साल 2006 में हेमंत पडलकर का बटुआ खोया 14 वर्ष बाद वापस

साल 2006 में हेमंत पडलकर का बटुआ खोया 14 वर्ष बाद वापस

किसी की भाग्य कब चमक जाए कुछ बोला नहीं जा सकता. कई बार तो लोगों की जिंदगी में ऐसी भी घटनाएं होती हैं, जिनपर एक बारगी किसी को यकीन भी नहीं आता. मुंबई में भी हेमंत पडलकर नामक आदमी के साथ एक ऐसी ही घटना हुई है, जिसे सुनकर हर किसी को हैरानी हो रही है. दरअसल यह मुद्दा जुड़ा है उनके बटुए ( wallet ) से, जो 14 वर्ष पहले मुंबई लोकल ट्रेन ( Mumbai local train ) में खो गया था व अब मिल गया है.

ताजा जानकारी के मुताबिक साल 2006 में हेमंत पडलकर का बटुआ उस वक्त खो ( pick pocketing ) गया था, जब वह लोकल ट्रेन में सफर कर रहे थे. उस वक्त हेमंत के बटुए में 900 रुपये रखे हुए थे. हाल ही में पुलिस ने उन्हें सूचित किया कि 14 वर्ष बाद वह बटुआ मिल गया है.

सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) के एक ऑफिसर ने रविवार को बोला कि हेमंत पडलकर ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस-पनवेल लोकल ट्रेन में यात्रा करते समय 2006 में अपना बटुआ खो दिया था. इस वर्ष अप्रैल में उन्हें जीआरपी वाशी से एक फोन कॉल आया, जिसमें बताया गया कि उनका बटुआ मिल गया है.

हालांकि, वह तब कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडाउन ( coronavirus lockdown ) के कारण अपने बटुए को लेने के लिए नहीं जा सके थे. हाल ही में कोरोना वायरस लॉकडाउन के बाद प्रारम्भ किए गए अनलॉक के भीतर प्रतिबंधों में ढील दिए के बाद नवी मुंबई के पनवेल निवासी पडलकर हाल ही में वाशी स्थित जीआरपी ऑफिस पहुंचे, जहां उन्हें उनके बटुए में उपस्थित रकम में बचा उनका भाग दे दिया गया.

मीडिया से वार्ता में पडलकर ने बताया कि उस वक्त उनके बटुए में 900 रुपये थे, जिसमें 500 रुपये का नोट भी शामिल था. हालांकि बाद में साल 2016 में डिमॉनेटाइजेशन के तहत वह नोट बेकार हो गया था. वाशी जीआरपी ने उन्हें 300 रुपये लौटा दिए. उन्होंने बोला कि स्टांप पेपर के कार्य के लिए 100 रुपये की कटौती की गई व शेष 500 रुपये चलन से बाहर हो चुके पुराने 500 के नोट के नए नोट के साथ बदले जाने के बाद वापस कर दिए जाएंगे.

उन्होंने बोला कि जब वह जीआरपी ऑफिस में गए तो कई ऐसे थे जो अपनी चुराई गई रकम को इकट्ठा करने के लिए आए थे. इनमें हजारों की संख्या में पुराने नोट ( demonetisation ) की रकम थी, व वे सोच रहे थे कि वे इसे वापस कैसे प्राप्त करेंगे. हालांकि पडलकर ने बोला कि वह अपना पैसा वापस पाकर खुश हैं.

जीआरपी के एक ऑफिसर ने बोला कि पडलकर के बटुए को चुराने ( stolen wallet ) वालों को कुछ समय पहले हिरासत में लिया गया था. उन्होंने बोला कि जीआरपी ने आरोपी से पडलकर का बटुआ बरामद किया जिसमें 900 रुपये थे. इसके बाद पुलिस ने पडलकर को 300 रुपये दिए व शेष 500 रुपये एक नए नोट के साथ बदले जाने के बाद उन्हें वापस कर दिए जाएंगे.