उत्तर प्रदेश

UP: सपा नेता विनय शंकर तिवारी के 10 ठिकानों पर ईडी ने मारा छापा

बैंकों का करीब 754 करोड़ हड़पने वाले पूर्व विधायक और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव विनय शंकर तिवारी की कंपनी गंगोत्री इंटरप्राइजेस के 5 शहरों के 10 ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को छापा मारा लखनऊ के महानगर क्षेत्र में गंगोत्री इंटरप्राइजेस के कार्यालय समेत पांच ठिकानों पर छापा मारा गया है गोरखपुर में तिवारी के पैतृक आवास, नोएडा स्थित कंपनी के कार्यालय और निदेशक के आवास के साथ अहमदाबाद और गुरुग्राम में भी देर रात तक छानबीन जारी रही

जांच एजेंसी ने इन ठिकानों से बड़ी संख्या में चल-अचल संपत्तियों के डॉक्यूमेंट्स बरामद हुए हैं फर्जी कंपनियां बनाने के प्रमाण भी मिले हैं प्रवर्तन निदेशालय ने बीती 17 नवंबर को तिवारी की कंपनियों की 72.08 करोड़ रुपये मूल्य वाली 27 संपत्तियों को बरामद किया था गंगोत्री इंटरप्राइजेज ने बैंकों के कंसोर्टियम से 1129.44 करोड़ रुपये का ऋण (सीसी लिमिट) लिया था, जिसमें से 754 करोड़ रुपये वापस नहीं किए बैंक की कम्पलेन पर CBI ने गंगोत्री इंटरप्राइजेज और उसकी सहयोगी कंपनियों के निदेशकों, प्रमोटर्स, गारंटर के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया था CBI की एफआईआर के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने भी दो साल पूर्व मनी लॉन्डि्रंग का मुकदमा दर्ज कर जांच प्रारम्भ की थी इसके बाद नवंबर 2023 में तिवारी की गोरखपुर, महराजगंज और लखनऊ की संपत्तियां बरामद की थीं

ये है मामला

गंगोत्री इंटरप्राइजेज ने अपने प्रमोटरों, निदेशकों, गारंटरों के साथ मिलकर बैंक ऑफ इण्डिया के नेतृत्व वाले सात बैंकों के कंसोर्टियम से 1129.44 करोड़ रुपये की क्रेडिट सुविधाओं का फायदा लिया था बाद में इस धनराशि को उन्होंने अन्य कंपनियों में डायवर्ट कर दिया इससे बैंकों को 754.24 करोड़ रुपये का हानि हुआ इसके बाद कंपनी के बैंक खातों को एनपीए घोषित कर दिया गया

पूर्व मंत्री हरिशंकर तिवारी के बेटे विनय शंकर के गोरखपुर के धर्मशाला स्थित पैतृक आवास पर प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने शुक्रवार सुबह पांच बजे छापा मारा टीम ने आवास पर उपस्थित हरिशंकर तिवारी के बड़े बेटे भीष्म शंकर से भी पूछताछ की शाम छह बजे टीम कई डॉक्यूमेंट्स साथ लेकर लौट गई टीम के जाने के बाद समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने कार्रवाई पर आक्रोश व्यक्त करते हुए गवर्नमेंट विरोधी नारे लगाए

Related Articles

Back to top button