भोपाल में कोरोना से 28 बच्चों सहित 347 लोग संक्रमित, जाने पूरी खबर

भोपाल में कोरोना से 28 बच्चों सहित 347 लोग संक्रमित, जाने पूरी खबर

कोरोना सैंपलिंग की शुक्रवार को आई रिपोर्ट के बाद कोलार सर्किल में ही 330 एक्टिव केस हो गए हैं। एसडीएम कोलार क्षितिज शर्मा ने अस्पताल संचालकों को तैयारी पूरी करने के संबंध में चर्चा की। जहां ऑक्सीजन प्लांट लगे हैं, वहां कर्मचारी तैनात कर दिए गए हैं।दूसरी लहर की तरह की तीसरी लहर में कोलार हॉटस्पॉट बनता जा रहा है। शुक्रवार तक यहां 17 कंटेनमेंट जोन बनाए जा चुके हैं। परिवार के परिवार संक्रमित हो रहे हैं। कई लोग तो अपने फस्र्ट कॉन्टेक्ट तक भूल गए हैं। इनसे कितने और लोगों को कोरोना फैलेगा इसके बारे में किसी को जानकारी नहीं है।

कोलार में पल्लवी नगर, आर्केड फेस-5, आकृति ईको सिटी, सागर ग्रीन हिल्स, पैलेस आर्चर्ड में 17 कंटेनमेंट बने हैं। दूसरे नंबर पर गोविंदपुरा सर्किल है, लेकिन यहां एक भी कंटेनमेंट जोन नहीं बना है। वहीं, टीटी नगर और सिटी सर्किल में एक-एक कंटेनमेंट जोन बनाया गया।ऑक्सीजन प्रभारी संयुक्त कलेक्टर राजेश गप्ता ने गोविंदपुरा स्थित आईनॉक्स प्लांट पर बड़े ऑक्सीजन सप्लायर और अस्पताल प्रबंधन के लोगों के साथ बैठक की। उन्होंने बताया कि शहर के बड़े अस्पतालों में पर्याप्त ऑक्सीजन उपलब्ध है। छोटे सिलेंडरों की जानकारी मांगी गई है।

इन बड़े अस्पताल-प्लांट में अभी इतनी ऑक्सीजन-80 मीट्रिक टन चिरायु अस्पताल में- 40 मीट्रिक टन आईनॉक्स, गोविंदपुरा में- 30 चिरायु एयरप्रोडक्ट, गोविंदपुरा में- 23 मीट्रिक टन पीपुल्स अस्पताल में- 30 मीट्रिक टन हमीदिया में- 30 मीट्रिक टन एम्स में- 30 मीट्रिक टन जेके अस्पताल- 20 मीट्रिक टन इनर्ट मंडीदीप में रिजर्वराजधानी में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। शुक्रवार को शहर में कोरोना के 347 नए मरीज सामने आए। इनमें 28 मरीजों की उम्र 18 साल से कम है। शहर में कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 1,24,984 पहुंच गई है। शहर में एक्टिव मरीजों की संख्या 962 है लेकिन राहत की बात यह है कि इनमें से 935 मरीज होम आइसोलेशन में है। वहीं, एक मरीज कोविड केयर सेंटर में और 26 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं।रोज संक्रमित हो रहे लोगों पर एक नजर07 जनवरी 34706 जनवरी 24505 जनवरी 16904 जनवरी 920३ जनवरी 6902 जनवरी 5401 जनवरी 4231 दिसंबर 27


सिगरेट के चक्कर में लड़की ने कर ली आत्महत्या

सिगरेट के चक्कर में लड़की ने कर ली आत्महत्या

इंदौर: मध्य प्रदेश के इंदौर में 11वीं क्लास की एक स्टूडेंट को सिगरेट पीने की वजह से सुसाइड करनी पड़ी. यह मामला सुनकर हर किसी के होश उड़ गए. जी दरअसल कुछ स्कूली दोस्तों ने लड़की की सिगरेट पीते हुए फोटो अपने मोबाइल में क्लिक कर ली थी और उसके बाद वह इसे वायरल करने की धमकी देने लगे थे. इसी बात से आहत छात्रा ने अपने घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. अब पुलिस इस मुद्दे की जांच में जुट गई है. इस मुद्दे में मिली जानकारी के अनुसार सिलिकॉन सिटी क्षेत्र में रहने वाली एक लड़की शहर के नामी प्राइवेट विद्यालय में 11वीं क्लास की स्टूडेंट थी.

जी हाँ और उसके पिता बच्चों के चिकित्सक हैं और मां पड़ोसी जिले बड़वानी में नर्स हैं. बीते सोमवार शाम को छात्रा के माता-पिता किसी काम से घर से बाहर गए हुए थे और छोटी बहन (10 साल) और भाई (4 साल) बिल्डिंग के नीचे खेल रहे थे. इसी बीच छात्रा कमरे में फांसी के फंदे पर झूल गई. वहीं शाम को जब माता-पिता वापस आए तो उन्होंने बेटी फंदे पर लटकते देखा और बचाने की प्रयास की लेकिन तब तक लड़की मर चुकी थी. मरने से पहले बीते शनिवार को छात्रा ने अपने पिता को बताया था कि उसने एक दिन कोचिंग से छूटते समय अपने दोस्तों के साथ सिगरेट पी ली थी और उसी दौरान कोचिंग में ही पढ़ने वाले 2 विद्यार्थी और एक छात्रा ने अपने मोबाइल से उसका फोटो क्लिक कर लिया था.

उसके बाद तीनों क्लासमेट उसे यह कहकर ब्लैकमेल करने लगे कि स्मोकिंग करने की फोटो तुम्हारे पापा-मम्मी को भेजेंगे. हालांकि, इस बात पर पिता ने बेटी को उसे माफ कर दिया था. हालाँकि फिर भी छात्रा को डर था कि दोस्त उसके फोटो को सोशल मीडिया पर वायरल कर देंगे और इसी को लेकर वह तनाव में चल रही थी. इस मुद्दे में थाना राजेन्द्र नगर के जांच अधिकारी श्याम जोशी ने बताया कि इस मुद्दे में पुलिस ने परिजनों के बयान ले लिए और आगे की कार्रवाई की जा रही है.