ताइवान नेशनल डे पर हिंदुस्तानियों ने जमकर दी बधाई, भड़का चाइना बोला- कोशिशें बेकार साबित होंगी

ताइवान नेशनल डे पर हिंदुस्तानियों ने जमकर दी बधाई, भड़का चाइना बोला- कोशिशें बेकार साबित होंगी

पेइचिंग
ताइवान के नेशनल डे पर हिंदुस्तानियों के शुभकामना संदेशों की बाढ़ से चाइना बौखलाया हुआ है. उसने बयान जारी कर बोला है कि ऐसी सभी कोशिशें बेकार साबित होंगी. केवल सोशल मीडिया ही नहीं, बल्कि नयी दिल्ली में चीनी दूतावास के आसपास ताइवान के नेशनल डे वाले पोस्टर भी लगाए गए हैं. पिछले वर्ष भी ऐसे पोस्टर लगवाए गए थे. इन पोस्टरों को लेकर चाइना का सरकारी भोपू ग्लोबल टाइम्स ने जमकर जहर भी उगला था.


चीनी दूतावास के प्रतिनिधि ने जताया विरोध
अब दिल्ली में चीनी दूतावास के प्रतिनिधि वांग जिआओजियान ने ट्वीट कर बोला है कि हाल ही में, हिंदुस्तान में कुछ मीडिया और व्यक्तियों ने 'ताइवान स्वतंत्रता' के लिए मंच प्रदान किया या समर्थन किया. इन लोगों ने 'दो चीन' या एक चीन, एक ताइवान' की वकालत की. इसने खुले तौर पर एक-चीन सिद्धांत का उल्लंघन किया है. हम इसका पुरजोर विरोध करते हैं. इस तरह की सभी कोशिशें बेकार साबित होंगी.




बीजेपी नेता ने शेयर किए होर्डिंग्स
बीजेपी नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने चीनी दूतावास के सामने लगी ताइवानी स्वतंत्रता दिवस की होर्डिंग्स को शेयर भी किया है. उन्होंने कई ताइवानी लोगों के वीडियो भी शेयर किए, जिसमें वे थैंक्यू कहते नजर आ रहे हैं. चाइना हमेशा से ताइवान के साथ दोस्ताना संबंध रखने वाले राष्ट्रों का विरोध करता रहा है.




चीन ने पिछले वर्ष भी किया था मना
बता दें कि चाइना की सरकार ने पिछले वर्ष ही हिंदुस्तान को ताइवानी स्वतंत्रता दिवस न मनाने का आग्रह किया था. उन्होंने बोला था कि यह चाइना का अभिन्न भाग है यदि हिंदुस्तान में ताइवान का राष्ट्र्रीय दिवस मनाया जाता है तो इससे चाइना के साथ संबंधों पर प्रभाव पड़ेगा. वहीं हिंदुस्तानियों ने चाइना के इस आग्रह को ठुकराते हुए ताइवान को जमकर शुभकामनाएं दी हैं.




चीनी दूतावास के बाहर ताइवान को शुभकामना देते पोस्‍टर्स लगाए
बता दें कि ताइवान से दोस्‍ताना संबंध रखने वाले राष्ट्रों से चाइना चिढ़ा रहता है. हालांकि हिंदुस्तान के रिश्‍ते ताइवान से मधुर हैं. आज यानी 10 अक्‍टूबर को ताइवान का नैशनल डे है. सोशल मीडिया पर हिंदुस्तानियों ने ताइवान का साथ दिया है. इसके अतिरिक्त दिल्‍ली में चीनी दूतावास के बाहर ताइवान को शुभकामना देते पोस्‍टर्स लगाए गए हैं.




क्यों है चाइना और ताइवान में तनातनी
1949 में माओत्से तुंग के नेतृत्व में कम्युनिस्ट पार्टी ने चियांग काई शेक के नेतृत्व वाले कॉमिंगतांग सरकार का तख्तापलट कर दिया था. जिसके बाद चियांग काई शेक ने ताइवान द्वीप में जाकर अपनी सरकार का गठन किया. उस समय कम्यूनिस्ट पार्टी के पास मजबूत नौसेना नहीं थी. इसलिए उन्होंने समुद्र पार कर इस द्वीप पर अधिकार नहीं किया. तब से ताइवान स्वयं को रिपब्लिक ऑफ चाइना मानता है.




ताइवान को अपना भाग मानता है चीन
चीन ताइवान को अपना अभिन्न अंग मानता है. चीनी कम्युनिस्ट पार्टी इसके लिए सेना के इस्तेमाल पर भी जोर देती आई है. ताइवान के पास अपनी स्वयं की सेना भी है. जिसे अमेरिका का समर्थन भी प्राप्त है. हालांकि ताइवान में जबसे डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी सत्ता में आई है तबसे चाइना के साथ संबंध बेकार हुए हैं.



कुवैत अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा इस दिन से पूर्ण रूप से किया जाएगा संचालित

कुवैत अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा इस दिन से पूर्ण रूप से किया जाएगा संचालित

कुवैत सिटी: कुवैत अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा रविवार 24 अक्टूबर से पूरी क्षमता से संचालन के लिए तैयार है. नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के महानिदेशक यूसेफ अल-फौजान द्वारा उद्धृत जानकारी के अनुसार, कुवैत अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा सरकार के फैसला के अनुरूप धीरे-धीरे सभी विमानन कंपनियों की वाणिज्यिक उड़ानों का संचालन करेगा.

नागरिक उड्डयन Covid-19 महामारी संकट की चुनौतियों और आवश्यकताओं के अनुसार संचालन करने में पास रहा, उन्होंने कहा, कुवैत में प्रवेश करने के लिए आवश्यक Covid-19 सुरक्षा प्रतिबंधों का पालन करने के लिए एयरलाइनरों और यात्रियों से आह्वान किया. सरकार के प्रतिनिधि तारिक अल-मेजरेम के अनुसार, सरकार ने रविवार से बिना मास्क पहने बाहरी गतिविधियों की अनुमति देने का निर्णय किया.

कुवैती सरकार ने बुधवार को देश में स्वास्थ्य प्रतिबंधों में ढील देते हुए सामान्य जीवन में धीरे-धीरे वापसी के लिए पांच चरण की योजना के आखिरी चरण की आरंभ की घोषणा की. तारेक अल-मेजरेम ने बोला है कि इसके अलावा, सरकार पूरी तरह से टीका लगाए गए लोगों के लिए सभी प्रकार के वीजा जारी करेगी.