उत्तराखंड: युवा बनाम सीनियर फाॅर्मूला BJP में ऐसे हो रहा सेट

उत्तराखंड:  युवा बनाम सीनियर फाॅर्मूला BJP में ऐसे  हो रहा सेट

देहरादून भाजपा प्रदेश संगठन में अब कई सीनियर नेता मार्गदर्शक मंडल की शोभा बढ़ाएंगे और उनकी स्थान संगठन की मेन बॉडी में अब युवाओं को कमान थमाने की तैयारी है 2024 के मद्देनजर किए जा रहे इन बदलावों में 70 से 80 प्रतिशत पदाधिकारी बदल दिए जाएंगे बताया जा रहा है कि बीजेपी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट अपनी नई टीम से जुड़े बड़े घोषणा 25 अगस्त तक कर सकते हैं इस नई टीम के लिए युवाओं का नया गणित तैयार किया जा रहा है तो कई नाम इसलिए भी चर्चा में चल रहे हैं क्योंकि उनकी स्थान संगठन के एक्टिव पदों से खो सकती है

बीजेपी ने 2024 के मद्देनजर संगठन में टॉप टू बॉटम परिवर्तन की कवायद प्रारम्भ कर दी है महेंद्र भट्ट को संगठन की कमान सौंपने के बाद अब पार्टी में टीम महेंद्र के सिलेक्शन को लेकर माथापच्ची चल रही है टीम का स्वरूप क्या हो? इसके लिए भट्ट को राष्ट्रीय नेतृत्व से साफ गाइड लाइन पहले ही मिल चुके हैं संगठन के मौजूदा पदाधिकारियों में से 70 प्रतिशत को बदलकर उनकी स्थान युवा नेताओं को अहमियत दी जाएगी संगठन में अधिकतम एज लिमिट 60 वर्ष रखी गई है तो जिलाध्यक्ष के लिए 50 साल

भट्ट के फाॅर्मूले से सीनियरों में खलबली!

भट्ट का बोलना है कि वह स्वयं युवा हैं तो उनकी टीम भी युवा होगी उन्होंने कहा, सीनियरों का मार्गदर्शन रहेगा और युवाओं पर फोकस रहेगा यही फाॅर्मूला पार्टी की यूथ विंग में भी लागू किया जाएगा भाजयुमो में 35 वर्ष से ऊपर का कोई पदाधिकारी नहीं होगा भट्ट कैबिनेट में जातीय और क्षेत्रीय समीकरणों को भी साधने की तैयारी है हालांकि भाजपा के सीनियर नेता भट्ट के इस विजन को लेकर अधिक खुश नजर नहीं दिख रहे

पार्टी में कई जरूरी पदों पर रह चुके सीनियर लीडर प्रकाश सुमन ध्यानी का बोलना है कि संगठन में सीनियर और युवा नेताओं का सामंजस्य आवश्यक है उन्होंने बोला कि केंद्रीय टीम में भी इस कॉम्बिनेशन को देखा जा सकता है दूसरी तरफ, जैसे ही भट्ट अपनी नई टीम का घोषणा करेंगे, दायित्वधारियों पर विचार भी प्रारम्भ होगा

ऐसे किया जाएगा दायित्वों में एडजस्टमेंट

मौजूदा पदाधिकारियों में से कुछ को सरकारी विभागों के दायित्व देकर एडजस्ट किए जाने की रणनीति भी बन रही है बाकी नेता मार्गदर्शक मंडल की शोभा बढ़ाएंगे इनमें वो नेता भी शामिल होंगे, विधानसभा चुनाव में संगठन की गुड बुक के हिसाब से जिनका ट्रैक रिकॉर्ड ठीक नहीं रहा मार्गदर्शक मंडल की इसी लिस्ट ने अभी से कई भाजपाइयों की नींद उड़ा दी है