पैसा नहीं देने पर कर्मचारी के साथ हैवानियत, जाने मामला

पैसा नहीं देने पर कर्मचारी के साथ हैवानियत, जाने मामला

कोरोना वायरस ( coronavirus ) संकट के बीच पुणे ( Pune ) से एक ऐसा मुद्दा सामने आया है, जिसने सनसनी मचा दी है. यहां एक बॉस ( Boss ) ने कर्मचारी ( Employee) के साथ बहुत ज्यादा घिनौना हरकत की है. 

बताया जा रहा है कि कंपनी के पैसों को लेकर पहले कर्मचारी का किडनैप ( Kidnap ) कर उसे प्रताड़ित किया व फिर उसके प्राइवेट भाग ( Private Part ) पर सेनिटाइजर ( Sanitizer Spray ) छिड़क दिया. फिलहाल, पुलिस ( Pune Police ) ने मुद्दे में शिकायत ( FIR ) दर्ज कर ली है व मुद्दे की छानबीन प्रारम्भ कर दी है.

Lockdown के कारण Delhi में फंस गया था पीड़िता

पुणे ( Pune ) के कोथरूड के रहने वाले 30 वर्ष के एक शख्स ने अपने बॉस व दो अन्य लोगों पर आरोप लगाया है कि उसके साथ बुरा बर्ताव किया है. पुलिस को दी अपनी शिकायतत ( FIR ) में शख्स ने बोला कि कोरोना वायरस ( coronavirus ) के कारण आकस्मित लॉकडाउन ( India Lockdown ) लग गया, जिसके कारण वह दिल्ली ( Delhi ) में फंस गया था. उसने बताया कि उसकी कंपनी आर्टिस्ट्स के पेंटिंग्स ( Paintings ) की प्रदर्शनी ( Exhibition ) लगाने का कार्य करती है. कार्यालय के कार्य के सिलसिले में वह मार्च में दिल्ली ( Delhi ) गया था. लेकिन, आकस्मित लॉकडाउन ( Lockdown in Delhi ) की घोषणा हो गई, जिसके कारण वह वहीं फंस गया. पुलिस का बोलना है कि पीड़िता ने बताया कि दिल्ली में वह एक लॉज ( Lodge ) में रुका रहा व कार्यालय ( Office ) से जो पैसे मिले थे उसे वह खर्च कर रहा था.

पैसा नहीं देने पर कर्मचारी के साथ हैवानियत

अपनी शिकायत में पीड़ित ने बताया कि सात मई को वह पुणे लौटा तो बॉस ने उसे 17 दिनों के लिए होटल में क्वारंटाइन ( Quarantine in Hotel ) होने के लिए बोला. लेकिन, उसके पास पैसे नहीं थे इसलिए उसने अपना फोन ( Mobile Phone ), डेबिट कार्ड ( Debit Card ) चेक ऑउट होने के लिए गिरवी रख दिया. वहीं, 13 जून को कंपनी के मालिक व उसके सहयोगियों ने खर्च किए हुए पैसे मांगे. लेकिन, उसने बोला कि उसके पास पैसे नहीं हैं. जिसके बाद बॉस व दो अन्य लोगों ने उसे कार में डाला व अगवा ( Boss Kidnap Employee ) करके कार्यालय ले आए. इसके बाद उसे बांध दिया व उसकी जमकर पिटाई की. इतना ही नहीं उसके प्राइवेट भाग पर सेनिटाइजर छिड़क (Sanitizer Spray on private part ) दिया. हालांकि, बाद में उसे छोड़ दिया गया. वहां, से छूटने के बाद शख्स ने खुद को हॉस्पिटल में भर्ती कराया व दो जुलाई को FIR दर्ज कराई. फिलहाल, इस मुद्दे में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है व पुलिस आरोपियों को पकड़ने के लिए छानबीन कर रही है.