उत्तर प्रदेशवायरल

मैंने पहाड़ा नहीं याद किया तो दोस्तों से एक घंटे तक पिटवाया, शिक्षिका बोली…

मुजफ्फरनगर जिले के एक निजी विद्यालय में मुसलमान विद्यार्थी की उसकी दोस्तों द्वारा पिटाई करवाने के मुद्दे ने तूल पकड़ लिया है वीडियो वायरल होने के बाद इस मुद्दे ने पूरे राष्ट्र में हलचल पैदा कर दी है अधिकारी जहां एक ओर कार्रवाई की बात कह रहे हैं वहीं शिक्षिका ने सफाई देते हुए अपनी गलती को मान लिया है इस पूरे मुद्दे में जब विद्यार्थी से पूछा गया तो उसने पिटाई की वजह बताई अभी पुलिस ने आरोपी शिक्षिका के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है

पूरा मुद्दा मुजफ्फरनगर के मंसूरपुर क्षेत्र के खुब्बापुर गांव के एक निजी विद्यालय है जानकारी के मुताबिक प्राइवेट विद्यालय की शिक्षिका तृप्ता त्यागी ने एक मुसलमान बच्चे को सिर्फ़ इस वजह से उसे दोस्तों से पिटवा दिया क्यों वह पहाड़ा याद करके नहीं आया था शिक्षिका ने क्लास के अन्य बच्चों से मुसलमान विद्यार्थी को कई चांटे लगवाए इसके बाद उसकी कमर पर मारने को कहा बच्चे की पिटाई का वीडियो वायरल हुआ तो बवाल मच गया विद्यालय में बच्चे की पिटाई के मुद्दे ने तूल पकड़ा तो पुलिस ने शिक्षिका के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कर ली है

शिक्षिकता ने मानी गलती, बोलीं-पिटाई नहीं करवानी थी

मुजफ्फरनगर के मंसूरपुर में निजी विद्यालय में पहाड़ा याद नहीं हेाने पर बच्चे को सहपाठियों से थप्पड़ लगवाने और धार्मिक टिप्पणी के मुद्दे में आरोपी शिक्षिका तृप्ता त्यागी ने मीडिया में वार्ता में अपनी गलती मानी है शिक्षिका ने बोला कि उस समय वह परेशान थी वह दिव्यांग है और उठ पाने में असमर्थ है पहाड़ा याद नहीं करने पर दूसरे बच्चे से पिटाई को बोल दिया था शिक्षिका ने बोला कि वह इसके लिए गलती मानती हैं उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था, लेकिन उसकी मंशा धार्मिक आधार पर प्रताड़ित करने की नहीं थी शिक्षिका ने बोला कि जो वीडियो वायरल किया जा रहा है उसमें बहुत से शब्दों को काटा गया है सिर्फ़ एक शब्द को टारगेट करके वीडियो वायरल की गई है शिक्षिका ने इस मुद्दे को सियासी तूल नहीं देने की अपील की

क्या कहा पीड़ित बच्चा

मुजफ्फरनगर के जिस विद्यालय में मुसलमान बच्चे की पिटाई की गई है, उसने पूरे मुद्दे की जानकारी दी पीड़ित बच्चे ने कहा कि वह पहाड़ा याद नहीं करके गया था इसलिए मेरे दोस्तों से उसे पिटवाया गया बच्चे ने कहा कि यह करने के लिए उसकी टीचर ने बोला था इसके बाद उन्होंने मुझे एक घंटे तक पीटा था जिस समय बच्चे की पिटाई हो रही थी उसका चचेरा भाई भी वहीं था उसने कहा कि वह किसी काम से विद्यालय गया था वहां देखा कि टीचर अन्य बच्चों से भाई को थप्पड़ मारने के लिए कह रही थीं पिटाई के दौरान उसी ने वीडियो बनाया था

पिटाई से रोने लगा बच्चा

वायरल वीडियो में शिक्षिका ने पहले एक बच्चे से कहा… इसे मारो… इसके बाद दूसरे बच्चे को बुलाया और बल से मारने को बोला दूसरे विद्यार्थी के चांटा मारते ही मासूम रोने लगा इस दौरान शिक्षिका किसी से बात करते हुए आपत्तिजनक टिप्पणी करती रही

कुछ ही देर में करने लगा ट्रेंड

वीडियो को एक यूजर ने ट्वीटर पर मुजफ्फरनगर पुलिस को टैग करते हुए कार्रवाई की मांग की इसके बाद रीट्वीट और कमेंट्स की झड़ी लग गई कुछ ही घंटे में इसके हैसटैग भी चलने लगे और देखते-देखते वीडियो राष्ट्र के टॉप ट्रेंडिंग की लिस्ट में शामिल हो गया

डीएम ने बीएसए से मांगी रिपोर्ट

वीडियो वायरल होते ही जिले के आलाअधिकारियों ने मुद्दे का संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दे दिए जिलाधिकारी अरविंद मल्लपा बंगारी ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से शनिवार तक पूरे मुद्दे की रिपोर्ट तलब कर ली है बीएसए शुभम शुक्ला ने शाहपुर ब्लाक के खंड शिक्षा अधिकारी को जांच करने के लिए गांव भेजा है एसएसपी संजीव सुमन ने थाना पुलिस और क्षेत्राधिकारी को तुरन्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं

प्रतिबंधित है शारीरिक दंड या मानसिक शोषण

शिक्षा का अधिकार अधिनियम में बच्चों को किसी भी प्रकार का शारीरिक दंड या मानसिक उत्पीड़न प्रतिबंधित है सेक्शन 17 के मुताबिक विद्यालय को सीखने का वातावरण तैयार करना चाहिए ना कि वह सुधारात्मक केंद्र के रूप में काम करे शारीरिक दंड और मानसिक आघात एक-दूसरे के प्रति-उत्पादक हैं और इससे बच्चे केा हानि हो सकता है यह स्थिति बच्चे को पहले से अधिक विद्रोही बना सकती है आरटीई किसी भी तरह के शारीरिक दंड को प्रतिबंधित करती है

क्या कहते हैं नियम

  • बच्चे को किसी भी तरह का शारीरिक दंड नहीं दिया जाएगा
  • ऐसा कोई कार्य नहीं होगा जो बच्चे को मानसिक आघात पहुंचाए
  • स्कूल बच्चे के सीखने के अनुकूल पढ़़ाई का वातावरण तैयार करेगा
  • जाति, धर्म, क्षेत्र के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा
  • ऐसा कोई कृत्य नहीं होगा जो बच्चे में मन में हीनभावना पैदा करे

स्कूल में नहीं पहुंचे बच्चे, जांच को पहुंचे अफसर

विवादों में आने के बाद मंसूरपुर के खोब्बपुर गांव के नेहा पब्लिक विद्यालय में शनिवार को बच्चे नहीं पहुंचे वहीं बेसिक शिक्षा अधिकारी के निर्देश के बाद खण्ड शिक्षा अधिकारी भारती मुद्दे की जांच करने विद्यालय पहुंचे उनके मुताबिक मुद्दे की जांच के बाद जल्द रिपोर्ट बेसिक शिक्षा अधिकारी को सौंप दी जाएगी

Related Articles

Back to top button