उत्तराखण्ड

10₹ के टिकट में यहां मिलेगी औषधीय पेड़-पौधों की हर जानकारी

ट्रेनी रेंजर हों या विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र, अक्सर वे उत्तराखंड के हल्द्वानी के वन अनुसंधान केंद्र में आकर औषधीय पेड़-पौधों की जानकारी लेते हैं वन अनुसंधान केंद्र औषधीय पेड़-पौधों का हब कहलाता है और यहां कई सारे औषधीय पौधों की भिन्न-भिन्न वाटिका भी तैयार की गई हैं विद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थी यहां आकर डायनासोर और जलीय पौधे से लेकर औषधीय पौधों के बारे में जानकारी लेते हैं वहीं ट्रेनिंग कर रहे रेंजर भी यहां आकर पेड़-पौधों की जानकारी लिया करते हैं यदि आप भी यहां आकर पेड़-पौधों के बारे में जानकारी लेना चाहते हैं, तो यहां केवल 10 रुपये का टिकट लगता है इस टिकट में आप वन अनुसंधान केंद्र में घूम सकते हैं और यहां औषधीय पेड़-पौधों से लेकर सभी पार्कों के बारे में जानकारी ले सकते हैंNewsexpress24. Com 10 download 36

वन अनुसंधान केंद्र के वन क्षेत्राधिकारी मदन सिंह बिष्ट बताते हैं कि इस वन अनुसंधान केंद्र में हमने कई तरह की वाटिका और प्रदर्शन स्थल बनाए हैं स्कूली बच्चे और ट्रेनिंग रेंजर्स यहां पर जानकारियां लेने के लिए पहुंचते हैं छोटे बच्चों को जुरासिक पार्क से लेकर रामायण वाटिका और महाभारत वाटिका के बारे में जानकारी दी जाती है वहीं अन्य को वनों से संबंधित और औषधीय पौधों के बारे में जानकारी दी जाती है साथ ही उत्तराखंड में पेड़-पौधों की जो लुप्त प्रजातियां हैं उनको कैसे हम लोग यहां पर संरक्षित कर रहे हैं उनके बारे में भी उन्हें कहा जाता है उन्होंने आगे बोला कि विद्यार्थी राष्ट्र का भविष्य है इसलिए उनके लिए औषधीय वनस्पतियों, वन्य जीवों और प्राकृतिक संसाधनों के बारे में जानना बहुत महत्वपूर्ण है यहां पर आने वाले विद्यार्थियों के लिए रामायण वाटिका, जुरासिक पार्क और महाभारत वाटिका से लेकर और भी अन्य वाटिकाएं बनाई गई हैं साथ ही उनका बोलना है कि राष्ट्र के विद्यार्थी इन वाटिकाओं और पेड़ पौधों का अवलोकन जरूर करें

विलुप्त प्रजातियों का किया जाता हैं संरक्षण
मदन बिष्ट ने कहा कि वन अनुसंधान केंद्र में रामायण वाटिका, महाभारत वाटिका, कृष्ण वाटिका, जुरासिक पार्क, जलीय पौधों का संरक्षण, रुद्राक्ष वाटिका, औषधीय पौधों की वाटिका, वन वाटिका के अतिरिक्त उन पौधों का भी संरक्षण यहां किया गया है जो प्रजातियां विलुप्त हो गई हैं यानी जो उत्तराखंड या पूरे हिंदुस्तान राष्ट्र में वहां पर प्रजातियां पेड़-पौधों की नहीं मिलती हैं वह आपको इस वन अनुसंधान केंद्र में देखने को मिलेगी और उनके बारे में आप यहां आकर जानकारी भी ले सकते हैं

कहां है वन अनुसंधान केंद्र?
हल्द्वानी का वन अनुसंधान केंद्र रामपुर रोड पर स्थित है यहां आने के लिए सबसे पहले आपको सुशीला तिवारी राजकीय हॉस्पिटल आना होगा यहां से ट्रांसपोर्ट नगर जाने वाली रोड की ओर बढ़ते हुए करीब 200 मीटर आगे जाकर आपको केंद्र मिल जाएगा

Related Articles

Back to top button