छत्तीसगढ़ में बहन ने की भाई को जेल पहुँचाने की ख्वाहिश

छत्तीसगढ़ में बहन ने की भाई को जेल पहुँचाने की ख्वाहिश

बीते कल यानी 3 अगस्त को सभी भाई-बहनों ने राखी का पर्व मनाया। इसी बीच छत्तीसगढ़ में पालनार की लिंगे के लिए रक्षाबंधन खुशियां लेकर आया है। 

जी दरअसल यहाँ 12 वर्ष की आयु से नक्सल संगठन में शामिल होकर हत्या करने वाले युवक ने आत्म समर्पण कर दिया है। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि युवक का नाम मल्ला है व उसपर 8 लाख का इनाम था। वहीँ बताया जा रहा है सुकमा जिले के मल्ला ने अपनी बहन लिंगे की पहल पर पुलिस को आत्म समर्पण कर दिया है।

वहीँ जब यह समाचार बहन को मिली तो उसने खुशी-खुशी इस बार अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी। बताया जा रहा है 14 वर्ष बाद नक्सली मल्ला अपने घरवालों से मिलने के लिए आया था। वहीँ परिवार से मिलकर जब वह वापस जा रहा था तो उसकी बहन उसकी ढाल बनकर खड़ी हो गई। इस दौरान बहन ने उसे वापस जाने से रोक लिया। बहन उसे लेकर पुलिस के पास चली गई व उसे आत्म समर्पण करवा दिया। आप सभी को बता दें कि लिंगे के लिए यह राखी का पर्व बहुत ज्यादा ख़ास रहा क्योंकि अपने बड़े भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिए लिंगे को वर्षों इंतज़ार करना पड़ा।

अब इस वर्ष जाकर लिंगे ने अपने भाई को राखी बांधी है व उसकी आरती उतारी है। उसने अपने भाई को मिठाई खिलाई व भाई की लंबी आयु की कामना की। यह सब कुछ पुलिस के एक अभियान के अनुसार हुआ। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि मल्ला अपनी बहन के बुलावे पर 14 वर्ष बाद घर लौटा है। उसने बोला कि, 'बहन व परिवार को देख मन बदला व बहन के कहने पर उसने पुलिस के सामने हथियार डाल दिए। '