बुजुर्ग को पोते ने फावड़ा मारकर उतारा मौत के घाट

बुजुर्ग को पोते ने फावड़ा मारकर उतारा मौत के घाट

उन्नाव में रिश्तों को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है, घर के बाहर लेटे बाबा को चचेरे पोते ने फावड़े से काटकर मर्डर कर दी. चीख पुकार सुन परिवारीजन जब तक दौड़े तब तक आरोपी पोता बाबा को फावड़े से काटने के बाद भाग निकला.

सूत्रों के अनुसार पोते बाबा से जमीन अपने नाम करवाने के लिए आए दिन कहासुनी किया करता था, वहीं घटना की सूचना पर पुरवा पुलिस, सीओ पुरवा, एसपी दिनेश त्रिपाठी मौके पर पहुंचे. एसपी ने मौके का जायजा लिया और परिजनों से जानकारी ली. वहीं पुलिस ने मौके से मृतक के मृत शरीर को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है.

पुलिस ने मौके से आलाकत्ल बरामद कर लिया है. एसपी दिनेश त्रिपाठी ने देर रात मौके के निरीक्षण के बाद बात करते हुए बताया कि बुजुर्ग की उसके भाई के बेटे के बेटे ने फावड़ा मारकर मर्डर कर दी है, इस सम्बंध में विधिक कार्रवाई की जा रही है आरोपी को अरैस्ट कर लिया गया है.

उन्नाव के पुरवा कोतवाली क्षेत्र के चन्दीगढ़ी के रहने वाले अन्नन्तु (70) देर रात घर के बाहर लेटे थे, इसी दौरान चचेरा पोता उमेश यादव घर आया. बताया जा रहा है कि उमेश ने बाहर रखे फावड़े से लेटे बुजुर्ग बाबा की गर्दन पर कई वार करके काट कर उन्हें मृत्यु के घाट उतार दिया. बुजुर्ग की चीख सुन कर घर में उपस्थित आरोपी उमेश की माँ सूरज देई बाहर दौड़ी.

खून से लथपथ देख उनके होश उड़ गए. बुजुर्ग को तड़पता देख स्त्री चिल्लाने लगी, वहीं इतने में मौका पाकर आरोपी बेटा उमेश भाग निकला. सूत्रों की मानें तो पोते की निगाह बाबा की जमीन पर थी, जिसके लिए पोते का चचेरे बाबा से कई बार टकराव हो चुका है, वहीं चीख-पुकार की आवाज सुनकर मोहल्ले के लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई. घटना की सूचना लोगों ने पुरवा पुलिस को दी. घटना की जानकारी के बाद पुरवा पुलिस, सीओ पुरवा मौके पर पहुंचे और मौके का जायजा ले परिजनों से पूछताछ की.

मौके पर पहुंचे पुलिस बल ने बुजुर्ग के मृत शरीर को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है. वही पुलिस ने आला कत्ल मौके से बरामद कर लिया है. वहीं मर्डर की सूचना पर देर रात एसपी दिनेश त्रिपाठी मौके पर पहुंचे. एसपी दिनेश त्रिपाठी ने मौके का निरीक्षण किया. एसपी ने घटना को लेकर परिजनों से जानकारी भी की. घटना के बाद घर में उपस्थित आरोपी उमेश यादव की मां सूरज देई ने बोला कि वह पिछले कई माह से रोज कह रहा था कि पूरे घर के लोगों को फावड़े से काट डालेंगे, आज देर रात अचानक नशे की हालत में आया और चचेरे बाबा को मृत्यु के घाट उतार दिया.

02 वहीं एसपी दिनेश त्रिपाठी ने मौके का निरीक्षण किया और परिजनों से मुद्दे कि जानकारी कर तफ्तीश की. जिसके बाद एसपी दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि पुरवा के चंडीगढ़ी में एक 70 साल के बुजुर्ग की उसके भाई के बेटे के बेटे ने फ़ावड़ा मारकर मर्डर कर दी है, इस संबंध में विधिक कार्रवाई की जा रही है. एसपी दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि अभियुक्त को अरैस्ट कर लिया गया है.


UP के होमगार्ड्स के लिए बड़ी खुशखबर

UP के होमगार्ड्स के लिए बड़ी खुशखबर

 यूपी गवर्नमेंट के होमगार्ड जवानों के लिए अच्छी समाचार है जेल मंत्री धर्मवीर प्रजापति ने 33 हजार होमगार्डों के भलाई में बड़ा निर्णय लिया है उन्होंने होमगार्डों की ड्यूटी भत्ते के लिए गृह विभाग पर निर्भरता खत्म कर दी है होमगार्डों का वेतन अब मूल विभाग से जारी होगा बता दें कि 25 हजार होमगार्ड गृह विभाग में और 8000 होमगार्ड डायल 112 पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं

इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश में जीवन भर जेल के कैदियों को भी राहत मिली है मंत्री ने बोला कि अब 60 साल की उम्र सीमा पूरी करना जरूरी नहीं है लोक दिवसों पर जीवन भर जेल के कैदी रिहा होंगे रिहाई के लिए 60 वर्ष उम्र पूरा करने की बंदिश समाप्त कर दी गई है बता दें कि केंद्रीय जांच एजेंसियों की न्यायालय से सजा पाए कैदी इस दायरे में नहीं आएंगे 

ड्यूटी भत्ते के लिए गृह विभाग पर निर्भरता समाप्त 
योगी गवर्नमेंट होमगार्ड होमगार्ड्स को लगातार सुविधाएं देने के कोशिश में जुटी है दूसरे कार्यकाल में गवर्नमेंट ने इस काम की आरंभ और भी तेजी से कर दी है होमगार्ड्स के जवानों को भी सुविधाएं मिलें और वे प्रदेश की शांति प्रबंध बनाने में अपना जरूरी सहयोग दे सकें इसके लिए राज्य गवर्नमेंट लगातार प्रयास कर रही है इसी क्रम में यूपी के 25000 होमगार्ड्स जो कि गृह विभाग में अपनी सेवाएं दे रहे हैं और 8000 होमगार्ड्स जो डायल 112 पर तैनात हैं, उन्हें बड़ी राहत मिली है वहीं, अब इनके ड्यूटी भत्ते के लिए गृह विभाग पर निर्भरता खत्म हो गई है अब उन्हें मूल विभाग वेतन देगा 

आजीवन जेल के कैदियों को मिली राहत
यूपी में जीवन भर जेल के कैदियों को भी मिली राहत 60 साल की उम्र सीमा पूरी करना महत्वपूर्ण नहीं है वर्ष में 10 लोक दिवसों पर कैदी रिहा किए जाएंगे जेल एवं होमगार्ड्स राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार धर्मवीर प्रजापति ने यह आदेश जारी किया है इसके साथ ही उत्तर प्रदेश की नयी कारागार नीति से यूपी में बड़ी संख्या जीवन भर जेल की सजा काट रहे कैदियों को राहत मिलने जा रही है इस नयी कारागार नीति के तहत, अब जीवन भर जेल की सजा काट रहे कैदियों की रिहाई के लिए 60 वर्ष उम्र पूरा करने की बंदिश खत्म कर दी गई है

हालांकि, केन्द्रीय जांच एजेंसियों की अदालतों में जिन कैदियों को सजा मिली है, वह इस दायरे में नहीं आएंगे दरअसल, यूपी की जेलों में कैदियों की संख्या तय नियमों से अधिक है इसलिए वर्तमान जेल मंत्री यूपी गवर्नमेंट लगातार कैदियों की रिहाई और जेल सुधार की दिशा में कदम उठा रहे हैं