यहां शेषनाग के अवतार के रूप में भगवान श्रीकृष्ण की होती है पूजा

यहां शेषनाग के अवतार के रूप में भगवान श्रीकृष्ण की होती है पूजा

प्रसिद्ध सेम मुखेम नागराजा मंदिर में हर वर्ष नवंबर माह में मेला आयोजित किया जाता है। सेम मुखेम में भगवान श्रीकृष्ण को शेषनाग के अवतार के रूप में पूजा जाता है। मान्यता है कि द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण सेम मुखेम में यात्रा के लिए आए थे तो उन्हें यह स्थान बेहद प्रिय लगा। उस वक्त सेम मुखेम के राजा गंगू रमोला से उन्होंने जगह मांगी तो गंगू रमोला ने जगह देने से इंकार कर दिया। जिससे क्रोधित होकर भगवान कृष्ण ने गंगू रमोला की सभी गाय भैंस को पत्थर बना दिया। उसके बाद गंगू रमोला के जगह देने के बाद भगवान श्रीकृष्ण के रुप में यहीं पर स्थापित हो गए।

टिहरी जिले के प्रतापनगर ब्लॉक में सेम मुखेम नागराजा मंदिर टिहरी उत्तरकाशी और पौड़ी जिलों के भक्तों की आस्था का बड़ा केंद्र है। हर वर्ष नवंबर में यहां पर तीन दिवसीय मेला आयोजित किया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार महाभारत युद्ध के बाद श्रीकृष्ण यात्रा पर निकले तो सेम मुखेम उन्हें बेहद सुंदर लगा। उन्होंने वहां के राजा गंगू रमोला से कुछ जगह मांगी तो गंगू रमोला ने श्रीकृष्ण को जगह नहीं दी। जिससे नाराज होकर श्रीकृष्ण ने वहां उसकी गाय और भैंस को पत्थर बन जाने का श्राप दे दिया।

लेकिन उसके बाद गंगू रमोला की पत्नी ने भगवान श्रीकृष्ण की स्तुति की और उन्हें वहां पर रहने की जगह दी। जिसके बाद श्रीकृष्ण भगवान शेषनाग के रूप में वहीं पर स्थापित हो गए। उसके बाद से ही नागराजा की पूजा के लिए दूर-दराज से श्रद्धालु मंदिर में आते हैं। जिला पंचायत सदस्य रेखा असवाल ने बताया कि मंदिर में दूर-दराज से श्रद्धालु पहुंचते हैं। इस बार भी यहां पर मेला शुरू होने से पहले ही श्रद्धालु पहुंचने शुरू हो गए थे।

रात भर जागते हैं उत्तरकाशी के श्रद्धालु

सेम मुखेम मंदिर में उत्तरकाशी और पौड़ी जिले के श्रद्धालु हर वर्ष आते हैं। यहां पर उत्तरकाशी के रंवाई घाटी के हजारों ग्रामीण नागराजा के दर्शन करने के लिए आते हैं और रातभर मंदिर में जागरण करते हैं। यहां पर रवांई घाटी के श्रद्धालु रात भर सोते नहीं हैं और पूजा करते है। पूरे वर्ष भर यहां पर प्रदेश और देश के अन्य राज्यों से भी श्रद्धालु आते हैं।

आज भी पहाड़ी पर बनी हैं शिलाएं

सेम मुखेम मंदिर के आसपास पहाड़ी पर आज भी सैंकड़ों पत्थर की शिलाएं हैं। जो दूर से किसी जानवर की तरह लगती हैं। ग्रामीणों के मुताबिक द्वापर युग में जब गाय और भैंसों को पत्थर का बना दिया था यह वही शिलाएं आज भी मौजूद हैं। ग्रामीणों के मुताबिक कुछ शिलाएं तो हल्की ऊंगली लगाने से भी हिलती हैं।


स्वास्थ्य विभाग अपने कर्मचारियों की जिंदगी को लेकर बना लापरवाह

स्वास्थ्य विभाग अपने कर्मचारियों की जिंदगी को लेकर बना लापरवाह

भले ही स्वास्थ्य विभाग आमजन को कोरोना के प्रति जागरूक करने के दावे कर रहा हो। लेकिन, हकीकत यह है कि स्वास्थ्य विभाग अपने कर्मचारियों की जिंदगी को लेकर लापरवाह बना हुआ है। स्वास्थ्य कर्मी बिना पीपीई किट पहने बाहरी राज्यों से आने वाले व्यक्ति व पुलिस कर्मियों की कोरोना जांच कर रहे हैं। ऐसे में यदि कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया तो वह स्वास्थ्य कर्मी व उसके परिवार को खतरे में डाल सकता है।

शासन की गाइडलाइन के अनुसार, कोरोना जांच करते समय स्वास्थ्य कर्मी का पीपीई किट पहनना अनिवार्य है। यह सुरक्षा कवच ही स्वास्थ्य कर्मी को ड्यूटी के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाएगा। लेकिन, कोटद्वार का स्वास्थ्य विभाग इस गाइडलाइन को अनदेखा कर रहा है। दिल्ली, हरियाणा सहित अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड की सीमा पर स्थित कौड़िया चेकपोस्ट पर बिना पीपीई किट पहने जांच की जा रही है। मंगलवार को भी स्वास्थ कर्मी चेक पोस्ट पर इसी लापरवाही के साथ पुलिस कर्मियों की जांच करते हुए नजर आए। यह सब देखने के बाद भी पुलिस अधिकारियों ने स्वास्थ्य कर्मी को पीपीई किट पहनने की सलाह नहीं दी। जबकि, दो दिन पूर्व राष्ट्रपति की ड्यूटी पर गए कई पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

शहर में प्रवेश से पूर्व जांच जरूरी कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए पुलिस व प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। कौड़िया चेक पोस्ट से शहर में प्रवेश करने वाले बाहरी राज्यों के व्यक्तियों की कोरोना जांच करवाई जा रही है। यही नहीं प्रत्येक व्यक्ति से वैक्सीन लगवाने का प्रमाण पत्र भी मांगा जा रहा है। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक विजय ¨सह ने बताया कि बाहरी राज्य से आने वाले व्यक्तियों का फोन नंबर सहित अन्य जानकारियां भी रजिस्टर में दर्ज की जा रही हैं।