एक बुजुर्ग की मर्डर का खुलासा करते हुए मृतक के दामाद को लिया गया हिरासत में

एक बुजुर्ग की मर्डर का खुलासा करते हुए मृतक के दामाद को लिया गया हिरासत में

गुरुग्राम पुलिस ने करीब डेढ़ वर्ष पहले हुई एक बुजुर्ग की मर्डर का खुलासा करते हुए मृतक के दामाद को हिरासत में लिया है. आरोपी दामाद ने ही रंजिश के चलते एक करोड़ रुपये की सुपारी देकर बुजुर्ग की मर्डर करवाई थी.

इसके बाद आरोपी दामाद ने अपनी पुश्तैनी जमीन हत्यारों के नाम कर दी थी, लेकिन उसके पिता ने दोबारा से जमीन अपने नाम करवा ली. अब वह उन हत्यारों को रुपये देने का बंदोवस्त कर ही रहा था कि अपराध ब्रांच ने आरोपी दामाद नरेश उसके दोस्त विकास व शूटर जयवीर व राहुल को गुरुवार को पंचगांव से अरैस्ट कर लिया. पूछताछ में आरोपियों ने पुलिस को बताया कि 26 जनवरी 2019 की रात साढ़े आठ बजे नरेश के ससुर हरपाल बाइक से अपनी बेटी के साथ प्लॉट से अपने घर जा रहे थे, तभी उन्हें रोककर गोली मार दी गई थी. उपचार के दौरान हरपाल की मृत्यु हो गई थी. पुलिस ने इस विषय में बादशाहपुर थाने में मर्डर का मुद्दा दर्ज किया था. आरोपी नरेश ने अपने साथी विकास को ससुर को मारने के लिए एक करोड़ रुपये नकद देने की सुपारी दे डाली. विकास ने मर्डर करने का षड्यंत्र रचते हुए अपने दो साथियों राहुल व जयवीर को हरपाल की करने के लिए भेजा.

पत्नी चे चल रहा था विवाद

पालम विहार क्राइम शाखा प्रभारी इंस्पेक्टर बिजेंद्र हुड्डा ने बताया कि मृतक हरपाल के दो लड़कियां थीं. एक लड़की को गोद लिया हुआ था. गोद ली हुई बेटी की विवाह आरोपी नरेश के साथ हुई थी. दूसरी बेटी की विवाह नरेश के छोटे भाई राहुल के साथ हुई थी. हरपाल की बेटी व दामाद नरेश के बीच अक्सर झगड़ा होता था. दोनों की बीच झगड़े की वजह से हरपाल अपनी बेटी को अपने घर रखता था. इस वजह से हरपाल का भी दामाद से झगड़ा हुआ था.
 
जेल में हुई थी आरोपियों से मुलाकात

आरोपी नरेश ने पुलिस की पूछताछ में खुलासा किया कि वह गैरकानूनी हथियार के मुद्दे में एक बार कारागार गया था. कारागार में उसकी मुलाकात विकास यादव गांव मोकलवास व उसके एक अन्य साथी से हुई. उसके बाद ये सभी जमानत पर बाहर आ गए व आपस में मिलना-जुलना प्रारम्भ हो गया. जून 2018 में आरोपी नरेश की दादी का स्वर्गवास हो गया जिसके बाद उसने अपनी पत्नी सुमन को भिवाड़ी बुला लिया. जब वह पत्नी सुमन को लेकर गांव जाने लगा तो उसने जाने से मना कर दिया. इस पर दोनों के बीच झगड़ा हो गया.
  
मारपीट का बदला लेने के लिए रची थी साजिश

इसके बाद सुमन के पिता हरपाल अपने साथ कुछ लोगों को लेकर आए व नरेश के साथ हाथापाई की व सुमन को अपने साथ घर वापस ले गए. आरोपी नरेश और उसकी पत्नी के बीच तलाक का केस चल रहा है. आरोपी नरेश ने अपने ससुर हरपाल की इस हरकत के कारण उसे जान से मारने की ठान ली थी. हरपाल के कोई लड़का न होने के कारण उसकी संपत्ति हरपाल के मरने के बाद सुमन के नाम आनी थी.