये भी बोला कि ‘वो हमेशा सामंथा के साथ खड़े रहेंगे 

सामंथा की दोस्त ने किया खुलासा

इसके अतिरिक्त भी सामंथा और नागा चैतन्य के टूटे संबंध की वजह को लेकर तमाम अफवाहें चल रही हैं पिछले दिनों उनकी दोस्त और अपकमिंग फिल्म ‘शांकुतलम’ की निर्माता नीलिमा गुना (Nilima Guna) ने एक बयान में खुलासा किया कि ‘पिछले वर्ष जब उनके पिता निर्देशक गुणशेखर गारू और उन्होंने सामंथा को शाकुंतलम के लिए सम्पर्क किया तो उन्हें ये कहानी पसंद आई थी और वो इसे लेकर बहुत ज्यादा एक्साइडेड दिखी थीं लेकिन, अदाकारा ने उन्हें बताया था कि इसकी शूटिंग जुलाई और अगस्त तक पूरी कर लेना चाहती हैं क्योंकि अभी वो फैमिली प्लानिंग कर रही हैं 

इस दौरान उन्होंने ये भी बोला कि ‘उनकी टीम की ओर से सामंथा को विश्वास दिलाया गया था कि प्री-प्रोडक्शन और प्रॉपर प्लानिंग की वजह से पूरी शूटिंग तय समय में कर पाएंगे औक किसी तरह की कोई टेंशन नहीं होगी जैसे ही अदाकारा ने ये सारी बात सुनी थी तो उन्हें बहुत खुशी हुई थी ’ बताया जाता है कि इस दौरान सामंथा ने उनसे ये भी बोला था कि ‘ये उनकी अंतिम फिल्म होगी और इसके बाग वो लंबा ब्रेक लेना चाहती हैं और अपने बच्चे को दुनिया में लाना चाहती हैं 


Tesla: टेस्ला ने कर कम करने के लिए पीएमओ में दी दस्तक, इस वर्ष प्रारम्भ करना चाहती है इलेक्ट्रिक कार की बिक्री

Tesla: टेस्ला ने कर कम करने के लिए पीएमओ में दी दस्तक, इस वर्ष प्रारम्भ करना चाहती है इलेक्ट्रिक कार की बिक्री

Tesla Inc (टेस्ला इंक) ने भारतीय मार्केट में एंट्री करने से पहले इलेक्ट्रिक वाहनों पर आयात करों को कम करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के ऑफिस से निवेदन किया है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चार सूत्रों ने बताया, टेस्ला ने कुछ भारतीय वाहन निर्माताओं की आपत्तियों को खारिज कर दिया. टेस्ला इस वर्ष हिंदुस्तान में आयातित कारों की बिक्री प्रारम्भ करना चाहती है. लेकिन उनका बोलना है कि हिंदुस्तान में कर दुनिया में सबसे अधिक हैं.


टेस्ला ने कर कटौती के लिए सबसे पहले जुलाई में निवेदन किया था. जिस पर देश में ऑटोमोबाइल सेक्टर की कई लोकल कंपनियों ने असहमति जताई थी. इनका बोलना है कि इस तरह के कदम से घरेलू मैन्युफेक्चरिंग में निवेश बाधित होगा. 

हिंदुस्तान में टेल्सा के नीति प्रमुख मनुज खुराना सहित कंपनी के ऑफिसरों ने पिछले महीने एक बंद दरवाजे की मीटिंग में कंपनी की मांगों को मोदी के ऑफिसरों के सामने रखा, और यह तर्क दिया कि कर बहुत अधिक हैं. इस चर्चा से परिचित चार सूत्रों ने यह बताया. 

तीन सूत्रों ने बोला कि टेस्ला ने अपने मुख्य कार्यकारी एलन मस्क और मोदी के बीच अलग से एक मीटिंग का निवेदन भी किया है. मोदी के ऑफिस और टेस्ला के साथ-साथ इसके कार्यकारी खुराना ने इस बारे में टिप्पणी के निवेदन का उत्तर नहीं दिया.

वैसे यह साफ नहीं है कि मोदी के ऑफिस ने विशेष रूप से टेस्ला को उत्तर में क्या बताया. लेकिन मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चार सूत्रों ने बताया कि अमेरिकी वाहन निर्माता की मांगों पर सरकारी ऑफिसरों की राय विभाजित हैं. कुछ ऑफिसर चाहते हैं कि कंपनी किसी भी आयात कर में कटौती पर विचार करने से पहले लोकल मैन्युफेक्चरिंग के लिए प्रतिबद्ध हो.
एक सूत्र के अनुसार, मोदी के ऑफिस में मीटिंग के दौरान, टेस्ला ने बोला कि हिंदुस्तान में शुल्क संरचना देश में उसके कारोबार को "व्यवहार्य प्रस्ताव" नहीं बनाएगी.

हिंदुस्तान 40,000 US डॉलर या उससे कम लागत वाले इलेक्ट्रिक वाहनों पर 60 फीसदी का आयात शुल्क और 40,000 US डॉलर से अधिक मूल्य वाले वाहनों पर 100 फीसदी शुल्क लगाता है. विश्लेषकों ने बोला है कि इन दरों पर टेस्ला की कारें खरीदारों के लिए बहुत महंगी हो जाएंगी और उनकी बिक्री को सीमित कर सकती हैं. 
तीन सूत्रों ने बोला कि टेस्ला ने अपने मुख्य कार्यकारी एलन मस्क और मोदी के बीच अलग से एक मीटिंग का निवेदन भी किया है. मोदी के ऑफिस और टेस्ला के साथ-साथ इसके कार्यकारी खुराना ने इस बारे में टिप्पणी के निवेदन का उत्तर नहीं दिया.

वैसे यह साफ नहीं है कि मोदी के ऑफिस ने विशेष रूप से टेस्ला को उत्तर में क्या बताया. लेकिन मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चार सूत्रों ने बताया कि अमेरिकी वाहन निर्माता की मांगों पर सरकारी ऑफिसरों की राय विभाजित हैं. कुछ ऑफिसर चाहते हैं कि कंपनी किसी भी आयात कर में कटौती पर विचार करने से पहले लोकल मैन्युफेक्चरिंग के लिए प्रतिबद्ध हो.