क्रिकेट से इतने समय तक कभी दूर नहीं रहा : टेलर

क्रिकेट से इतने समय तक कभी दूर नहीं रहा : टेलर

 कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के कारण अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट समिति (ICC) ने इस वर्ष ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप (T20 World Cup) एक वर्ष के लिए स्थगित कर दिया है.

 इसके अतिरिक्त हिंदुस्तान व ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप की अदला-बदली भी कर दी है. यानी 2020 में होने वाला विश्व कप 2021 में हिंदुस्तान में होगा व 2021 में होने वाला टी-20 विश्व कप अब 2022 में ऑस्ट्रेलिया होगा. टी-20 विश्व कप एक वर्ष के लिए स्थगित होने के बाद 36 वर्ष के अनुभवी कीवी बल्लेबाज रॉस टेलर (Ross taylor) इस बात को लेकर संशय में हैं कि वह अगले वर्ष विश्व कप खेल पाएंगे या नहीं. टेलर ने बोला कि उन्हें नहीं पता कि अगले वर्ष हिंदुस्तान में होने वाला टी-20 विश्व कप वह खेल सकेंगे या नहीं.

अगले वर्ष 37 वर्ष के हो जाएंगे टेलर

इस वर्ष फरवरी में हिंदुस्तान के ही विरूद्ध टेलर ने अपना 100वां टी-20 अंतर्राष्ट्रीय मैच (100th T20I Match) खेला था. अगले वर्ष 37 वर्ष के होने जा रहे टेलर इस पड़ाव पर पहुंचने वाले न्यूजीलैंड के अब तक के पहले व इकलौते खिलाड़ी हैं. कैरीबियन प्रीमियर लीग (Carribean Premier league) खेलने यहां आए टेलर ने एक क्रिकेट वेबसाइट से बात करते हुए बोला कि आयु के साथ-साथ आप सुस्त हो जाते हैं. ऐसे समय में आपका अभ्यास, अनुभव व दिमाग व अहम हो जाता है. उन्होंने बोला कि सब कुछ अजीब है.

टेलर ने बोला कि वह इतने लंबे समय तक क्रिकेट से कभी दूर नहीं रहे. उन्होंने बोला कि स्कूल के दिनों के बाद से वह इतने लंबे समय तक कभी क्रिकेट से दूर नहीं रहे हैं. पिछले महीने ही न्यूजीलैंड की पहली ट्रेनिंग कैम्प से टेलर जुड़े थे. अब वह यहां सीपीएल (CPL) के लिए आए हैं. टेलर ने माना कि इस कठिन समय में हर किसी के लिए सुरक्षा जरूरी हो गया है. क्वारंटाइन में रहने को लेकर बोला कि यह अटपटा है, लेकिन जो है, सो है.

टेलर बोले, सबकुछ अजीब है

सीपीएल का आयोजन 18 अगस्त से 20 सितंबर तक होना है. टेलर इस सीजन में गुयाना अमेजन वॉरियर्स (Guana Amazon Warriors) की ओर से खेलने उतरेंगे. उन्होंने बोला कि सीपीएल हर किसी के लिए अजीब होने जा रहा है. किसी ने भी कुछ समय से क्रिकेट नहीं खेला है. टेलर ने बोला कि उन्हें यकीन है हर कोई परेशान होने वाला है. इसलिए, प्रशिक्षण व शुरुआती मैच बहुत अहम हैं. इसके अतिरिक्त खाली स्टेडियम की ओर संकेत करते हुए उन्होंने बोला कि हमें टी-20 क्रिकेट खचाखच भरे स्टेडियमों में खेलने की आदत हो चुकी है. अब खाली मैदान पर खेलने में अजीब लगेगा, लेकिन इसकी भी आदत डालनी होगी.