तेजस्वी यादव ने विद्यार्थियों को वापस लाने के मामले पर साधा निशाना, जाने खबर

तेजस्वी यादव ने विद्यार्थियों को वापस लाने के मामले पर साधा निशाना, जाने खबर

तेजस्वी यादव ने एक बार फिर कोटा से विद्यार्थियों को वापस लाने के मामले पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, 'हरियाणा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, यूपीस गुजरात, दादरा एवं नागर हवेली, हिमाचल प्रदेश, उतराखंड व सुदूर आसाम सहित सभी राज्यों ने अपने विद्यार्थियों को कोटा से वापस बुला लिया है लेकिनको पता नहीं बिहार के भविष्य मासूम छात्र-छात्राओं से क्या नफ़रत है? 

उन्होंने कहा, 'क्या सिर्फ़ नीतीश जी को छोड़ बाक़ी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को अपने प्रदेशवासियों की फ़िक्र नहीं है या वो कम विवेकशील है? क्या उन प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को कोरोना की चिंता नहीं है? जब 25 हज़ार विद्यार्थी कोटा से वापस अपने घरों को जा सकते है तो बिहार के क्यों नहीं?' 

तेजस्वी यादव ने एक बार फिर मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि कोटा से विद्यार्थियों को वापस लाने का व्यवस्था की जाए। उन्होंने बोला है कि सीएम जी से पुन: आग्रह है कि अभी भी वक्त है विद्यार्थियों को वापस बुला लीजिए। अगर सरकार उन्हें वापस बुलाने में बिल्कुल असमर्थ व निर्बल है तो कृपया मुझे अनुमति दीजिए हम लेकर आएंगे। सर्वविदित है कि भाजपा नीत बिहार सरकार पूर्णतः अक्षम है फिर इसमें शर्म की क्या बात है? 17 लाख बिहारी बाहर है, बाहर। खाली खबरों की सर्जरी करने से विद्यार्थी व मेहनतकश वापस नहीं आएंगे। उनके लिए पहल कर संबंधित राज्यवसरकारों व केन्द्र सरकार से बातचीत करनी होगी। रास्ता निकालना होगा। इसलिए अभी भी समय है, कुछ कीजिए।

आपको बता दें कि बिहार में कोटा से विद्यार्थियों को वापस लाने को लेकर पॉलिटिक्स गरमाई हुई है। विपक्ष लगातार सरकार से विद्यार्थियों को वापस लाने की मांग कर रहा है तो वहीं, बिहार सरकार ने साफ बोला है कि विद्यार्थियों को वापस लाना लॉकडाउन का उल्लंघन है। विद्यार्थी जहां है वहां, उनकी सहुलियत के लिए बंदोवस्त किए जा रहे हैं।