Uttarakhand crisis: पिथौरागढ़ के इस गांव में हो सकता है जोशीमठ जैसा बड़ा दुर्घटना

Uttarakhand crisis: पिथौरागढ़ के इस गांव में हो सकता है जोशीमठ जैसा बड़ा दुर्घटना

पिथौरागढ़ जोशीमठ की तरह ही पिथौरागढ़ जिले के धारचूला तहसील के चौदास घाटी का एक गांव लगातार भू-स्खलन तथा भूमि धसान का शिकार हो रहा है यहां के तंता गांव में जहां एक तरफ जमीन फट रही है, तो वहीं गांव की मकानों में भी लगातार दरारें पड़ रही हैं साथ ही गांव की जमीन भी खिसकती जा रही हैं गांव के ये हालात आज से नहीं बल्कि 2013 से चले आ रहे हैं लेकिन समय के साथ-साथ जहां अब गांव में दरारें बड़ी होने लगी हैं, वहीं गांव की जमीन भी लगातार धंसती जा रही है गांव की स्थिति को लेकर कई बार ग्रामीण प्रशासन को ज्ञापन सौंप चुके हैं लेकिन इनके ज्ञापन केवल फाइलों में ही दफन होकर रह गए हैं

ग्रामीणों की आज तक किसी ने कोई सुध नहीं ली हालात यह हैं कि अब इस गांव के लोग हर रात डर के साए में गुजारने को विवश हैं, जिसे देखते हुए अब तंता गांव के लोग सड़कों पर उतरकर आंदोलन का मन बना रहें हैं

भू-स्खलन की वजह से नहर हुआ बर्बाद :
चीन सीमा से सटे इस गांव के लोग सालों से गवर्नमेंट से उन्हें गांव से विस्थापित करने की गुहार लगा रहे हैं लेकिन आज तक सरकारों ने उनकी कोई नहीं सुनी गांव के सन्दीप कुमार के साथ ही जयंती देवी और हरक सिंह के मकानों में इतनी दरारें पड़ गई हैं कि अब यह घर कभी भी धराशायी हो सकता है | लगातार हो रहे भू-स्खलन की वजह से गांव की सिंचाई नहर भी पूरी तरह बर्बाद हो चुकी हैं, जिसका पूरा पानी अब धरती में समा रहा है

हो सकता है जोशीमठ जैसा बड़ा दुर्घटना :
गांव के प्रकाश गुंज्याल ने बताया कि नदी के कटाव से पूरे क्षेत्र में धंसाव की स्थिति बनी हुई है और ऊपर से चट्टान खिसकने का क्रम भी लगातार जारी है, जिसकी वजह से पूरे गांव के लोग भयभीत हैं ऐसे हालात में अब तंता गांव के निवासियों को जोशीमठ की तरह बर्बाद होने का डर भी सता रहा है गांव की हालत को देखते हुए लगता है कि यदि शीघ्र गवर्नमेंट और प्रशासन द्वारा गांव की सुध नहीं ली गई और यहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर नहीं पहुंचाया गया, तो यहां भी कोई बड़ा दुर्घटना हो सकता है, जो कई लोगों की जिंदगियों पर भारी पड़ सकता है

सरकार 10 वर्ष बाद अब सर्वे को तैयार :
वहीं तंता गांव की इस स्थिति को लेकर जिला प्रशासन का बोलना है कि गांव की स्थिति पर नजर बनी हुई है जल्द सर्वे आदि कर रिपोर्ट तैयार की जाएगी और ग्रामीणों की हर संभव सहायता की जाएगी