स्मोकिंग की लत से छुटकारा दिलाता है ये घरेलू नुस्खा

स्मोकिंग की लत से छुटकारा दिलाता है ये घरेलू नुस्खा

WHO की एक स्टडी ने हाल ही में एक बड़ा खुलासा किया है। दुनिया स्वास्थ्य संगठन व ऑस्ट्रेलिया (Australia) में यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूकैसल द्वारा किए गए एक संयुक्त अध्ययन के अनुसार, जो लोग सर्जरी से कम से कम चार हफ्ते पहले धूम्रपान (Smoking) छोड़ते हैं, उनमें ऑपरेशन के वक्त कम कॉम्पलिकेशन के साथ ही बेहतर परिणाम देखने को मिलते हैं।  

डब्ल्यूएचओ के नो टोबेको यूनिट के प्रमुख डाक्टर विनायक प्रसाद ने कहा, ने बोला की माइनर व नॉन इमरजेंसी सर्जरी में पेशेंट को एक बार स्मोकिंग छोड़ने का मौका जरूर देना चाहिए। इसकी वजह से न सिर्फ रिजल्ट्स बेहतर आएंगे बल्कि शायद पेशेंट की स्मोकिंग की लत भी छूट जाए।  आपको बता दें कि संसार भर में 1.1 बिलियन से भी ज्यादा लोग धूम्रपान करते हैं, जो बाद में कैंसर, दिल व सांस संबंधित बीमारियों का कारण बनता है। औसतन 25 में से एक आदमी ही किसी भी ढंग की मेजर सर्जरी करवाता है। धूम्रपान से सर्जिकल जटिलताओं का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है, जिसमें संक्रमण, ह्रदय व फेंफड़े के कार्य करना बंद हो जाना भी शामिल है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, निकोटीन व कार्बन मोनोऑक्साइड - दोनों सिगरेट में पाए जाते हैं - ऑक्सीजन (Oxygen) का स्तर कम करते हैं, जो आगे चलकर सर्जरी के बाद पेशेंट में कॉम्पलिकेशन्स का खतरा बढ़ाते हैं। धूम्रपान से इंसानी फेफड़ों को बहुत ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता जिसमें सबसे बड़ा एयर फ्लो का सीमित हो जाना है। जिसकी वजह से सर्जरी के बाद फेफड़ों की जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है। इससे संक्रमण भी फैल सकता है।