पीएम मोदी ने कहा कि 20वीं सदी की गलतियों को सुधार रहा 21वीं सदी का भारत

पीएम मोदी ने कहा कि 20वीं सदी की गलतियों को सुधार रहा 21वीं सदी का भारत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अलीगढ़ के साथ प्रदेश तथा देश को दो बड़े तोहफे दिए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ में दो घंटे के कार्यक्रम में राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने के साथ ही उत्तर प्रदेश डिफेंस कारिडोर के अलीगढ़ नोड की कार्य प्रगति की समीक्षा भी की। प्रधानमंत्री ने अपने 40 मिनट के संबोधन में युवाओं को प्रेरणा देने के साथ उनमें जोश भी भरा। प्रधानमंत्री आगरा एयरपोर्ट पर विशेष प्लेन से उतरने के बाद हेलीकॉप्टर से अलीगढ़ पहुंचे।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान वहां पर मौजूद लोगों को संबोधित भी किया। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को नमन करने के साथ ही उनकी कमी को काफी महमूस किया। पीएम मोदी ने युवाओं को राजा महेन्द्र प्रताप सिंह से परिचित कराने के साथ ही अलीगढ़ की महत्ता पर भी प्रकाश डाला। सीएम योगी आदित्यनाथ के कार्य की काफी प्रशंसा करने के साथ ही कहा कि उत्तर प्रदेश में निवेश का माहौल बना तो बड़ी संख्या में निवेशक आने लगे। जिससे कि देश का गौरव बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने ओडीओपी के तहत तालों व हार्डवेयर को नई पहचान दिलाने का काम किया है। इससे उद्योगों व एसएमएसई को विशेष लाभ होगा, अगले कुछ सालों में 900 करोड़ रुपया निवेश होगा। यूपी डिफेंस कारिडोर बड़े निवेश व रोजगार के बड़े अवसर लेकर आ रहा है यह तब होता है, जब निवेश के लिए जरूरी माहौल बनता है।

20वीं सदी की गलतियों को 21वीं सदी का भारत सुधार रहा

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज अलीगढ़ व पश्चिमी यूपी के लिए बड़ा दिन है। आज राधाष्टमी है। हमारे संस्कार हैं, जब शुभ कार्य होता है तो अपने बड़े याद आते हैं।  प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं तो आज इस धरती के महान सपूत, स्वर्गीय कल्याण सिंह जी की अनुपस्थिति बहुत ज्यादा महसूस कर रहा हूं। आज कल्याण सिंह जी हमारे साथ होते तो राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय और डिफेंस सेक्टर में बन रही अलीगढ़ की नई पहचान को देखकर बहुत खुश होते। राजा महेन्द्र प्रताप सिंह सिर्फ भारत की आजादी के लिए ही नहीं लड़े। उन्होंने भारत के भविष्य की नींव में भी सक्रिय योगदान दिया था। उन्होंने अपने देश-विदेश की यात्राओं से मिले अनुभवों का उपयोग भारत की शिक्षा व्यवस्था को आधुनिक बनाने के लिए किया। राजा महेन्द्र प्रताप ने वृंदावन में आधुनिक टेक्निकल कॉलेज को अपनी पैतृक संपत्ति को दान करके बनाया था। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के लिए जमीन भी राजा महेन्द्र प्रताप सिंह ने ही दी थी। आज मां भारती के अमर सपूत के नाम पर विश्वविद्यालय का निर्माण उन्हेंं सच्ची कार्याजंलि है। राजा महेन्द्र प्रताप सिंह जी के जीवन से हमें अदम्य इच्छाशक्ति, अपने सपनों को पूरा करने के लिए कुछ भी कर गुजरने वाली जीवटता सीखने को मिलती है। वह तो भारत की आजादी चाहते थे और अपने जीवन का एक-एक पल उन्होंने इसी के लिए समर्पित कर दिया था। उनकी गाथाओं को जानने से देश की कई पीढ़ियां वंचित रह गई।

पीएम मोदी ने कहा कि 20वीं सदी की उन गलतियों को आज 21वीं सदी का भारत सुधार रहा है। देश की आजादी के आंदोलन में कई महान व्यक्तित्वों ने अपना सब-कुछ खपा दिया। यह देश का दुर्भाग्य रहा है कि आजादी के बाद ऐसे राष्ट्र नायक और नायिकाओं को अगली पीढ़ियों को परिचित ही नहीं कराया गया। उन्होंने कहा कि महाराजा सुहेल देव हों, या फिर राजा महेन्द्र प्रताप सिंह हों। आज की पीढ़ी को इनसे परिचित कराने का ईमानदार प्रयास आज देश में हो रहा है। आज देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। ऐसी कोशिशों को और गति दी गई है। साथियों आज देश के हर युवा को जो बड़े सपने देख रहा है, उसे राजा के बारे में अवश्य पढ़ना चाहिए, जानना चाहिए। राजा की कुछ भी कर गुजरने की जीवटता हमें सीख देती है। प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे विचार को साकार करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम को बधाई। यह विवि आधुनिक शिक्षा का एक बड़ा केंद्र तो बनेगा ही, इसके साथ ही देश में डिफेंस से जुड़ी पढ़ाई और डिफेंस मैन्युफेक्चरिंग से जुड़ी टेक्नालाजी व मैनपावर बनाने का सेंटर भी बनेगा। इस विवि मे पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को काफी लाभ मिलेगा।

कोई लक्ष्य कठिन लगे, कुछ मुश्किलें नजर आएं तो राजा महेन्द्र प्रताप सिंह को जरूर याद कर लेना

पीएम मोदी ने कहा कि युवाओं से कहूंगा कि जब भी उन्हेंं कोई लक्ष्य कठिन लगे, कुछ मुश्किलें नजर आएं तो राजा महेन्द्र प्रताप सिंह को जरूर याद कर लेना। राजा जिस तरह एक लक्ष्य लेकर भारत की आजादी के लिए जुटे रहे, वह आज भी हम सबको प्रेरणा देता है। आज मैं राजा महेन्द्रप्रताप जैसे के नाम पर बन रही यूनिवर्सिटी का शिलान्यास कर रहा हूं। यह मेरा सौभाग्य है। साथियों, राजा महेन्द्र प्रताप सिंह भारत की आजादी के लिए ही नहीं लड़े, उन्होंने भारत के विकास की नींव में भी सक्रिय योगदान दिया। उन्होंने वृंदावन में आधुनिक टेक्निकल कालेज अपने संसाधन से बनवाया। एएमयू को बड़ी जमीन दी। आज 21 वीं सदी का भारत शिक्षा व कौशल के नए दौर की ओर बढ़ चला है, तब मां भारती के ऐसे अमर सपूत के नाम पर विवि का निर्माण हो रहा है।आज जब आपसे बात कर रहा हंं, तो मुझे एक और सेनानी गुजरात के सपूत श्याम जी का स्मरण हो रहा है। प्रथम विश्वयुद्ध के समय राजा श्याम जी व लाला हरदयाल से मिलने यूरोप गए। उसका परिणाम हमें अफगानिस्तान में भारत की पहली निर्वाचित सरकार के रूप मे देखने को मिला। जब मैं गुजरात का सीएंंम था, तो मुझे श्याम जी की अस्थियों को भारत लाने में सफलता मिली। उनके अस्थि कलश हमें मां भारती के लिए जीने की प्रेरणा देते हैं। 

कल तक तो अलीगढ़ घर-दुकानों की रक्षा करता था, अब देश की रक्षा को तैयार

उन्होंने कहा कि अभी तक लोग अपने घर की, अपनी दुकान की सुरक्षा के लिए अलीगढ़ के भरोसे रहते थे। क्योंकि अलीगढ़ का ताला अगर लगा होता था, तो लोग निश्चिंत हो जाते थे। 55-60 साल पुरानी बात है, हम बच्चे थे। तो अलीगढ़ से ताले के सेल्समैन थे, वह हर तीन महीने में हमारे गांव आते थे। वह ताला रख जाते थे, तीन महीने बाद पेमेंट ले जाते थे। चार-छह दिन हमारे गांव में रुकते थे। जो पैसे वसूलकर लाते थे, वह मेरे पिता के पास रख जाते थे। गांव छोड़़कर जाते थे, वह पिताजी से ले जाते थे। हम तो सीतापुर व अलीगढ़ शहर सुनते थे। कल तक जो अलीगढ़ दुकानों की रक्षा करता था, अब 21 वीं सदी में देश की सीमाओं की रक्षा करने का काम करेगा। यहां ऐसे आयुध बनेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश ही नहीं, दुनिया भी देख रही है कि राइफल से लेकर लड़ाकू विमान, युद्धपोत यह सब भारत में ही बनाने का अभियान चल रहा है। भारत दुनिया के बड़े डिफेंस इंपोर्टर की छवि से बाहर निकलकर दुनिया में एक्सपोर्टर के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है। इस बात के लिए उत्तर प्रदेश के सासंद के नाते मुझे गर्व है। डिफेंस कारिडोर के अलीगढ़ नोड में दर्जनों कंपनियों अब हथियार बनाने वाली है। यहां छोटे हथियार ड्रोन आदि बनाए जाएंगे। नए उद्योग लगाए जा रहे हैं। यह अलीगढ़ व आसपास के क्षेत्र को नई पहचान देगा। 

उत्तर प्रदेश हर छोटे-बड़े निवेशक के लिए बहुत आकर्षक स्थान 

पीएम मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश आज देश और दुनिया के हर छोटे-बड़े निवेशक के लिए बहुत आकर्षक स्थान बनता जा रहा है। यह तब होता है, जब निवेश के लिए जरूरी माहौल बनता है और जरूरी सुविधाएं मिलती हैं। आज उत्तर प्रदेश डबल इंजन सरकार के डबल लाभ का एक बहुत बड़ा उदाहरण बन रहा है। 

उत्तर प्रदेश में सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास 

पीएम मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ व उनकी टीम सबका साथ, सबका विकास व सबका विश्वास के मंत्र लेकर प्रदेश को नई भूमिका के लिए तैयार कर रही है। उन्होंने कहा कि अब उनको पर्याप्त अवसर दिया जा रहा है, जिनको अभी तक इससे दूर रखा गया। उन्हेंं शिक्षा व सरकारी नौकरी में अवसर दिए जा रहे हैं। मुझे देखकर खुशी होती है, जिस उत्तर प्रदेश को देश के विकास में रुकावट के रूप में देखा जाता था। आज वहीं यूपी देश के विकास का नेतृत्व कर रहा है। 2017 से पहले गरीबों की हर योजना में यहां रोड़े अटकाए जाते थे। एक-एक योजना को लागू करने के लिए केन्द्र से दर्जनों बार चिट्ठी लिखी जाती थी। उत्तर प्रदेश के लोग भूल नहीं सकते, पहले यहां किस तरह के घोटाले होते थे।। किस तरह राजकाज को भ्रष्टाचारियों के हवाले कर दिया था। आज योगी आदित्यनाथ सरकार पूरी ईमानदारी से विकास में जुटी है। एक दौर था, जब यहां शासन प्रशासन गुंडे और माफिया की मनमानी से चलता था।


अब वसूली करने वाले माफियाराज चलाने वाले सलाखों के पीछे हैं। सरकार में गरीब की सुनवाई भी है, गरीब का सम्मान भी है। योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में यूपी में सबको वैक्सीन मुफ्त वैक्सीन अभियान भी चल रहा है। यूपी में अब तक आठ करोड़ टीके लगे हैं। एक दिन में सबसे ज्यादा टीके लगानाा भी यूपी के नाम है। कोरोना में कोई भूखा नहीं रहे, इसके लिए गरीबों को मुफ्त अनाज दिया जा रहा है। जो काम दुनिया के बड़े बड़े देश नहीं कर पाए, वह भारत कर रहा है। हमारा यूपी कर रहा है। 

चौधरी चरण सिंह के योगदान को भी सराहा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में बदलाव का रास्ता स्वयं चौधरी चरण सिंह ने दशकों पहले दिखाया है। जो रास्ता चौधरी साहब ने दिखाया है, उससे किसानों को कितना लाभ हुआ, यह हम सभी जानते हैं। इस क्षेत्र की चिंता चौधरी साहब को थी, छोटे किसान के पास दो हेक्टेयर से कम जमीन है। हमारे देश में छोटे किसानों की संख्या 80 फीसद से ज्यादा है। दस किसानों में आठ किसान ऐसे हैं, जिनके पास छोटा जमीन का टुकड़ा है। सरकार का निरंतर प्रयास है कि सभी छोटे किसानों का विकास किया जाए। अनेक फैसले देश के छोटे छोटे किसानों को सशक्त कर रहे हैं कोरोना के वक्त सरकार ने किसानों के खातों में सीधे रकम ट्रांसफर की है। मुझे इस बात की खुशी है कि उत्तर प्रदेश में बीते चार वर्ष में एमएसपी पर नए रिकार्ड बने हैं। गन्ने के भुगतान की परेशानी को भी कम किया जा रहा है। एक लाख चालीस करोड़ से अधिक का भुगतान किया गया है। अब तो आने वाला साल यूपी के किसानों को नई संभावना खोलने वाला है। गन्ने का इथेनाल बनता है, इसे बढ़ाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि राजा महेन्द्र प्रताप जैसे राष्ट्रनायकों की प्रेरणा से हम सब सफल हों,। मुझे आप सबके दर्शन का सौभाग्य मिला। इसके लिए शुभकामनाएं देता हूं। राजा महेंद्र प्रताप सिंह, अमर रहें-अमर रहें, के नारे के साथ पीएम मोदी का संबोधन समाप्त हो गया।


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया राजा महेन्द्र सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास

अलीगढ़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराजा महेन्द्रप्रताप सिंह विश्वविद्यालय का बटन दबाकर शिलान्‍यास किया। इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी मौज़ूद रहीं। विश्वविद्यालय पर बनाई गई फिल्म दिखााई गई।

फिल्म में राजा महेन्द्रप्रताप के संक्षेप इतिहास के साथ ही शिक्षा के गुणवत्ता के बारे में भी बताया गया है। विश्वविद्यालय में डिफेंस से सम्बंधित पढ़ाई भी करायी जायेगी। 

अलीगढ़ में पीएम का स्वागत, सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- पीएम मोदी का काम पूरे विश्व में मिसाल 

उत्तर प्रदेश को नायाब तोहफा देने अलीगढ़ पहुंचे पीएम नरेन्द्र मोदी का सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंच पर अंगवस्त्र और स्मृति चिहिन् देकर स्वागत किया। पीएम मोदी ने भी इस मौके पर सभी का अभिनंदन किया।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीएम मोदी के स्वागत में अपने संबोधन की शुरुआत वृंदावन बिहारी लाल की जयकारे से शुरुआत की। उन्होंने कहा कि यहां आए भारी संख्या में लोगों का आभार व्यक्त करता हूं। आज राधा अष्टमी है। यह ब्रज का खास त्योहार है। आज देश के सबसे बड़े नेता पीएम मोदी आशीर्वाद देने के लिए ब्रज क्षेत्र में आएं है। हम सभी उनका आभार व्यक्त करते हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब पूरी दुनिया कोरोना से परेशान है। इस समय में देश को जीवन व अन्य काम को सुचारू रखने का कार्य हो रहा है।

कोरोना से बचाने के लिए दो स्वदेशी वैक्सीन को 75 करोड़ लोगों को लाभ दिया गया। पीएम मोदी के कोरोना में कार्य पूरी दुनिया मे मिशाल बन गया है। सीएम ने कहा कि पीएम के मार्गदर्शन में 2017 में भाजपा की सरकार बनी। पीएम ने प्रदेश के पहले इन्वेस्टर्स समिट की शुरुआत की। आज उसी का परिणाम है। हम इतने आगे हैं। करोड़ों का निवेश हुआ है। लोगों को रोजगार मिलेंगे। उस समय पीएम मोदी ने डिफेंस कॉरिडोर का तोहफा दिया था। अब पीएम इसके कार्य के लिए स्वयं यहां आएं हैं। वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट में भी बहुत काम हुए।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि फरवरी 2018 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लखनऊ में उत्तर प्रदेश के पहले इन्वेस्टर समिट का उद्घाटन स्वयं किया था। आज उसका परिणाम है कि उत्तर प्रदेश में तीन लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश हुआ। उत्तर प्रदेश के एक करोड़ 61 लाख नौजवानों को अपने ही गांव में, अपने ही जनपद में रोजगार और नौकरी मिली है। आज राधा अष्टमी भी है और ब्रज क्षेत्र के लिए आज के दिन का बड़ा महत्व है। यह हमारा सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री आज इस अलीगढ़ की पावन भूमि पर अपना मार्गदर्शन और आशीर्वाद प्रदान करने के लिए और यहां की बहुप्रतीक्षित मांगों को पूरा करने के लिए स्वयं हमारे बीच उपस्थित हैं।

सीएम ने कहा कि आजादी में देश का मार्गदर्शन करने वाले राजा महेन्द्रप्रताप को पश्चिमी यूपी में कोई याद नहीं करता। अब राजा के सम्मान में राजा महेन्द्रप्रताप विश्वविद्यालय की सौगात मिल रही है। राधा अष्टमी के मौके पर डिफेंस कॉरिडोर व विश्वविद्यालय सोने पर सुहागा है। सहारनपुर में भी एक विश्वविद्यालय प्रस्तावित है। ओलंपिक में भी भारतयी खिलाडियों ने बेहतर कार्य किया है अब मेरठ में स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय बन रहा है। यह मेजर ध्यानचंद के नाम पर होगा। प्रयागराज में भी एक विश्वविद्यालय बन रहा है। नई शिक्षा नीति को लागू किया जा रहा है। पीएम मोदी ने 2013 में, जो मंत्र दिया था कि सबका साथ ओर सबका विकास के साथ सरकार आगे बढ़ रही है। 2017 से पहले गन्ना किसानों का भुगतान तक नहीं हुआ। 2017 के बाद इससे ज्यादा भुगतान हुआ। 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कार्य किया जा रहा है। कोरोना काल मे भी चीनी मिल अनवरत चलती रहीं। 

डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा-आज गौरव का दिन 

इससे पहले डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि आज यह गौरव का दिन है, पीएम शिक्षा के क्षेत्र में बड़ा प्रोजेक्ट देने आए हैं। आज का दिन पूरी पश्चिमी यूपी के लिए खास दिन है। डिप्टी सीएम ने कहा कि प्रदेश में अब नकल नहीं, अक्ल से छात्रों के जीवन संवर रहा है। यूपी सरकार नकलविहीन परीक्षा करा रही है। पाठ्यक्रम बदला गया है। रोजगार परख कोर्स शामिल किए गए। 

प्रदेश में अब नई यूनिवर्सिटी बन रही है। दस पर काम चल रहा है। डिप्टी सीएम ने कहा कि आज हिंदी दिवस है। हिंदी क्षेत्र के नए पाठ्यक्रम शामिल किए गए। संस्कृति क्षेत्र में भी बदलाव हुए हैं। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा व नकलविहीन परीक्षा हमेशा से ही हमारी प्राथमिकता रहीं है। डिप्टी सीएम ने कहा कि यह कल्याण सिंह की भूमि है। राजा महेन्द्रप्रताप सिंह के नाम से बड़ा प्रोजेक्ट है। डिफेंस कॉरिडोर से भी विकास होगा। युवाओं को शिक्षा के साथ रोजगार भी मिलेंगे।


राज्य विश्वविद्यालय के माडल का अवलोकन 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अलीगढ़ आगमन पर सबसे पहले राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के माडल का अवलोकन किया। उनके साथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ व डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा भी थे। इससे पहले बड़ी सौगात देने अलीगढ़ पहुंचे पीएम नरेन्द्र मोदी का हवाई पट्टी पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने स्वागत किया। कार्यक्रम स्थल पर बने मंच पर सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम डाक्टर दिनेश शर्मा, प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह के साथ भाजपा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह भी थे।

लगेगा चुनावी माहौल का अंदाजा 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इस कार्यक्रम से उत्तर प्रदेश के चुनावी माहौल का भी अंदाजा लगेगा। चुनावी रंग में पीएम मोदी विकास के साथ ही दिख सकते हैं। वह अलीगढ़ की भूमि से पांचवीं बार जनता को संबोधित करेंगे। पीएम नरेन्द्र मोदी का जाट बहुल क्षेत्र में यह पहला कार्यक्रम है। इससे पहले अलीगढ़ में पीएम मोदी तीन बार तो नुमाइश मैदान में आए थे।

देश के शिक्षा जगत के लिए कल का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। दोपहर 12 बजे उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में महान स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद् और समाज सुधारक राजा महेन्द्र प्रताप सिंह जी के नाम पर एक नए विश्वविद्यालय के शिलान्यास का सुअवसर प्राप्त होगा।

विश्वविद्यालय की नई डिजाइन तैयार, दो वर्ष में होगा निर्माण 

अलीगढ़ के राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के भवन की नई डिजाइन तैयार हो गई है। इसे अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी देखकर संतुष्टि जताई। पूर्व में तैयार की गई डिजाइन उन्हेंं ठीक नहीं लगी थी। उन्होंने महल की तरह बनाने के निर्देश दिए थे। नई डिजाइन लोक निर्माण विभाग ने नोएडा की एक एजेंसी से बनवाई है। इसे उच्च शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव मोनिका एस गर्ग सहित अन्य अधिकारियों ने सीएम को दिखाया। विश्वविद्यालय का मुख्य द्वार विशाल होगा। अंदर जाने वाला रास्ते के दोनों ओर हरियाली होगी। मुख्य द्वार पर नक्काशी रहेगी। इस विश्वविद्यालय की घोषणा 2017 में इगलास विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने की थी। देश की आजादी के लिए अपना जीवन कुर्बान करने वाले राजा महेन्द्रप्रताप के नाम कोई इमारत व स्मारक न होने के चलते उनके नाम से विश्वविद्यालय का नाम रखा गया। 

राज्य विश्वविद्यालय : एक नजर


-शिलान्यास समारोह के दौरान राज्य विश्वविद्यालय को लेकर बनी तीन मिनट की वीडियो फिल्म दिखाई जाएगी।
-94 एकड़ जमीन पर लोधा ब्लाक के गांव मूसेपुर में होगा निर्माण।
-101 करोड़ का बजट जारी कर चुकी है प्रदेश सरकार।
-2023 तक इसका निर्माण पूरा होना है।
-400 के करीब महाविद्यालय इस विश्वविद्यालय से संबद्ध होंगे।
डिफेंस यूपी कारिडोर अलीगढ़ नोड

डिफेंस कारिडोर की प्रगति व कार्यों पर बनी वीडियो फिल्म भी दिखाई जाएगी। इसके बाद मुख्यमंत्री का भी संबोधन होगा।
1000 एकड़ में खैर रोड पर अंडला में विकसित होगा कारिडोर।
चार साल पहले केन्द्र सरकार ने अलीगढ़ समेत सूबे के छह शहरों में कारिडोर विकसित करने की घोषणा की थी।
100 हेक्टेअर जमीन का अब तक हो चुका है अधिग्रहण, यूपीडा को इसे विकसित करने की जिम्मेदारी मिली है।
 छह हजार करोड़ का यहां पर निवेश होने की संभावना है। इसमें रक्षा हथियारों से जुड़े कलपुर्जे तैयार किए जाएंगे। 


अदालतों में सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका, केंद्र व राज्यों को कदम उठाने का दिया जाए निर्देश

अदालतों में सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका, केंद्र व राज्यों को कदम उठाने का दिया जाए निर्देश

दिल्ली की एक जिला अदालत के भीतर शुक्रवार को गोलीबारी की घटना के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल कर केंद्र और राज्यों को अधीनस्थ अदालतों में सुरक्षा के लिए तत्काल कदम उठाने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। याचिका में कहा गया है कि गैंगस्टर और कुख्यात अपराधियों को प्रत्यक्ष रूप से पेश करने के बजाय निचली अदालत के समक्ष जेलों से वीडियो कांफ्रेंस के जरिये पेश किया जा सकता है।

सुप्रीम कोर्ट में वकील विशाल तिवारी ने यह याचिका दायर की है। एक अन्य वकील दीपा जोसेफ ने दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया। उन्होंने अधिकारियों को राष्ट्रीय राजधानी में जिला अदालतों की सुरक्षा के लिए आवश्यक उपाय करने का निर्देश देने का आग्रह किया। दिल्ली की रोहिणी अदालत में गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी की दो हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी। हमलावर वकील के वेश में आए थे। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में दोनों हमलावर भी मारे गए।


आवेदन एक लंबित याचिका में शीर्ष अदालत में दायर किया गया

शीर्ष अदालत के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना ने शुक्रवार को यहां भीड़भाड़ वाले अदालत कक्ष के अंदर गोलीबारी पर गहरी चिंता व्यक्त की और इस सिलसिले में दिल्ली हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल से बात की थी। तिवारी का आवेदन एक लंबित याचिका में शीर्ष अदालत में दायर किया गया है।

न्यायिक अधिकारियों और अधिवक्ताओं की सुरक्षा का मुद्दा उठाया गया

इस याचिका में झारखंड में 28 जुलाई को धनबाद के जिला और सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की वाहन से कुचलकर हत्या के मामले का हवाला देते हुए न्यायिक अधिकारियों और अधिवक्ताओं की सुरक्षा का मुद्दा उठाया गया। दिल्ली में हुई गोलीबारी का जिक्र करते हुए अर्जी में कहा गया है कि ऐसी घटनाएं न केवल न्यायिक अधिकारियों, वकीलों और अदालत परिसर में मौजूद अन्य लोगों के लिए बल्कि न्याय प्रणाली के लिए भी खतरा हैं।