जल्द लॉन्च होंगे ये सस्ते 4G और 5G स्मार्टफोन्स, Samsung की बड़ी तैयारी

जल्द लॉन्च होंगे ये सस्ते 4G और 5G स्मार्टफोन्स, Samsung की बड़ी तैयारी

साउथ कोरियाई स्मार्टफोन कंपनी Samsung जल्द Galaxy A13 सीरीज स्मार्टफोन को लॉन्च करने जा रही है। इस सीरीज के तहत Galaxy A13 सीरीज के स्मार्टफोन को 4G के साथ ही 5G कनेक्टिविटी के साथ पेश किया जाएगा। ऐसा दावा किया जा रहा है कि Samsung Galaxy A13 सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन होगा। इससे पहले ही Galaxy A13 5G स्मार्टफोन की लॉन्चिंग की खबरें लीक हो चुकी है। लेकिन चिपसेट की कमी के चलते स्मार्टफोन की लॉन्चिंग में देरी हो रही है। हालांकि नई रिपोर्ट के मुताबिक Galaxy A13 सीरीज के स्मार्टफोन का प्रोडक्शन नोएडा स्थित फैक्ट्री में शुरू हो गया है। ऐसे में उम्मीद है कि Galaxy A13 4G स्मार्टफोन को जल्द भारत में लॉन्च किया जाएगा। जबकि Samsung Galaxy A13 5G को दिसंबर के आखिरी या फिर अगले साल की शुरुआत में लॉन्च किया जा सकता है।


Galaxy A13 स्मार्टफोन के स्पेसिफिकेशन्स 

अगर स्पेसिफिकेशन्स की बात करें, तो Samsung Galaxy A13 स्मार्टफोन में प्लास्टिक रियर पैनल के साथ ग्लॉसी फिनिश दिया जा सकता है। फोन एक क्वॉड रियर कैमरा सेटअप के साथ आएगा। Galaxy A13 4G स्मार्टफोन में एक 3.5mm हेडफोन जैनक, यूएसबी-सी पोर्ट और बॉटम में स्पीकर ग्रिल दिया जाएगा। जबकि दूसरी तरफ पावर बटन और वॉल्यूम रॉकर मिलेगा। Galaxy A13 5G स्मार्टफोन में एक 6.48 इंच का FHD+ LCD डिस्प्ले पैनल दिया जाएगा। जो वॉटर ड्रॉप नॉच डिस्प्ले सपोर्ट के साथ आएगा। फोन में MediaTek Dimensity 700 चिपसेट सपोर्ट दिया गया है। इसमें 6GB रैम और 128GB स्टोरेज का सपोर्ट मिलेगा। फोन 50 मेगापिक्सल ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप के साथ आएगा। पावर बैकअप के लिए 5000mAh बैटरी दी गई है, जिसे 25W फास्ट चार्जिंग का सपोर्ट मिलेगा। 


बायोगैस एसोसिएशन ने सरकार से ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ बनाने का आग्रह किया

बायोगैस एसोसिएशन ने सरकार से ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ बनाने का आग्रह किया

नयी दिल्ली। इंडियन बायोगैस एसोसिशन (आईबीए) ने सरकार से पांच साल के लिए 1.4 लाख करोड़ रुपये के आरंभिक प्रावधान के साथ ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ स्थापित करने का अनुरोध किया है। संगठन ने कहा है कि इससे पांच करोड़ किसानों को लाभ पहुंचेगा तथा कच्चे तेल के आयात पर होने वाला खर्च भी कम होगा। आईबीए ने एक बयान में कहा कि किफायती परिवहन के लिए टिकाऊ विकल्प (एसएटीएटी) योजना के तहत पांच हजार संयंत्रों के लक्ष्य को पूरा करने में इस तरह के कोष की स्थापना स्वागत योग्य कदम होगा।

संगठन के अध्यक्ष ए आर शुक्ला ने कहा, ‘‘सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के बारे में लगातार बात कर रही है। इस योजना से पांच करोड़ किसानों को फायदा पहुंचेगा। यह कोष बनने पर भारत जीवाश्म ईंधन का आयात कम कर सकेगा और किसानों को भी जैविक उर्वरक मिल सकेगा।’’ बायोगैस एसोसिशन ने शहरों में गैस वितरण नेटवर्क और प्राकृतिक गैस पाइपलाइन में बायोमीथेन (सीबीजी) के मिश्रण के लिए मात्रा को परिभाषित करने का भी सुझाव दिया है।

उसने कहा कि पहले पांच साल के लिए 5 प्रतिशत का एक अस्थायी मिश्रण कोटा तय किया जा सकता है। उसके बाद 10 साल में इसे धीरे-धीरे बढ़ाकर 10 प्रतिशत किया जा सकता है। आईबीए ने कहा कि जीएसटी परिषद ने बायोगैस संयंत्र से संबंधित उपकरण और उनके पुर्जों पर जीएसटी की दर पांच फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी करने की घोषणा की जिससे बायोगैस के उत्पादकों के लिए स्थिति चुनौतीपूर्ण हो जाएगी।