हिंदुस्तान और भारत के नाम पर किया जा रहा पेशाब, लोगो में दिखी नाराजगी

हिंदुस्तान और भारत के नाम पर किया जा रहा पेशाब, लोगो में दिखी नाराजगी

आजकल मार्केट में कुछ ऐसी चीजें है जिन्हें हम अनदेखा कर देते है लेकिन वो सही मायने में गलत है। सोशल मीडिया में इन दिनों हिंदुस्तान “Hindustan” के नाम पर बने उत्पाद जिनका प्रयोग शौचालय में होता है उनको बंद करने की मांग हो रही है। हिंदुस्तान वो देश जंहा विश्व की सबसे बड़ी हिन्दू आबादी रहती है उस देश के नाम की गरिमा मिट्टी में मिलाने का काम कई लोग करते है। 

किया जा रहा पेशाब:

हिंदुस्तान सैनेटरी नाम से बने उत्पादों के फोटो के साथ लोग अपना गुस्सा जाहिर कर रहे है। लोगो का कहना है कि देवी देवताओं और देश से जुड़े प्रतीक शौचालय और गंदगी वाली जगह पर नहीं लगाये जाने चाहिए। लोगों ने हिंदुस्तान और भारत नाम से आने वाले सेनेटरी उत्पाद बंद करने और इनके निर्माताओं पर कार्यवाही की मांग की है।

हालांकि News18 की खबर के अनुसार सेनेटरी वेयर उत्पाद बनाने वाली कंपनियां अपने उत्पादों के ट्रेडमार्क के रूप में ‘Hindustan’ शब्द का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगी।

2011 में उपभोक्ता मामलों के विभाग ने सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों की सरकारों और सभी सरकारी मंत्रालयों और विभागों के नाम जारी आदेश में कहा है कि आगे से हिन्दुस्तान शब्द का इस्तेमाल ट्रेडमार्क के रूप में नहीं होना चाहिए।


यहां है ये अनोखी प्रथा, मर्दो से मार खाकर महिलाओं का हो जाता हैं बुरा हाल

यहां है ये अनोखी प्रथा, मर्दो से मार खाकर महिलाओं का हो जाता हैं बुरा हाल

इस दुनिया में आज भी बहुत सी अजीबोगरीब परंपरा चलती आ रही है। आज हम आपको एक ऐसी ही परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं जो आदिवासियों और पिछड़ी जातियों में आज भी निभाई जाती हैं। ये हैं इथोपिया की ऐसी जनजाति जहन महिलाएं अपने पति से पिटने में गर्व महसूस करती हैं। और इन्ही की कुछ तस्वीरें कैमरे में कैद की एक फ्रेंच फोटोग्राफर ‘एरिक लैफोर्ग’ ने।

मार खाती है महिलाएं:

ये जनजाति है हैमर नाम की जाति। इनकी मानें तो ये कहते हैं कि ये जाति बहुत ही अलग है। इनके बारे में बता दे कि इस जाति के लोग कैटल जंपिंग सेरेमनी मनाते हैं ये उनका एक खास तरह का समारोह होता है। इस में 15 गायों को एक साथ खड़ा कर दिया जाता है और एक युवक उसे कूदते हुए पार करना होता है अगर कोई लड़का ऐसा नही कर पाया तो उसकी शादी नहीं की जाती है।

महिलाएं मिलकर उसे पीटती भी हैं। इसके बाद उस लड़के के घर की सभी औरतों को पीटा जाता है। महिलाओं को मारने के लिए पुरुषों का एक संगठन होता है जिसे ‘माजा’ कहते हैं। और इसे महिलाएं बहुत ही मज़े के साथ करती हैं।