आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग के क्षेत्र में अनुसंधान सुविधाओं व प्रशिक्षण के लिए चितकारा यूनिवर्सिटी ने एनईसी के साथ सहयोग का किया एलान

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग के क्षेत्र में अनुसंधान सुविधाओं व प्रशिक्षण के लिए चितकारा यूनिवर्सिटी ने एनईसी के साथ सहयोग का किया एलान

चंडीगढ़, 9 दिसंबर (ट्रिन्यू)

महत्वाकांक्षी विद्यार्थियों के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग और हाई- परफारमेंस कंप्यूटिंग (एचपीसी) के क्षेत्र में अनुसंधान सुविधाएं और व्यावहारिक प्रशिक्षण देने के उद्देश्य से चितकारा यूनिवर्सिटी ने एनईसी कारपोरेशन इण्डिया के साथ अपने योगदान का घोषणा किया है. एनईसी कारपोरेशन इण्डिया और चितकारा यूनिवर्सिटी के बीच इस मौके पर एक समझौते पत्र पर हस्ताक्षर किए गए. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में यूनिवर्सिटी के छात्रों, शिक्षकों और शैक्षणिक शोधकर्ताओं के कौशल को बढ़ाने के लिए यह समझौता एक अवसर प्रदान करेगा. इसके अतिरिक्त यह विद्यार्थियों को जॉब के लिए एनसी के भीतर और बाहर रोजगार के उपयुक्त अवसर देने के लिए प्रमाणपत्र मौजूद कराने में भी सक्षम करेगा.

इस अवसर पर चितकारा यूनिवर्सिटीकी प्रो-चांसलर,डॉ मधु चितकारा,ने कहा, तकनीकी शिक्षा का क्षेत्र अच्छी गति के साथ लगातार विकसित हो रहा है. यह समझौता युवा स्नातकों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग के इस्तेमाल को सिखाने के साथ विश्लेषणात्मक क्षमताओं के साथ सक्षम और सुसज्जित करेगा जो कि उन्हें डिजिटलाइजेशन और इनोवेशन के फायदा को मिश्रित शिक्षा की सहायता सेअनलॉक करने में सहायता करेगा. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म,एनईसीकारपोरेशन इण्डिया के महाप्रबंधक औरप्रमुख दीपक झाने कहा, आने वाले सालों में तकनीकी और सामाजिक बदलाव के चालक होंगे. यह संयुक्त प्रमाणन कार्यक्रम उद्योग के लिए पेशेवर तैयार करेगा. जटिल तकनीकी और व्यापार चुनौतियों का मुकाबला करने के लिएएनसी इण्डिया में हम अत्याधुनिक समाधानों पर ध्यान केंद्रित करने का कोशिश करते हैं और सब से ऊपर,हम हमारे ज्ञान,कौशल और विशेषज्ञता को आने वाली पीढ़ियों के साथ साझा करने में विश्वास करते हैं.