धरासू रेंज के दुदारका गांव में घर के पास खेल रहे बच्चे पर गुलदार का हमला

धरासू रेंज के दुदारका गांव में घर के पास खेल रहे बच्चे पर गुलदार का हमला

धरासू रेंज के अंतर्गत दुदारका गांव में रविवार सुबह घर के पास खेल रहे छह साल के बालक पर गुलदार ने हमला कर दिया। बच्चा चिल्लाया तो आसपास के ग्रामीण उसे गुलदार के चंगुल से छुड़ाने के लिए दौड़े। इसके बाद गुलदार बच्चे को छोड़कर जंगल की ओर भागा। स्वजन घायल बच्चे को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चिन्यालीसौड़ पहुंचे। यहां बच्चे की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। इस घटना से क्षेत्र में दहशत का माहौल है। ग्रामीण खेतों में जाने में भी घबरा रहे हैं।

धरासू रेंज के अंतर्गत पट्टी भंडारस्यूं के लुदारका गांव में रविवार को छह वर्षीय अमन घर के निकट ही खेल रहा था। तभी गुलदार ने अमन पर हमला कर दिया है। अमन ने रोना और चिल्लाना शुरू किया तो आवाज सुनकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे और शोच मचाने लगे। साथ ही पत्थर भी फेंकने लगे। इसके बाद गुलदार अमन को छोड़कर भाग निकाला। इस घटना से पहले गुलदार ब्रह्मखाल, कुमारकोट, तराकोट मोटर मार्ग पर कई दुपहिया वाहन चालकों पर हमला कर चुका है। साथ ही कई मवेशियों को भी निवाला बना चुका है। रेंज अधिकारी नागेंद्र रावत ने कहा कि वन विभाग की टीम नियमित रूप से गश्त कर रही है। वह खुद भी गश्त कर रहे हैं। कुछ स्थानों पर कैमरे लगा दिए गए हैं। गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरे की व्यवस्था भी की जाएगी। इसके लिए जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक से अनुमति के लिए पत्र भेजा हुआ है।

भालू के हमले में युवक घायल

उत्तरकाशी: असीगंगा घाटी के ढासड़ा गांव में भालू ने एक युवक पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। युवक को ग्रामीणों ने जिला अस्पताल उत्तरकाशी में भर्ती किया, जहां उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। असी गंगा घाटी के ढासड़ा गांव के पास खेतों में रविवार की दोपहर महावीर ङ्क्षसह बकरियों को चुगा रहा था। तभी झाडिय़ों में छिपे भालू ने महावीर पर हमला कर दिया। महावीर ने भालू पर लाठी और पत्थरों से वार किया और भालू को भगाने का प्रयास किया। लेकिन, भालू ने महावीर को गंभीर रूप से घायल किया। महावीर की चिल्लाने की आवाज सुनकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे। इसके बाद भालू जंगल की ओर भागा। महावीर के पांव में गंभीर चोट आई है।


उत्तराखंड में कोरोना! 24 घंटे में सामने आए 2904 नए मामले, कोविड में अनाथ हुए बच्चों को मिलेगी आपदा राहत राशि

उत्तराखंड में कोरोना! 24 घंटे में सामने आए 2904 नए मामले, कोविड में अनाथ हुए बच्चों को मिलेगी आपदा राहत राशि

प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2904 नए मामले सामने आए हैं, जबकि चार कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई। दूसरी ओर, बुधवार को 1241 मरीजों ने कोरोना से जंग जीत ली।



स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी जानकारी के मुताबिक, प्रदेश में सामने आए 2904 नए मामलों में अल्मोड़ा में 19, बागेश्वर में 127, चमोली में 06, चंपावत में 30, देहरादून में 1016, हरिद्वार में 337, नैनीताल में 397, पौड़ी में 89, पिथौरागढ़ में 127, रुद्रप्रयाग में 252, टिहरी में 85, ऊधमसिंह नगर में 384 और उत्तरकाशी में 35 मामले शामिल हैं। प्रदेश में अब 32880 एक्टिव कोरोना केस हैं, जिनमें सर्वाधिक 14387 केस देहरादून जिले के हैं।

कोविड में अनाथ हुए बच्चों को मिलेगी आपदा राहत राशि

प्रदेश के कोविड में अनाथ हुए बच्चों को आपदा राहत राशि मिलेगी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हलावा देते हुए मुख्य सचिव डॉ.एसएस संधू ने समस्त जिलाधिकारियों को इस संबंध में आदेश जारी किया है। कहा गया है कि 31 जनवरी तक इस तरह के बच्चों को राहत राशि उपलब्ध कराते हुए इससे शासन को अवगत कराएं।

मुख्य सचिव की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने बाल स्वराज पोर्टल पर अपलोड ऐसे बच्चे जिनके दोनों अभिभावक या एकमात्र जीवित अभिभावक की कोविड 2019 से मौत हो गई है, उन्हें आपदा राहत राशि दी जाए। बाल स्वराज पोर्टल पर 25 जनवरी 2022 तक उत्तराखंड के इस तरह के 162 बच्चे पंजीकृत हैं।

जिला कार्यक्रम अधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी व आईसीडीएस सुपरवाइजर की टीम बनाकर ऐसे बच्चों का सर्वेक्षण किया जाए। यह देखा जाए कि इन बच्चों को आपदा राहत राशि मिली या नहीं मिली। यदि इन बच्चों को यह राशि नहीं मिली तो उन्हें राशि उपलब्ध कराई जाए। जबकि एक फरवरी तक इस संबंध में रिपोर्ट सचिव आपदा प्रबंधन को उपलब्ध कराई जाए।