हमारे बालों को इस तरह लाभ पहुंचाता कपालभाती प्राणायाम

हमारे बालों को इस तरह लाभ पहुंचाता कपालभाती प्राणायाम

योग के कितने फायदे हैं कि हम जानते ही नहीं हैं. बाल काले रखने का नेचुरल तरीका हर कोई खोजता रहता है. लेकिन बालों को आप हमेशा काले नहीं रख सकते हैं. लेकिन योग में कुछ ऐसे आसन और प्राणायाम हैं जो बालों को काला रखने में मदद करते हैं. अगर आप भी योगासन करते हैं तो इस प्राणायाम के बारे में जरूर जानकारी रखें.

Related image

यह प्रकृति का नियम है एक उम्र के बाद हर किसी के बाल सफेद होते हैं। लेकिन अगर किसी के बाल असमय सफेद होने लगते हैं तो वह इंसान आत्मग्लानी भी महसूस करने लगता है। उसका आत्मविश्वास भी कमजोर होने लगता है।

अगर समय से पहले बाल सफेद हो रहें हैं तो उसका कोई विशेष कारण जरूर होता है। बालों को सफेद होने से रोकने के लिए जीवनशैली में बदलाव के साथ-साथ विटामिन और मिनरल को शामिल किया जाना चाहिए।

यदि आप जीवनशैली में योग को शामिल करते हैं तो आप अपने सफेद होते हुए बालों को रोक सकते हैं। इसके लिए आपको रोजाना सिर्फ 15 मिनट कपालभाति प्राणायाम करना होगा। कपालभाति योग का सबसे चर्चित व फायदेमंद प्राणायाम होता है।

बाल काले रखने का नेचुरल तरीका कपालभाती प्राणायाम

जैसा की इसके नाम में ही इसका परिचय है, कपान का अर्थ होता है माथा (फोरहेड) और भाती का अर्थ चमक होता है। योग में प्राणायाम को श्वांस लेने और छोड़ने की विधि को कहते हैं।

कपालभाती प्राणायाम करने की विधि

कपालभाती प्राणायाम करने के लिए सबसे पहले आपको अपने लिए उपयुक्त आसन का चुनाव करना चाहिए। आसन से मतलब है जिसमें आसन में आप आसानी से 15 मिनट तक बैठ सकें। आसनों में आप सिद्धासन, पद्मासन या वज्रासन में से किसी एक को चुन सकते हैं।

कपालभाती प्राणायाम करते समय सांस को बाहर छोड़ने की क्रिया करनी होती है। सांस को छोड़ते समय या बाहर निकाते समय यह ध्यान देना चाहिए की आपको पेट अंदर की तरफ धक्का दे रहा हो।

कपालभाती से होने वाले 7 लाभ

यह किडनी और लीवर के कामकाज में सुधार करता है। इसके अलावा यह ब्लड सर्कुलेशन और पाचन को बढ़ाता है

यह आंखों से तनाव को दूर करता है और डार्क सर्कल मिटा को देता है।

कपालभाती आपके फेफड़ों को मजबूत करता है और उसकी क्षमता को बढ़ाता है।

कपालभाती का नियमित अभ्यास इंसान को सक्रिय करता है और आपके चेहरे पर चमक लाता है।

स्मरणशक्ति और एकाग्रता सुधार लाता है। यह डिप्रेशन से दूर रखता है और सकारात्मकता ऊर्जा प्रदान करता है।

यह एसिडिटी और गैस से संबंधित समस्याओं को दूर करता है।

कपालभाती प्राणायाम मेटाबॉलिज्म में सुधार करता है।