मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा मीटिंग में प्रशासनिक अधिकारियों को दिए यह आदेश 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा मीटिंग में प्रशासनिक अधिकारियों को दिए यह आदेश 

 कोरोना संक्रमण अब यूपी में भी बेकाबू होता जा रहा है. आए दिन मुद्दे बढ़ने के रिकॉर्ड टूट रहे हैं. ऐसे में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोरोना व संचारी रोगों का प्रसार रोकने के लिए विभागों को आपस में समन्वय बनाकर रणनीति पर कार्य करने को बोला है. साथ ही नोडल अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि वह अपने जिलों की समीक्षा रोजाना करें.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को अपने सरकारी आवास पर टीम-11 के साथ अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा मीटिंग में शासन द्वारा जिलेवार नामित किए गए वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों को अपने प्रभार वाले जिलों में स्वच्छता व सैनिटाइजेशन के विशेष अभियान की निगरानी मुख्यालय से करने के आदेश दिए. अभियान के दौरान उन्होंने कोविड-19 व संचारी रोगों की रोकथाम के तरीकों के साथ मेडिकल स्क्रीनिंग, स्वच्छ पेयजल आपूर्ति व स्वच्छता और सैनिटाइजेशन संबंधी कार्य पूरी गति से करने को कहा. अभियान के दौरान छिड़काव और फॉगिंग भी जरूरी रूप से कराने की हिदायत दी गई. प्रदेश में 48 हजार टेस्ट रोजाना की क्षमता प्राप्त किए जाने पर योगी ने संतोष जाहीर किया. उन्होंने इसे बढ़ाकर 50 हजार टेस्ट रोजाना करने के आदेश दिए.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टेली कंसल्टेंसी द्वारा चिकित्सीय परामर्श को प्रोत्साहित करने को कहा. साथ ही झांसी, वाराणसी, लखनऊ, कानपुर नगर व प्रयागराज में विशेष सतर्कता बरतने के आदेश दिए. इन जिलों में कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए उन्होंने प्रभावी कदम उठाने को कहा. सीएम ने बोला कि कोविड-19 एक संक्रामक रोग है, जिसे नियंत्रित रखने में साफ-सफाई बहुत महत्वपूर्ण है, इसलिए एल-1 कोविड अस्पताल वहीं बनाए जाएं, जहां स्वच्छता सहित सभी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध हों.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एल-1 अस्पतालों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए सभी महत्वपूर्ण तरीका करने के आदेश दिए. इस मौका पर चिकित्सा एजुकेशन मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य प्रदेश मंत्री अतुल गर्ग व मुख्य सचिव आरके तिवारी सहित अन्य वरिष्ठ ऑफिसर मौजूद थे.