OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

तिरुवनंतपुरम: केरल में लोगों को कुत्तों से अधिक डर बिल्लियों का है और प्रदेश में पिछले कुछ सालों में बिल्लियों के काटने के मुद्दे कुत्तों के काटने की तुलना में कहीं अधिक सामने आए हैं इस वर्ष केवल जनवरी माह में ही बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में एक आरटीआई (सूचना का अधिकार) के उत्तर में यह जानकारी दी

राज्य स्वास्थ्य निदेशालय के अनुसार, पिछले कुछ सालों से बिल्लियों के काटने का उपचार कराने वालों की संख्या कुत्तों के काटने का उपचार कराने वालों से अधिक है

आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष केवल जनवरी में बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे प्रदेश के पशु संगठन, ‘एनिमल लीगल फोर्स’ द्वारा दाखिल आरटीआई के उत्तर में यह आंकड़े दिए गए इसमें 2013 और 2021 के बीच कुत्तों और बिल्लियों द्वारा काटने के आंकड़ों के साथ ‘एंटी-रेबीज’ टीके और सीरम पर खर्च की गई राशि की भी जानकारी दी गई है

आंकड़ों के अनुसार, 2016 से बिल्लियों के काटने के मुद्दे में वृद्धि हुई है 2016 में बिल्लियों से काटने का 1,60,534 इतने लोगों ने उपचार कराया जबकि कुत्तों के काटने के 1,35,217 मुद्दे सामने आए 2017 में बिल्लियों के काटने के 1,60,785 मामले, 2018 में 1,75,368 और 2019 और 2020 में यह बढ़कर क्रमश: 2,04,625 और 2,16,551 हो गए दक्षिणी प्रदेश में 2014 से लेकर 2020 तक बिल्लियों के काटने के मामलों में 128 फीसदी वृद्धि हुई

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2017 में कुत्तों के काटने के 1,35,749, साल 2018 में 1,48,365, साल 2019 में 1,61,050 और साल 2020 में 1,60,483 मुद्दे सामने आए रेबीज से पिछले वर्ष पांच लोगों की मृत्यु हुई थी


ऑनलाइन मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस, स्कूलों ने की खास तैयारी

ऑनलाइन मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस, स्कूलों ने की खास तैयारी

इस साल स्वतंत्रता दिवस की रौनक थोड़ी फीकी की नजर आने वाली है। इन दिनों कोरोना के कारण स्कूलें बंद चल रही है। यह दिवस पूरे भारत में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। स्कूलों में भी कई तरह के कार्यक्रम होते हैं।ऐसे में कई स्कूल ऑनलाइन माध्यम से स्वतंत्रता दिवस मनाएंगे। इसके लिए स्कूलों ने खास तैयारी भी कर रखी है। जिस समय पर स्कूल में झंडा फहराया जाएगा, उस वक्त लाइव स्ट्रीमिंग के जरिए बच्चे अपने घर से इसे देख सकेंगे।

लाइव रहेंगे छात्र:

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कई स्कूलोंं की प्रिंसिपल ने कहा कि स्कूल में अलग- अलग कक्षा के छात्रों द्वारा कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जिसमें बच्चों के साथ ही माता-पिता भी भाग लेंगे। वहीं कुछ शिक्षक स्कूल जाकर झंडा फहराएंगे और इसकी लाइव स्ट्रीमिंग भी करेंगे। 

लेकिन सजेंगे स्कूल:

वहीं गाजियाबाद में डीपीएस स्कूल की प्रिंसिपल पल्लवी उपाध्याय ने बताया इस वर्ष कोरोना वायरस की वजह से ऑनलाइन असेंबली कराई जाएगी। पंरतु स्कूल को पूरी तरह से सजाया जाएगा। वहीं स्कूल प्रशासन के कुछ लोग जाकर झंडा फहराएंगे। वहीं पेंटिग प्रतियोगिता, काव्य पाठ जैसे कई कार्यक्रम आयोजित किए जायेंगे।