लॉकडाउन के बीच एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित ने OTT को लेकर बोली यह बड़ी बात

लॉकडाउन के बीच एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित ने OTT को लेकर बोली यह बड़ी बात

कोरोना वायरस के फैलने से न केवल हम सब घरों में कैद हो गए हैं, बल्कि कई तरह की डिजिटल राहें भी खुली हैं। मीटिंग से मनोरंजन तक सब कुछ डिजिटल हो गया है। 

लॉकडाउन के बीच, कलाकार नए गानों, लाइव चैट व यहां तक कि एक्सक्लूसिव डिजिटल प्रीमियर के जरिए डिजिटल स्पेस पर अपने फैन्स से जुड़ रहे हैं। हाल ही में अपना डेब्यू सिंगल 'कैंडल' फेसबुक व इंस्टाग्राम पर रिलीज करने वाली बॉलीवुड नेने भी मानती हैं कि डिजिटल स्पेस में बहुत ज्यादा संभावनाएं हैं व इसकी पहुंच बहुत दूर तक है। हमारे सहयोगी अंग्रेजी चैनल WION से खास वार्ता में उन्होंने कहा, "डिजिटल पर उपस्थित कंटेट के पास ग्लोबल ऑडियंस तक पहुंचने की ताकत है व ये बहुत अच्छी बात है। "

माधुरी दीक्षित डिजिटल स्पेस की ताकत को समझने वाली शुरुआती शख़्सियतों में से एक हैं जिन्होंने कुछ वर्ष पहले डिजिटल स्पेस पर 'डांस विद माधुरी' नाम से डांस सिखाने के लिए वीडियो प्रारम्भ किए थे। माधुरी दीक्षित खुद के अत्याधुनिक बनने का क्रेडिट अपने पति डॉ श्रीराम नेने को देती हैं। "मेरे पति टेक्नोलॉजी की अच्छी समझ रखते हैं व उन्होंने इस प्लेटफॉर्म की ताकत को बहुत ज्यादा पहले पहचान लिया था। आखिरकार, अब सारे स्क्रीन एक स्थान जाकर मिल रहे हैं। आप एंटरटेनमेंट को कैसे लेते हैं, ये आप पर है- चाहे आप थियेटर जाएं या फिर इसे अपने टीवी स्क्रीन पर देखें या फिर यात्रा करते समय अपने मोबाइल पर देखें"

लॉकडाउन के कारण, कई फिल्मकार अपनी फिल्मों को सीधे डिजिटल रिलीज करना पसंद कर रहे हैं, व इसी के साथ अब ये बहस भी तेज हो रही है कि क्या आने वाले समय में OTT (Over-The-Top) प्लेटफॉर्म पूरी तरह से थियेटर की स्थान ले लेंगे। लगभग तीन दशक तक बॉलीवुड पर राज करने वाली माधुरी दीक्षित मानती हैं कि थियेटर में जाकर फिल्म देखने का मजा कभी समाप्त नहीं होगा। "मुझे लगता है कि कुछ चीजें बदलेंगी लेकिन कुछ चीजें वैसी ही रहेंगी जैसे कि थियेटर में जाकर फिल्म देखने का अनुभव जहां आप सबके साथ मिलकर फिल्म देखते हैं- साथ हंसते हैं, चिल्लाते हैं- वो अलग ही तरह का अहसास होता है। "

माधुरी के मुताबिक, "खासतौर पर बड़े पर्दे के लिए फिल्में हमेशा बनाई जाएंगी। डिजिटल प्लेटफॉर्म उन फिल्मों के लिए अच्छे हैं, जो अपने आप में जुदा हैं, जो अपने अंदाज व अपनी लय में कहानी बयां करती हैं। जब आप कोई वस्तु किसी OTT प्लेटफॉर्म पर रिलीज करते हैं, तो आप तुरंत ग्लोबल ऑडियंस तक पहुंच जाते हैं। इसलिए आप अपने हिसाब से जैसी फिल्म बनाना चाहें बना सकते हैं। जिस भाषा में चाहें बना सकते हैं व उसे दुनियाभर में फैला सकते हैं। "

माधुरी दीक्षित का डेब्यू सिंगल 'कैंडल' केवल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक व इंस्टाग्राम पर प्रीमियर किया गया है। माधुरी ने बताया कि इस गाने का आइडिया संसार में महामारी के आने से पहले उनके दिमाग में आया था। उन्होंने ये गाना लॉस एंजेलिस में रिकॉर्ड किया था। "लोग मुझसे अक्सर पूछते थे, आपने कैसे अपनी जिंदगी की सारी मुश्किलों से पार पा लिया व संतुलन बनाए रखा है? व तब मैंने सोचा कि मुझे इसके बारे में कुछ गाकर बताना चाहिए- जब आप जिंदगी में मुश्किलों से घिरे होते हैं, तब आपको लगता है कि कुछ भी आपके लिए कार्य नहीं आ रहा है, तब आदमी को अपने अंदर झांकना होता है। आपको वो चेतना व ज्वाला जगानी होती है, जो वाकई में तेज जले व आपको मजबूत बनाए। यही वो भावना थी जो मैं गाने के जरिए लोगों तक पहुंचाना चाहती थी। "

माधुरी दीक्षित व डॉ नेने ने ये गाना कंपोजर नरिंदर सिंह के साथ मिलकर तैयार किया व इस गाने के बोल माइकल ऑक्स ने लिखे। माधुरी ने बताया, "हम कैंडल को शांति व उम्मीद से जोड़ते हैं। ये सकारात्मकता का रूप है। इस समय पूरी संसार निराशा के दौर से गुजर रही है। हमें लगा यही वो वक्त है जब हम इस गाने को रिलीज करें व कहें, आप जानते हैं, कि उम्मीद होती है, कृपया उम्मीद, सकारात्मकता व विश्वास को ना छोड़ें। सोच यही थी कि लोग ये महसूस करें कि सब अच्छा है। आपको पता है कि हम मिलकर इससे उबरकर व मजबूत होंगे। खैर, इस गाने का विचार कोरोना संकट के आने से पहले बन चुका था लेकिन इसका वीडियो लॉकडाउन के बीच में शूट किया गया। "

वीडियो में माधुरी दीक्षित महामारी के विरूद्ध चौबीसों घंटे लड़ रहे स्वास्थ्य कर्मियों के शॉट्स के साथ गाते नजर आती हैं। माधुरी दीक्षित ने बताया, "हम इस बात को लेकर बिल्कुल स्पष्ट थे कि हम फ्रंटलाइन वर्कर्स को श्रद्धांजलि देंगे जो मौजूदा दौर में कैंडल बनकर सबसे ज्यादा तेज लाइट के साथ जल रहे हैं। वे अपनी जिंदगी खतरे में डाल रहे हैं। वे अपने बच्चों व परिवार से दूर रह रहे हैं व हमें सुरक्षित व स्वास्थ्य वर्धक रखने के लिए कार्य कर रहे हैं। इसके बाद प्रतिदिन मजदूरी करने वाले कामगार लोग भी हैं जो इस महामारी में बहुत ज्यादा मुसीबतों का सामना कर रहे हैं- इस तरह से, ये वो कैंडल हैं जो सबसे तेज जल रही हैं, व इस गाने के लिए जरिए हमने उनके लिए कसीदा पढ़ा है। "

एक महीन पहले इंदौर में स्वास्थ्य कर्मियों के विरूद्ध हिंसक घटनाओं पर माधुरी दीक्षित ने बोला कि हमें स्वास्थ्य कर्मियों के दर्द व समाज के लिए उनके त्याग को समझना होगा। "उनका सम्मान होना चाहिए। "

माधुरी दीक्षित ने बताया कि इस वीडियो में उनके हिस्से को उनके मुंबई वाले घर में फिल्माने में उनके पति ने मदद की। उनका परिवार, जिसमें उनके दो टीनेज बेटे हैं, अक्सर जैम सेशन यानि रॉक म्यूजिक बजाने में जुट जाता है। "मेरे पति गिटार बजाते हैं, मेरे दोनों बेटे तबला व पियानो बजाना जानते हैं। वो बहुत ज्यादा छोटी आयु से ये सीख रहे हैं व म्यूजिक में उनकी बहुत ज्यादा दिलचस्पी है। "

अपने डांस से करोड़ों लोगों का दिल जीतने वाली माधुरी दीक्षित ने बताया, "मुझे लगता है कि डांस, म्यूजिक या फिर किसी भी तरह की कला हमेशा साथ रहने वाले एक अच्छे दोस्त की तरह है। ये हमेशा आपके साथ रहेगी। ये वो स्थान है जहां आपको सुकून मिलता है। ये आपका तनाव दूर करता है। ये वो स्थान है जहां जाकर आपको खुशी मिलती है। "

2019 में अपने पति के साथ प्रोड्यूसर बनीं माधुरी दीक्षित ने 'बकेट लिस्ट' नाम की मराठी फिल्म बनाई थी, जिसमें वो मुख्य किरदार में थीं। उन्होंने बताया कि अभी वो मराठी फिल्म बना रही हैं व भविष्य में हिंदी फिल्म भी बनाएंगी।   माधुरी जल्द ही करण जोहर के धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले बनी एक वेब सीरीज से डिजिटल डेब्यू भी करने वाली हैं।  

इंटरव्यू के आखिर में हमारे सहयोगी अंग्रेजी न्यूज चैनल WION ने जब उनसे ये पूछा कि इतने वर्ष कार्य करने के बाद उन्होंने सुपरस्टाडम समेत इतनी सारी उपलब्धियां हासिल कर लीं, ऐसे में अब भी वो इतनी शिद्दत से कैसे कार्य करती हैं, तो उनका जवाब था, "मुझे लगता है कि इसके पीछे ज्यादा से ज्यादा सीखने व ज्यादा से ज्यादा कार्य करने की प्यास होती है। बात सिर्फ इतनी सी है कि आर्ट मेरी जिंदगी का भाग है व इसे करने में मुझे बहुत मजा आता है। "