उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय विद्युत मंड़ल सहारनपुर ने एक किसान को दो महीने का घरेलू बिजली का बिल भेजा इतने लाख

उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय विद्युत मंड़ल सहारनपुर ने एक किसान को दो महीने का घरेलू बिजली का बिल भेजा इतने लाख

उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय विद्युत मंड़ल सहारनपुर (Saharanpur) ने एक किसान को दो महीने का घरेलू बिजली का बिल (Electricity Bill) 10 लाख रुपए भेज दिया है। इस कारण किसान व उसका परिवार परेशान हैं।

 किसान सभी पुराने बिल साथ लेकर बिजली विभाग के चक्कर काट रहा है, लेकिन कोई भी ऑफिसर किसान की बात सुनने के लिए तैयार नहीं है। परेशान होकर किसान ने कलेक्टर से गुहार लगाई है।

सहारनपुर जिले के गांव ब्राह्मण माजरा निवासी किसान धर्म सिंह पुत्र लाल सिंह ने बताया कि उसके भाई अतर सिंह के नाम से घर का बिजली का कनेक्शन है। वह लगातार बिजली का बिल भर रहे हैं। मार्च में उन्होंने 14 हजार बिजली का बिल जमा किया था। उन्होंने बताया कि उनका घरेलू कनेक्शन 2 किलो वाट का है। इस हिसाब से उनका 2 महीने का बिल लगभग 1500 रुपए आना चाहिए था। लॉकडाउन के कारण वह 2 महीने अप्रैल और मई का बिल जमा नहीं करा पाए थे। किसान ने बताया कि 1 हफ्ते पहले जब वह बिजली का बिल जमा करने अंबेहटा विद्युत उपकेंद्र पर गए तो वहां कर्मचारी ने कंप्यूटर से 10 लाख रुपए से भी अधिक का बिल निकालकर उनके पकड़ा दिया।

कार्यालय ों के चक्कर कटवा रहे अधिकारी 10 लाख से ज्यादा का बिल देखकर किसान के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। किसान ने जब बिजली विभाग के अधिकारियों से इस बारे में शिकायत की तो उन्होंने पहले सारे पुराने बिल मंगवाए, लेकिन जब किसान सारे बिल लेकर पहुंचा तो अधिकारियों ने उसकी कोई मदद नहीं की। करीब एक हफ्ते तक बिजली विभाग के चक्कर काटने के बाद भी जब समस्या नहीं सुलझी तो किसान ने जिलाधिकारी अखिलेश सिंह को शिकायत करते हुए न्याय की गुहार लगाई है।

पहले भी ऐसे मुद्दे आए हैं

यह मुद्दा पहला नहीं है जब किसी किसान का घरेलू बिल वो भी दो महीने का 10 लाख रुपए आ गया हो। इसके पहले भी इस तरह के कई मुद्दे देखने को मिल चुके हैं, जिनके यहां एक कमरे का बिल कई लाख रुपए महीने बिजली विभाग ने भेज दिया है। बिजली विभाग की लापरवाही का खामियाजा किसानों व आम लोगों को भुगतना पड़ता है।