ये ट्रेन 19 मंजिला अपार्टमेंट से होकर है गुजरती ,यात्री कमरे से निकलकर हो जाते हैं सवार

ये ट्रेन 19 मंजिला अपार्टमेंट से होकर है गुजरती ,यात्री कमरे से निकलकर हो जाते हैं  सवार

Train Runs Through Residential Building : दुनिया में यदि प्रकृति के अनेक करिश्मा उपस्थित हैं, तो इंसानों ने भी इंजीनियरिंग के ज़रिये ऐसे -ऐसे नमूने तैयार किए हैं, जिन्हें देखकर आंखों को विश्वास ही नहीं होता आपने अब तक कभी भी ट्रेन को घर के सामने की सड़क पर चलते हुए नहीं देखा होगा यहां तक कि रेल की पटरियों को रिहायशी इलाकों से थोड़ी दूरी पर बनाया जाता है मेट्रो की लाइनें भी ऊपर या ज़मीन के नीचे होती हैं हालांकि एक ट्रेन ऐसी भी बनाई जा चुकी है, जो 19 मंजिला रिहायशी बिल्डिंग के बीच से होकर गुजरती है

इस समय एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें रिहायशी बिल्डिंग के अंदर से ट्रेन गुजर रही है ये वीडियो कोई ग्राफिक्स या भ्रमित करने वाली तस्वीर नहीं बल्कि सौ प्रतिशत सच है चीन में चलने वाली एक ट्रेन रिहायशी बिल्डिंग के अंदर से होकर गुजरती है ये कोई आज नहीं बनाई गई है, बल्कि वर्षों से ट्रेनन का यूं ही आना-जाना चल रहा है और इससे लोगों को कोई भी कठिनाई नहीं हो रही है

इमारत के अंदर से गुजरती है ट्रेन
वायरल हो रहा वीडियो दक्षिण पूर्वी चीन के माउंटेन सिटी चंक्विंग की जनसंख्या करोड़ों में है मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट वाली बिल्डिंगों वाले इस शहर में स्थान की इतनी कमी है कि मोनो ट्रेन चलाने के लिए भी स्थान नहीं है जब यहां रेलवे ट्रैक बनाया जाने लगा तो रास्ते में एक 19 मंजिला बिल्डिंग आ गई कोई और राष्ट्र होता तो शायद बिल्डिंग को हटाया जाता, लेकिन चीन के इंजीनियर्स ने कुछ अलग ही कर दिया उन्होंने 19 मंजिला बिल्डिंग के छठें और आठवें फ्लोर को चीरते हुए सीधा ट्रेन रूट बना दिया आज ये ट्रेन अपनी इसी खूबी की वजह से पूरे विश्व में प्रसिद्ध हो चुकी है चीन में माउंट सिटी के तौर पर प्रसिद्ध इस स्थान पर 3 करोड़ से भी अधिक लोग रहते हैं, जिनके लिए ये ट्रेन सबसे अधिक सुविधाजनक है

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर इस अनोखी ट्रेन के वीडियो को @wowinteresting8 नाम की आईडी से शेयर किया गया है इस वीडियो को लाखों लोगों ने पसंद किया है और इस पर आश्चर्य जताया है फ्लोर्स को इस तरह काटा गया कि ट्रेन के गुजरने से किसी को कोई कठिनाई नहीं होती, जबकि इस बिल्डिंग के लोगों के लिए अपना स्टेशन भी है, जहां से वे सीधा ट्रेन तक पहुंच जाते हैं साइलेंसिंग तकनीक के ज़रिये ट्रेन का शोर भी इतना कम कर दिया है कि ये किसी डिशवॉशर जितनी ही आवाज़ करती है