इंटर कॉलेज में प्रधानाचार्य समेत शिक्षकों की तैनाती की मांग को लेकर ग्रामीणों का पद्रर्शन जारी

इंटर कॉलेज में प्रधानाचार्य समेत शिक्षकों की तैनाती की मांग को लेकर ग्रामीणों का पद्रर्शन जारी

इंटर कॉलेज भिंगराड़ा में प्रधानाचार्य समेत अध्यापकों की तैनाती की मांग को लेकर ग्रामीणों का धरना प्रदर्शन जारी है। मंगलवार को लोगों ने एक घंटे तक भिंगराड़ा बाजार बंद रखी। धरना स्थल एड़ी देवता मंदिर प्रांगण में सभा का आयोजन कर शीघ्र मांग न माने जाने पर अनिश्चितकालीन धरना शुरू करने की चेतावनी दी गई।

अभिभावक संघ अध्यक्ष सतीश चंद्र भट्ट की अध्यक्षता एवं चल्थिया के पूर्व बीडीसी सदस्य उमेश चंद्र भट्ट के संचालन में सुबह बैठक का आयोजन किया गया। वक्ताओं ने कहा कि कॉलेज में कक्षा 6 से कक्षा 12 तक 397 छात्र-छात्राएं अध्यनरत हैं। लेकिन मात्र 10 अध्यापकों की ही तैनाती है। इनमें से भी तीन अतिथि शिक्षक मेडिकल में हैं। महत्वपूर्ण विषयों के शिक्षकों के अभाव में छात्र-छात्राओं की पढ़ाई चौपट हो गई है। कॉलेज में लंबे समय से प्रधानाचार्य का पद भी खाली पड़ा हुआ है।


उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी एवं विधायक को भी छात्रों की पीड़ा से अवगत करा दिया गया है, लेकिन अभी तक शिक्षकों की नियुक्ति नहीं हुई है। उन्होंने इस बात पर रोष जताया कि धरना स्थल पर कोई भी जिम्मेदार नुमाइंदा लोगों की सुध लेने नहीं पहुंचा। मंगलवार को धरने में आनंद बल्लभ भट्ट, पूर्व सैनिक प्रकाश नाथ गोस्वामी आदि लोग बैठे। इस दौरान किशोर शर्मा, अशोक भट्ट, खरही की क्षेत्र पंचायत सदस्य गीता भट्ट, भिंगराड़ा की ग्राम प्रधान सुनीता बोरा, खरही के प्रधान रमेश चंद्र रौतेला, देवकीनंदन भट्ट, चंद्रशेखर जोशी सहित दर्जनों लोग मौजूद रहे। बाद में विरोध स्वरूप सांकेतिक रूप से एक घंटे के लिए बाजार बंद कराई गई। व्यापारियों ने भी आंदोलन में सहयोग किया।


Uttarakhand Rains Update : सहायता के लिए अक्टूबर की सैलरी देंगे मुख्यमंत्री धामी, एयर एंबुलेंस भी प्रारम्भ होगी

Uttarakhand Rains Update : सहायता के लिए अक्टूबर की सैलरी देंगे मुख्यमंत्री धामी, एयर एंबुलेंस भी प्रारम्भ होगी

देहरादून उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अहम घोषणा करते हुए शुक्रवार को बोला कि वह अक्टूबर महीने का अपना वेतन सीएम राहत फंड में जमा करवाएंगे, जिससे उत्तराखंड में भारी बारिश और भूस्खलन के चलते बने आपदा के दशा में लोगों की सहायता की जा सके आपदा ग्रस्त इलाकों के दौरे पर शुक्रवार को पीड़ितों से मिलते हुए धामी ने ये आदेश भी दिए कि दूरस्थ प्रभावित गांवों और इलाकों में लोगों की सहायता के लिए एयर एंबुलेंस की सुविधा भी प्रारम्भ की जाए इसके साथ ही, बड़ा अपडेट यह भी है कि प्रदेश में आज शनिवार को भी राहत एवं बचाव काम जारी रहेंगे

उत्तराखंड में वर्षाजनित आपदा में अब तक कम से कम 67 लोगों के मारे जाने की बात कही जा रही है जबकि ट्रेकिंग के दौरान बर्फबारी के चलते भी ट्रेकरों और पर्यटकों की मृत्यु की खबरें आ रही हैं इस बीच, धामी ने आपदा प्रभावित क्षेत्रों के दौरे के सिलसिले में शुक्रवार को चमोली ज़िले में उन पीड़ितों से मुलाकात की, जिनके परिजन आपदा के चलते लापता हैं आधिकारिक आंकड़े के अनुसार 64 मौतें हुई हैं और आपदा प्रभावित इलाकों के 11 लोग अब भी लापता हैं

पुष्कर सिंह धामी के बयान के विषय में एएनआई का ट्वीट

बताते चलें कि गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया था उनके साथ मुख्यमंत्री धामी भी उपस्थित रहे थे इस सर्वे के बाद बोला गया था कि केन्द्र सरकार उत्तराखंड के साथ पूरा योगदान बनाए हुए है इधर, सीएम धामी प्रदेश में 7000 करोड़ के नुकसान का आंकलन बता चुके हैं और इस बारे में केन्द्र को प्रस्ताव भेजने की बात कह चुके हैं