राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द 28 को ऋषिकेश में करेंगे गंगा आरती

राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द 28 को ऋषिकेश में करेंगे गंगा आरती

राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द 28 नवंबर को हरिद्वार में पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में शामिल होने के बाद परमार्थ निकेतन ऋषिकेश गंगा आरती में शामिल होंगे। यहां रात्रि प्रवास के बाद वह अगले दिन देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार जाएंगे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के दो दिवसीय संभावित कार्यक्रम को देखते हुए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी है। राष्ट्रपति के संभावित कार्यक्रम के अनुसार 28 नवंबर को राष्ट्रपति हरिद्वार में पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे। उसके बाद वह परमार्थ निकेतन स्वर्गाश्रम पहुंचेंगे। जहां परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज के सानिध्य में वह गंगा आरती करेंगे। संभावित कार्यक्रम के अनुसार राष्ट्रपति परमार्थ आश्रम में ही रात्रि प्रवास करेंगे। अगले रोज 29 नवंबर को वह देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार जाएंगे।

राष्ट्रपति के संभावित कार्यक्रम को देखते हुए बुधवार को जिलाधिकारी देहरादून डा. आर राजेश कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून जन्मेजय प्रभाकर खंडूड़ी, पुलिस अधीक्षक देहात स्वतंत्र कुमार ङ्क्षसह एम्स ऋषिकेश पहुंचे। अधिकारियों के मुताबिक राष्ट्रपति के कार्यक्रम को लेकर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश और भारतीय सेना की रायवाला छावनी हेलीपैड दोनों जगह उनके हेलीकाप्टर के लिए व्यवस्था की जा रही है। जिलाधिकारी और एसएसपी ने एम्स और रायवाला दोनों जगह जाकर हेलीपैड का निरीक्षण करते हुए सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। अधिकारियों के मुताबिक राष्ट्रपति का फाइनल कार्यक्रम अभी जारी नहीं हुआ है।

15 लाख से बनेगी गंगा घाट तक सड़क

रायवाला: ग्राम सभा रायवाला में वासंती माता मंदिर के पास से गंगा घाट तक सड़क बनाने का कार्य शुरू हो गया है। इसके लिए विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने विधायक निधि से 15 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं।

रायवाला के ग्राम प्रधान सागर गिरि ने बताया कि सड़क की लंबाई 350 मीटर है। इसके किनारे पुश्ता भी बनाया जाना है। मंदिर से गंगा घाट होते हुए हरिपुरकलां तक जाने वाली यह सड़क जर्जर हालत में थी। ग्रामीणों इस सड़क को पक्का बनाने की मांग काफी समय से कर रहे थे। इसका लाभ रायवाला में पौराणिक माता वासंती मंदिर सिद्ध पीठ में आने वाले श्रद्धालु और स्थानीय ग्रामीणों को मिलेगा। उन्होंने बताया कि भविष्य में इस मार्ग को हरिपुरकलां से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा ताकि रायवाला गांव से हरिद्वार जाने के सुगम व सीधा रास्ता बन सके।


स्वास्थ्य विभाग अपने कर्मचारियों की जिंदगी को लेकर बना लापरवाह

स्वास्थ्य विभाग अपने कर्मचारियों की जिंदगी को लेकर बना लापरवाह

भले ही स्वास्थ्य विभाग आमजन को कोरोना के प्रति जागरूक करने के दावे कर रहा हो। लेकिन, हकीकत यह है कि स्वास्थ्य विभाग अपने कर्मचारियों की जिंदगी को लेकर लापरवाह बना हुआ है। स्वास्थ्य कर्मी बिना पीपीई किट पहने बाहरी राज्यों से आने वाले व्यक्ति व पुलिस कर्मियों की कोरोना जांच कर रहे हैं। ऐसे में यदि कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया तो वह स्वास्थ्य कर्मी व उसके परिवार को खतरे में डाल सकता है।

शासन की गाइडलाइन के अनुसार, कोरोना जांच करते समय स्वास्थ्य कर्मी का पीपीई किट पहनना अनिवार्य है। यह सुरक्षा कवच ही स्वास्थ्य कर्मी को ड्यूटी के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाएगा। लेकिन, कोटद्वार का स्वास्थ्य विभाग इस गाइडलाइन को अनदेखा कर रहा है। दिल्ली, हरियाणा सहित अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड की सीमा पर स्थित कौड़िया चेकपोस्ट पर बिना पीपीई किट पहने जांच की जा रही है। मंगलवार को भी स्वास्थ कर्मी चेक पोस्ट पर इसी लापरवाही के साथ पुलिस कर्मियों की जांच करते हुए नजर आए। यह सब देखने के बाद भी पुलिस अधिकारियों ने स्वास्थ्य कर्मी को पीपीई किट पहनने की सलाह नहीं दी। जबकि, दो दिन पूर्व राष्ट्रपति की ड्यूटी पर गए कई पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

शहर में प्रवेश से पूर्व जांच जरूरी कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए पुलिस व प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। कौड़िया चेक पोस्ट से शहर में प्रवेश करने वाले बाहरी राज्यों के व्यक्तियों की कोरोना जांच करवाई जा रही है। यही नहीं प्रत्येक व्यक्ति से वैक्सीन लगवाने का प्रमाण पत्र भी मांगा जा रहा है। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक विजय ¨सह ने बताया कि बाहरी राज्य से आने वाले व्यक्तियों का फोन नंबर सहित अन्य जानकारियां भी रजिस्टर में दर्ज की जा रही हैं।