कश्मीर को लेकर फ्रांस के राष्ट्रपति ने कही ये बात, जानकर लोग हुए हैरान

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कश्मीर मसले को लेकर पूरी तरह से हिंदुस्तान के पक्ष में निर्णय सुनाया है. उन्होंने साफ बोला कि इस मामले के लिए द्विपक्षीय तरीका से वार्ता होनी चाहिए.

इस मुद्दे में किसी तीसरे पक्ष को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार को जी-7 सम्मेलन में भाग लेने के लिए फ्रांस पहुंचे.

यहां पर उन्होंने मैको से मुलाकात की. आमने-सामने की मीटिंग में दोनों के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई. बातचीत के बाद एक साझा प्रेस बयान में राष्ट्रपति मैक्रो ने बोला कि पीएम मोदी ने उन्हें जम्मू और कश्मीर पर हिंदुस्तान के लिए निर्णय से अवगत कराया है. उन्होंने इसे संप्रभुता से जुड़ा बताया है.

मैक्रों ने बोला कि हिंदुस्तान व पाक को इस मामले का निवारण निकालना होगा व किसी तीसरे पक्ष को इस क्षेत्र में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए या हिंसा को भड़काना नहीं चाहिए.' उन्होंने बोला कि क्षेत्र में शांति बनाए रखी जानी चाहिए व लोगों के अधिकारों की रक्षा की जानी चाहिए. फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने बोला कि वह कुछ ही दिनों में पाक के पीएम से भी बात करेंगे व उनसे कहेंगे कि बातचीत द्विपक्षीय होनी चाहिए. उन्होंने बोला कि फ्रांस अगले माह हिंदुस्तान को 36 राफेल लड़ाकू विमान लड़ाकू विमानों आपूर्ति कर देगा.

इस दौरान पीएम मोदी ने बोला कि हिंदुस्तान व फ्रांस के बीच दोस्ती किसी स्वार्थ पर नहीं टिकी है. यह 'स्वतंत्रता, समानता व भाइचारे के ठोस सिद्धांतों पर आधारित है. मोदी ने बोलाकि दोनों देश लगातार आतंकवाद का सामना कर रहे हैं. वह चाहते हैं कि सभी देश मिलकर आतंकवाद के विरूद्ध योगदान दें. उन्होंने बोला कि फ्रांस व हिंदुस्तान जलवायु परिवर्तन, पर्यावरण व प्रौद्योगिकी समावेशी विकास की चुनौतियों का सामना करने के लिए एक साथ खड़े हैं. मोदी ने कहा,'हम सब मिलकर एक सुरक्षित व समृद्ध संसार का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं.'