उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस की टीम कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने के लिए उठाए यह बड़े कदम

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस की टीम कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने के लिए उठाए यह बड़े कदम

उत्तर प्रदेश के कानपुर में गुरुवार की देर रात पुलिस की टीम कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने चौबेपुर के बिकरू गांव गई. पुलिस के पहुंचते ही विकास दुबे व उनके आदमियों ने पुलिस की टीम पर फायरिंग कर दी. इसमें आठ पुलिसकर्मी मारे गए जबकि सात अन्य पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए.

विकास दुबे बेहद शातिर क्रिमिनल है, वह अपने फायदे के लिए कुछ भी कर सकता है. कारागार में बंद होने के दौरान जब उसे पता चला कि उसके परिवार में चचेरे भाई अनुराग का ज्यादा दखल हो गया है. इसके बाद विकास ने कारागार से ही अनुराग के मर्डर की सुपारी जिलेदार समेत अन्य शूटरों को दे डाली. भाग्य अच्छी होने के चलते हमला होने के बाद भी अनुराग बच गया.

शुरू से ही अपराधिक प्रवृत्ति का था विकास दुबे
चौबेपुर थाने का हिस्ट्रीशीटर विकाश दुबे प्रारम्भ से ही अपराधिक प्रवृत्ति का था, लेकिन 2001 में शिवली थाने के भीतर दर्जा प्राप्त मंत्री संतोष शुक्ला की मर्डर के बाद चर्चा में आया था.इसके बाद से उसके नाम से लोग कांपने लगे थे व उसकी क्राइम की संसार में गहरी धमक हो गई थी. क्राइम की संसार से पॉलिटिक्स में कदम रखा व फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा.

विकास के भय से छोड़ दी प्रधानी
इसे विकास का आतंक ही कहेंगे कि 2010 में प्रधानी का चुनाव जीतने वाले रजनीकांत कुशवाहा कुछ दिनों में ही गांव छोड़ कर चले गए. इसके बाद वहां तीन सदस्यीय कमेटी का गठन कर दिया गया था. जिला पंचायतराज ऑफिसर सर्वेश कुमार पांडेय ने बताया कि शिवराजपुर ब्लॉक की ग्राम पंचायत बिकरू में 2005 में हुए प्रधानी के चुनाव में विकास दुबे के छोटे भाई दीप प्रकाश की पत्नी अंजलि दुबे ने जीत हासिल की थी. 2010 के चुनाव में रजनीकांत कुशवाहा ने बाजी मारी, लेकिन विकास के खौफ के चलते वह वापस गांव नहीं आए. इसके बाद जिलाधिकारी ने तीन सितंबर 2010 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन कर दिया. इस 3 मेम्बर कमेटी में विशुना देवी ने अध्यक्ष के रूप में कार्य किया था. 2015 के चुनाव में एक बार फिर विकास के भाई की पत्नी ने जीत हासिल की.

विकास दुबे पर 50 हजार का इनाम घोषित
हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर देर शाम शाम आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने 50 हजार इनाम की घोषणा की. साथ ही जितने भी उससे जानने वाले लोग हैं, सभी के नम्बरों को सर्विलांस पर लिया गया है. कुल 22 टीमें भिन्न-भिन्न तरह से कार्य कर रही हैं. लगातार गांव के आसपास के इलाकों में कॉम्बिंग की जा रही है. सर्विलांस सिस्टम का भरपूर इस्तेमाल हो रहा है.