कोरोना वायरस के कारण ओलंपिक खेलों को लेकर भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड ने बोला

कोरोना वायरस के कारण ओलंपिक खेलों को लेकर भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड ने बोला

कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार के कारण ओलंपिक खेलों के एक वर्ष तक टलने से भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड व महिला टीम के उनके समकक्ष सोर्ड मारिन निराश है लेकिन उन्होंने बोला कि इससे उन्हें व बेहतर तैयारी करने में मदद मिलेगी.

 पुरुष व महिला दोनों हॉकी टीमें बेंगलुरु में साइ परिसर में तैयारी कर रही हैं. हाकी इंडिया दोनों टीमों के मुख्य कोचों के साथ एक मीटिंग करेगा ताकि टीमों के लिए एक्सरसाइज प्रोग्राम तैयार किया जा सके.

रीड ने बोला कि यह बहुत निराशाजनक है कि ओलंपिक 2020 में नहीं होगा, लेकिन वर्तमान में संसार के सामने आई अभूतपूर्व परिस्थितियों को देखते हुए यह पूरी तरह से समझा जा सकता है जो अपेक्षित है. उन्होंने बोला कि मैं उन सभी एथलीटों के लिए खेद महसूस करता हूं जिन्होंने इसके लिए अपने ज़िंदगी के अंतिम चार वर्ष समर्पित किए हैं. हालांकि रद्द करने के बजाय इसका स्थगन उन्हें इस मुश्किल दौर में प्रेरणा देगा.

पुरुष टीम के कोच ने बोला कि हमारे लिए इस स्थिति में सकारात्मक यह है कि हमारे पास युवा टीम के साथ कार्य करने के लिए साल है. हम भाग्यशाली हैं कि साइ ने हमें एक सुरक्षित वातावरण प्रदान किया है व हम एक्सरसाइज जारी रख सकते हैं. महिला टीम के कोच मारिन ने बोला कि मैंने टीम के साथ एक मीटिंग की व इस समाचार के बारे में बताया. हालांकि यह निराशाजनक है लेकिन लड़कियों ने मुझसे बोला कि यह अच्छा है, कोच. हम जिस तरह से हैं, हम कार्य करना जारी रखेंगे. इससे हमें ओलंपिक खेलों की तैयारी के लिए व अधिक समय मिलेगा.

हॉकी इंडिया के अध्यक्ष मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने बोला कि महासंघ की प्रयास होगी की ओलंपिक के लिए दोनों टीमों की तैयारी में कोई कमी नहीं रहे. अहमद ने बोला कि बेशक निराशा की भावना है लेकिन कोविड-19 की स्थिति अभूतपूर्व है व इससे पूरी संसार प्रभावित हुई है.