वायरल

वैज्ञानिकों ने उड़ने वाले डायनासोर यानी टेरोसॉर की अज्ञात प्रजाति का लगाया पता

Flying Dinosaur Fossil: वैज्ञानिकों ने उड़ने वाले डायनासोर यानी टेरोसॉर की अज्ञात प्रजाति का पता लगाया है उन्हें ऑस्ट्रेलिया के पश्चिमी क्वींसलैंड में 10 करोड़ वर्ष पुराना जीवाश्‍म मिला था यह जीवाश्‍म टेरोसॉर की नयी प्रजाति Haliskia petersensi का है नयी खोज से पता चलता है कि क्रेटेशियस काल में टेरोसॉर कहीं बड़े भूभाग में फैले थे 2021 में इस जीवाश्म की खोज हुई थी और उस पर चली स्टडी के नतीजे जर्नल में छपे हैं

नई खोज कई वजहों से अहम है हमें अभी तक अज्ञात रही टेरोसॉर की प्रजाति का पता लगा उसका कंकाल ऐसे महाद्वीप से मिला है जहां टेरोसॉर के जीवाश्‍म कम मिलते रहे हैं यह जीवाश्‍म अभी तक ऑस्ट्रेलिया में मिले कंकालों की तुलना में पूर्ण है H.peterseni के कंकाल में खोपड़ी का हिस्सा, उसका पूरा जबड़ा, दो कशेरुक, 12 पसलियां, दो गैस्ट्रालिया, साथ ही कई फालैंगेस, मेटाटार्सल और अंकलियां शामिल हैं

बड़े-बड़े पंखों के सहारे उड़ता था यह डायनासोर

H.peterseni थूथन-शिखा वाले, दांतदार टेरोसॉर के समूह से जुड़ा है, जिन्हें एन्हैंगुएरियन बोला जाता है ये पूरे विश्व में पाए गए हैं इस समूह में अब तक के सबसे बड़े टेरोसॉर में से एक, ऑर्निथोचेरस सिमस भी शामिल है, जिसके पंखों का फैलाव 12 मीटर से अधिक था आज के अधिकतर बाजों के पंखों का फैलाव 2 – 2.5 मीटर तक होता है, जबकि अल्बाट्रॉस का विंगस्पैन इससे एक मीटर अधिक हो सकता है

रिसर्चर्स का अनुमान है कि इस टेरोसॉर के पंखों का फैलाव 4.6 मीटर तक रहा होगा इसकी खोपड़ी और जबड़े की बनावट से पता चलता है कि टेरोसॉर की ‘एक मजबूत, मांसल जीभ थी… जो प्रमुख तालु रिज के विरुद्ध जीवित, फिसलन वाले शिकार को स्थिर करने में सहायता करती थी इसके जीवाश्‍म को क्रोनोसॉरस कोर्नर म्यूजियम में रखा जाएगा

जिस दौर में Haliskia जीवित थे उस समय ऑस्ट्रेलिया, गोंडवाना नाम के सुपर महाद्वीप का भाग था गोंडवाना में आज का साउथ अमेरिका, अफ्रीका, अंटार्कटिका, अरब प्रायद्वीप और भारतीय उपमहाद्वीप भी शामिल था

Related Articles

Back to top button