आईआईटी जेईई मेंस में हाथ लगी असफलता तो युवक ने उठाया ये बड़ा कदम

आईआईटी जेईई मेंस में हाथ लगी असफलता तो युवक ने उठाया ये बड़ा कदम

आईआईटी जेईई मेंस में असफलता हाथ लगी तो एक विद्यार्थी ने मृत्यु को गले लगा लिया. शुक्रवार की रात जेईई मेंस का रिजल्ट आने के बाद रोनित सिंह (20 वर्ष) ने सरायढेला थाना क्षेत्र के कोलाकुसमा तारा अपार्टमेंट स्थित अपने फ्लैट में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. आत्मघाती कदम उठाने से पहले रोनित ने अपने माता, पिता व छोटे भाई के नाम मार्मिक खत (सुसाइडल नोट) लिखा.


सुसाइडल नोट में लिखा उसने लिखा है- आई एम सॉरी मम्मी-पापा. मैं फिर से फेल हो गया. मैं व आप लोगों को दुखी नहीं कर सकता. हम हमेशा आपको नीचा दिखाए हैं. कभी खुशी नहीं दे सके. एक आखिरी दुख देने जा रहा हूं. हो सके तो माफ कर दीजिएगा. आई लव यू मम्मी-पापा, हम ये करना नहीं चाहते पर मेरे से व प्रेशर नहीं झेला जाएगा. यशु (छोटा भाई) मम्मी-पापा का ख्याल रखना. जीवन में कुछ बड़ा करना. हमको मालूम है तुम कर लेगा. बस मम्मी-पापा को मेरी तरह कभी परेशान मत करना. ये सुसाइडल नोट रोनित के कमरे से मिला है. इसे घरवालों ने सरायढेला पुलिस को सौंपा है. रोनित बाघमारा के उमेश सिंह का पुत्र था. शुक्रवार की रात रिजल्ट बेकार होने के कारण वह बहुत ज्यादा तनाव में था.

लाइफ में बहुत कुछ कर सकते थे, पर सोसाइटी हर किसी को मॉर्क्स से जज करती है
भावनात्मक लेटर में रोनित ने समाज को झकझोरने वाले दबाव की भी चर्चा की है. उसने लिखा है कि हम जीवन में बहुत कुछ व कर सकते थे, पर सोसाइटी मॉर्क्स से हर किसी को जज करती है. व मेरे से पढ़ाई नहीं होता. हम पहले भी सुसाइड करने की कोशिक कर चुके हैं पर आप का चेहरा याद करके रुक जाते थे. पर अब नहीं होगा मेरे से.

मम्मी, प्लीज आप ज्यादा मत रोना
रोनित ने लिखा है कि पापा हमेशा आपको गले लगाने का मन करता था पर कभी लगा नहीं पाए. मम्मी प्लीज आप रोना नहीं ज्यादा. आप लोग अपना ख्याल रखना, तीनों हमेशा खुश रहना. यशु मम्मी-पापा का बात हमेशा मानना, कभी उनकी बात नहीं काटना.

हमेशा रूम बंद करके रोते थे, कोई नहीं था दुख बांटने वाला
लेटर में उसने लिखा है कि हम रोज रूम बंद करके रोते थे. कोई नहीं था मेरी बात सुनने को, दुख बांटने को. पापा आप हमेशा मेरा दोस्त बनकर रहना चाहते थे. पर जब भी हम दुखी होते थे या रोते थे तो आप समझाते थे लड़का होकर रोना नहीं चाहिए. पापा-मम्मी आपलोग संसार के बेस्ट मम्मी-पापा हैं. आप लोग मेहनत करके हमको पढ़ाए व हम बार-बार फेल हो जाते हैं.

यशु एग्जाम के लिए बेस्ट ऑफ लक, हम हमेशा आपके साथ रहेंगे
रोनित ने लिखा है कि हम जिंदा रहकर बस आपलोगों को दुख दिए हैं. मेरी आखिरी ख़्वाहिश है आप तीनों हमेशा खुश रहना. लव यू मम्मी-पापा, आई एम सॉरी. यशु एग्जाम के लिए बेस्ट ऑफ लक. मम्मी-पापा ज्यादा मत रोना. हम हमेशा आपके साथ रहेंगे. खुश रहना.