फायदे का सौदा: महंगी होने से पहले खरीदें Tata की कारें, दिसंबर में मिल रही है 65 हजार रुपये तक की छूट

फायदे का सौदा: महंगी होने से पहले खरीदें Tata की कारें, दिसंबर में मिल रही है 65 हजार रुपये तक की छूट

साल 2021 का आखिरी महीना चल रहा है। वहीं अगले साल की शुरुआत से ही गाड़ियों की कीमतें बढ़ाने की तैयारियां हो रही हैं। लेकिन उससे पहले कंपनियां साल की आखिरी महीने को भुनाने के लिए कई तरह के डिस्काउंट ऑफर कर रही हैं। हालांकि ये ऑफर्स और डिस्काउंट पहले की तरह नहीं हैं, जब कंपनियां स्टॉक क्लीयर करने के लिए जबरदस्त ऑटो डील्स दिया करती थीं। चिप शॉर्टेज की वजह से जब पहले से ही गाड़ियों पर लंबा वेटिंग पीरियड है, तो ऐसे में डिस्काउंट देने का सवाल ही नहीं उठता। फिर भी कुछ डीलरशिप्स अपने चुनिंदा मॉडल्स पर छूट पेश कर रही हैं। आइए जानते हैं टाटा की किन गाड़ियों पर मिल रहे हैं फायदे...

Tata Harrier (65,000 रुपये तक के ऑफर्स)

टाटा हैरियर अपने स्पेस और कंफर्टेबल के लिए जानी जाती है। 5-सीटर हैरियर में 2.0 लीटर का दमदार 170 एचपी की पावर वाला 2.0 लीटर डीजल इंजन मिलता है। काश हैरियर पैट्रोल में भी आती। हैरियर का मुकाबला मिडसाइज सेगमेंट में एमजी हेक्टर, ह्यूंदै क्रेटा और किआ सेल्टोस से है। दिसंबर में हैरियर के सभी वैरिएंट्स पर डीलर्स 40 हजार रुपये का एक्सचेंज बोनस, 25 हजार रुपये तक का कॉरपोरेट डिस्काउंट दे रहे हैं, लेकिन ये छूट डार्क एडिशन पर नहीं लागू होगी। डार्ट एडिशन पर 20 हजार रुपये का एक्सचेंज डिस्काउंट मिलेगा।

Tata Safari (40,000 रुपये तक के ऑफर्स)

टाटा हैरियर का एक्सटेंडेड वर्जन है सफारी है। टाटा सफारी 6 और 7-सीटर ऑप्शन के साथ आती है। वहीं इसका मुकाबला महिंद्रा की नई XUV700, ह्यूंदै अल्कजार से है। इसमें भी वहीं हैरियर का इंजन का मिलता है, जो 170 एचपी की पावर देता है। वहीं यह मैनुअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ आती है।

पहली बार कंपनी इस पर कोई ऑफर दे रही है। दिसंबर में सफारी के सभी वैरिएंट्स पर 40,000 रुपये तक का एक्सचेंज डिस्काउंट मिलेगा।

Tata Tigor (35,000 रुपये तक के ऑफर्स)

Tata Tigor (टाटा टिगोर) का मुकाबला कॉम्पैक्ट सेडान सेगमेंट से है। 4-डोर कूप डिजाइन वाली टिगोर में 1.2 लीटर पेट्रोल इंजन मिलता है, जो 85 बीएचपी की पावर देता है, जो 5-स्पीड मैनुअल और एएमटी गियरबॉक्स के साथ आता है। टिगोर पर कंज्यूमर स्कीम के तहत 10,000 रुपये का कैश डिस्काउंट मिल रहा है। वहीं एक्सचेंज बोनस के तौर पर 15,000 रुपये मिल रहे हैं। जबकि इस महीन 10 हजार रुपये का कॉरपोरेट डिस्काउंट भी शामिल है।

Tata Tiago (30,000 रुपये तक के ऑफर्स)

टाटा की एंट्री लेवल हैचबैक कार टियागो का मुकाबला मारुति वैगन आर, सेलेरियो जैसी कारों से है। इस हैचबैक में शानदार केबिन मिलता है। वहीं इसमें 1.2 लीटर का 85 एचपी की पावर वाला पेट्रोल इंजन मिलता है। कंपनी के दिसंबर 2021 में चल रहे ऑफर के तहत आप नई टियागो पर 10,000 रुपये तक कैश डिस्काउंट ले सकते हैं। इसके अलावा 5,000 रुपये का कॉरपोरेट डिस्काउंट और 15,000 रुपये का एक्सचेंज बोनस दिया जा रहा है।

Tata Nexon, Nexon EV (25,000 रुपये तक के ऑफर्स)

टाटा मोटर्स ये यह सबकॉम्पैक्ट एसयूवी Tata Nexon पेट्रोल, डीजल और इलेक्ट्रिक पावरट्रेन के साथ आती है। नेक्सन का मुकाबला ह्यूंदै वेन्यू, और मारुति विटारा ब्रेजा से है। नेक्सन पर 15 हजार रुपये का एक्सचेंज बोनस, 10 हजार रुपये का कॉरपोरेट डिस्काउंट मिल रहा है। वहीं पट्रोल पार्वड नेक्सन पर 5,000 रुपये का कॉरपोरेट छूट मिलेगी।

नेक्सन ईवी पर मिल रहे डिस्काउंट की बात करें, तो इस पर 15 हजार रुपये का एक्सचेंज डिस्काउंट ऑफर किया जा रहा है, जो XZ+ Lux वैरिएंट पर मिलेगा। जबकि XZ+ वैरिएंट पर 10 हजार रुपये का एक्सचेंज डिस्काउंट मिलेगा। 

नोट: डिस्काउंट अलग-अलग शहरों में अलग हो सकते हैं और स्टॉक की उपलब्धता के हिसाब से मिलते हैं। टाटा मोटर्स के कारों पर उपलब्ध डिस्काउंट की जानकारी के लिए अपने स्थानीय डीलर से संपर्क करें।

बायोगैस एसोसिएशन ने सरकार से ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ बनाने का आग्रह किया

बायोगैस एसोसिएशन ने सरकार से ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ बनाने का आग्रह किया

नयी दिल्ली। इंडियन बायोगैस एसोसिशन (आईबीए) ने सरकार से पांच साल के लिए 1.4 लाख करोड़ रुपये के आरंभिक प्रावधान के साथ ‘बायोगैस उर्वरक कोष’ स्थापित करने का अनुरोध किया है। संगठन ने कहा है कि इससे पांच करोड़ किसानों को लाभ पहुंचेगा तथा कच्चे तेल के आयात पर होने वाला खर्च भी कम होगा। आईबीए ने एक बयान में कहा कि किफायती परिवहन के लिए टिकाऊ विकल्प (एसएटीएटी) योजना के तहत पांच हजार संयंत्रों के लक्ष्य को पूरा करने में इस तरह के कोष की स्थापना स्वागत योग्य कदम होगा।

संगठन के अध्यक्ष ए आर शुक्ला ने कहा, ‘‘सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के बारे में लगातार बात कर रही है। इस योजना से पांच करोड़ किसानों को फायदा पहुंचेगा। यह कोष बनने पर भारत जीवाश्म ईंधन का आयात कम कर सकेगा और किसानों को भी जैविक उर्वरक मिल सकेगा।’’ बायोगैस एसोसिशन ने शहरों में गैस वितरण नेटवर्क और प्राकृतिक गैस पाइपलाइन में बायोमीथेन (सीबीजी) के मिश्रण के लिए मात्रा को परिभाषित करने का भी सुझाव दिया है।

उसने कहा कि पहले पांच साल के लिए 5 प्रतिशत का एक अस्थायी मिश्रण कोटा तय किया जा सकता है। उसके बाद 10 साल में इसे धीरे-धीरे बढ़ाकर 10 प्रतिशत किया जा सकता है। आईबीए ने कहा कि जीएसटी परिषद ने बायोगैस संयंत्र से संबंधित उपकरण और उनके पुर्जों पर जीएसटी की दर पांच फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी करने की घोषणा की जिससे बायोगैस के उत्पादकों के लिए स्थिति चुनौतीपूर्ण हो जाएगी।