कमर व घुटने के दर्द से पाना है निजात, तो अपनाएं ये आसन

कमर व घुटने के दर्द से पाना है निजात, तो अपनाएं ये आसन

कमर, हमारे शरीर के सबसे अहम हिस्सों में से एक है जो शरीर को दो हिस्सों में बांटता है. इसलिए महत्वपूर्ण है कि यह ठीक ढंग से कार्य करे. कमर लचीली रहेगी तो बेहतर कार्य कर सकेगी. इसके लिए योग में धनुरासन सबसे उपयुक्त माना जाता है. इसके शाब्दिक अर्थ पर बात करें तो धनुर का मतलब होता है धनुष.

Related image

धनुष में बाण लगाकर जब उसको खींचा जाता है तो उस समय उसका जो आकार होता है यह आसन उसी पर आधारित है. इस आसन में हम शरीर को उसी आकार में ढालते हैं. योग प्रशिक्षक जिज्ञासा कापरी व कृति चटर्जी आज इसी आसन के बारे में बता रही हैं.

ऐसे करें आसन
- सबसे पहले जमीन पर पेट के बल लेट जाएं. हाथों को कमर के बगल में रखकर जमीन से चिपका लें व शरीर को एक दम सीधा रखें.
- अब पैरों को घुटने से मोड़कर पीछे की ओर लाएं व पैरों के पंजों को हाथों से पकड़ लें.
- अब एड़ियों को थोड़ा उपर की ओर उठाएं, जिससे कंधे खिंचें व शरीर थोड़ा ऊपर उठे. - छाती व जांघें ऊपर उठी रहें व कमर जमीन से चिपकी रहे.
आयंगर पद्धति
प्रकार एक

इसमें एक तकिया छाती के आगे रख लेते हैं व दूसरा तकिया दोनों पैरों के बीच में रखते हैं. छाती को तकिए पर टिका दें व हाथों से पैरों के पंजे पकड़ लें.

प्रकार दो
एक बेल्ट को पैरों के पंजों में फंसाएं. बेल्ट के दूसरे सिरे को दोनों हाथों से आगे की ओर खींचें. इसमें हाथ मुंह के थोड़ा आगे रहेंगे. जिनके कंधों में तकलीफ है व हाथ पीछे नहीं जाते वो ऐसे कर सकते हैं.

प्रकार तीन
इसमें दीवार पर एक रस्सी बांधें व खड़े होकर उस रस्सी को कमर में फंसा लें. अब एक नीचा स्टूल पीठ के पीछे रखें व पीछे की ओर झुक कर स्टूल पर हाथों को टिका लें.
इस आसन के फायदे
- कमर के लिए यह आसन सबसे ज्यादा लाभकारी है
- साथ ही इससे ऊर्जा जागरूक होती है व मुख पर तेज आता है
- इस आसन से घुटने व टखने मजबूत होते हैं
- स्पाइन के लिए भी यह आसन बहुत ज्यादा उपयोगी है. इससे स्पाइन सक्रीय होती है
- छाती की कठोरता को दूर करने में भी यह सहायक है