गुमो में नकुल मेमोरियल फुटबॉल टूर्नामेंट शुरू, उद्घाटन मैच में पोखडंडा की टीम विजयी

गुमो में नकुल मेमोरियल फुटबॉल टूर्नामेंट शुरू, उद्घाटन मैच में पोखडंडा की टीम विजयी

मनोज पांडेय की रिपोर्ट
झारखंड/कोरडमा
आजाद क्लब गुमो के तत्वावधान में आयोजित नकुल मेमोरियल फुटबॉल टूर्नामेंट 23 सितम्बर से शुरू हो गया।उद्घाटन मैच  पोखडंडा और दिग्थु के बीच खेला गया। पोखडंडा ने एक गोल से दिग्थु को हराकर प्रतियोगिता के अगले चक्र में प्रवेश पा लिया। मैच में रेफरी के रूप में नागेश्वर राणा, लैंसमैन के रूप में नित्यानंद बुल्ली, प्रेमजीत रॉय थे। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में जिला खेल पदाधिकारी प्रवीण कुमार, विशिष्ट अतिथि के रुप में किड्जी की निदेशिका ब्यूटी सिंह थी।

अतिथियों ने फीता काटकर संयुक्त रूप से प्रतियोगिता का उद्घाटन किया। मुख्य अतिथि जिला खेल पदाधिकारी प्रवीण कुमार ने ऐसे आयोजन के लिए आजाद क्लब को सराहा और कहा कि इस प्रकार के आयोजन से ग्रामीण खेल प्रतिभा को बढ़ावा मिलता है। उन्होंने कहा कि जिला में खेल प्रतिभा की कमी नहीं है, जरूरत है उन्हें सिर्फ मंच प्रदान करने की। जबकि विशिष्ट अतिथि व्यूटी सिंह ने कहा कि आजाद क्लब जिस परंपरा का निर्वाह कर रहा है वह सराहनीय है।उन्होंने कहा कि खेल मानव जीवन का अभिन्न अंग है। यह हमें अनुशासन का पाठ भी पढ़ाता है। इस मौके पर बुके डेंजर अतिथियों का स्वागत किया गया। आयोजन को सफल बनाने में आजाद क्लब के धीरज पांडेय, रवि पांडेय, अवध पांडेय, सौरव सहाय, लोकेश पांडेय, छोटे पांडेय, मुकेश पांडेय, शुभम सिन्हा, मनीष पांडेय, जितेंद्रर राम, बबलू पांडेय, विक्की तिवारी, शिव पांडेय का योगदान रहा।

इस मौके पर केडीसीए के सचिव दिनेश सिंह, पिंटू शुक्ला, नवल किशोर पांडेय, विनोद पांडेय, पिंटू पांडेय, प्रेम पांडेय विवेक पांडेय, राजन पांडेय, बबली पांडेय, सोनू रॉय, प्रभाकर पांडेय, साजन पांडेय समेत कई खेल प्रेमी मौजूद थे। बाता दें कि इस टूर्नामेंट में कुल 16 टीमो ने हिस्सा लिया है। प्रतियोगिता का फाइनल मैच 30 सितम्बर को जिउतिया के दिन खेला जाएगा। यह मैच गुमो के झुमरिया मैदान में खेला जा रहा है।


सिमडेगा पुलिस की कलंक कथा: रायपुर से 80 लाख की आभूषण चोरी केस में बड़ा खुलासा, बांसजोर के तालाब से मिले गहने

सिमडेगा पुलिस की कलंक कथा: रायपुर से 80 लाख की आभूषण चोरी केस में बड़ा खुलासा, बांसजोर के तालाब से मिले गहने

सिमडेगा पुलिस की कलंक कथा का पन्ना खुल गया है सूत्र बता रहे हैं कि छत्तीसगढ़ के रायपुर से चोरी हुए गहने पुलिस जवानों की निशानदेही पर तालाब से बरामद कर लिए गए हैं बता दें कि इस मुद्दे में पहले ही बांसजोर थाना प्रभारी निलंबित किये जा चुके हैं केस रायपुर से 80 लाख के गहनों की डकैती का है इस मुद्दे की पुलिस मुख्यालय के आदेश पर जाँच हुई है जो जानकारी सामने आ रही है इसके मुताबिक इस काण्ड में पुलिसकर्मियों ने रिकवर्ड किए गए जेवरातों के बारे में आधी-अधूरी जानकारी शेयर की थी और बरामद हुए गहनों की पूरी रिकवरी नहीं दिखाई गई थी पुलिसवालों से हुई पूछताछ के बाद ही ये गहने बरामद किए गए हैं हालांकि, एसपी सिमडेगा ने केवल इतनी ही पुष्टि की है कि कुछ गहने मिले हैं, पर कैसे मिले इसके खुलासे के लिए थोड़ा इन्तजार करें

बताया जा रहा है कि छत्तीसगढ़ के रायपुर में ज्वेलरी शोरूम से 80 लाख के गहनों की चोरी हुई थी मुद्दे में सिमडेगा पुलिस ने वाहन चेकिंग के दौरान आरोपियों को हिरासत में लिया था इसके बाद सिमडेगा पुलिस ने आरोपियों के पास से चोरी के गहने बरामद किए थे हालांकि 2 दिनों तक आरोपियों को पकड़ने के बाद इसकी सूचना छत्तीसगढ़ पुलिस से छिपाई गई थी इसके बाद 2 आरोपियों की गिरफ्तारी और 25 लाख के जेवरों की रिकवरी की ही जानकारी  दी गई थी

मामले को लेकर रायपुर पुलिस ने सिमडेगा के बांसजोर ओपी के पुलिसवालों की कार्यशैली पर संभावना जाहिर की थी छत्तीसगढ़ पुलिस ने झारखंड पुलिस के वरीय ऑफिसरों के साथ सबूत शेयर किए थे
मुद्दे की गंभीरता को देखते हुए बांसजोर ओपी प्रभारी को तब सस्पेंड कर दिया गया था वहीं मुद्दे की उच्चस्तरीय जाँच के लिए एसआईटी का गठन किया गया था