नैनीताल में नई प्रजाति के पक्षियों की खोज में शुरू हुआ ये फेस्टिवल

नैनीताल में नई प्रजाति के पक्षियों की खोज में शुरू हुआ ये फेस्टिवल

नैनीताल उत्तराखंड का नैनीताल पर्यटन के लिए मशहूर है यहां प्रसिद्ध झील के साथ-साथ कई ऐसी जगहें हैं, जहां लोग घूम सकते हैं और सुंदर नजारे का दीदार कर सकते हैं यहां भिन्न-भिन्न तरह की एक्टिविटी करने का भी मौका मिलता है इन्हीं में से एक है बर्ड वॉचिंग, जो नैनीताल जिले के कई जगहों पर होती है राष्ट्र के भिन्न-भिन्न राज्यों के साथ ही विदेशों से भी पर्यटक यहां आकर हिमालय और पहाड़ में पाई जाने वाली सुंदर पक्षियों का दीदार करते हैं इस बीच, नैनीताल में पक्षियों की नयी प्रजाति की खोज और यहां के क्षेत्र को बर्ड वॉचिंग डेस्टिनेशन बनाने के लिए यहां चार दिवसीय बर्ड फेस्टिवल का शुरुआत किया गया है

बर्ड वॉचर और पद्मश्री से सम्मानित किए जा चुके नैनीताल निवासी अनूप साह ने बताया कि उत्तराखंड में पक्षियों की 790 प्रजातियां हैं इनमें से विनेशियस रोजफिंच प्रजाति की चिड़िया नैनीताल में दिखाई दी थी, जो यहां के लिए बर्ड वॉचिंग क्षेत्र में एक अच्छी समाचार है वन विभाग की तरफ से की गई इस पहल से नैनीताल में बर्ड वॉचिंग की अपार संभावनाएं बन सकती हैं

चिड़ियाघर के रेंजर अजय रावत ने बताया कि वन विभाग की तरफ से किया जाने वाला यह बर्ड सर्वे का दूसरा चरण है, जिसमें सात राज्यों से 43 बर्ड वॉचर हिस्सा ले रहे हैं इससे पूर्व जून में बर्ड सर्वे के पहले चरण में राष्ट्र के भिन्न-भिन्न जगहों से आए बर्ड वॉचर ने 201 पक्षियों की प्रजातियों को रिकॉर्ड किया था 16 नवंबर से यह सर्वे प्रारम्भ किया गया था, जो 19 नवंबर तक चलेगा इस सर्वे के दूसरे चरण में नैनीताल के विनायक, भवाली, कुंज खड़क, बॉटनिकल गार्डन, सातताल के साथ ही 22 ट्रेलों में बर्ड वॉचिंग की जाएगी