पुलिस ने किया विकास दुबे के दो सम्बन्धी को ढेर, जाने थे 8 पुलिसकर्मी को मारने के आरोपी

 पुलिस ने किया विकास दुबे के दो सम्बन्धी को ढेर, जाने थे 8 पुलिसकर्मी को मारने के आरोपी

यूपी के कानपुर में बिकरू गांव मे पुलिस व कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के साथियों के साथ हुई मुठभेड़ में सीओ व शिवराजपुर एसओ सहित सहित 8 पुलिसकर्मी शहीद हाे गए.

 आधी रात दबिश देने गई पुलिस टीम पर छत और खिड़कियों से फायरिंग की गई. इस घटना मे कई पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल भी है. शुक्रवार प्रातः काल तक जारी एनकाउंटर में पुलिस ने विकास दुबे के दो सम्बन्धी को ढेर कर दिया है. बताया जा रहा है विकास का मामा व चचेरे भाई एनकाउंटर में मारे गए हैं. 

आसपास जिलों की सीमाएं सील : 

पुलिस ने कानपुर मंडल के कानपुर, कानपुर देहात, कन्नौज, फर्रुखाबाद, इटावा, औरैया की सभी सीमाएं सील कर दी हैं. जीटी रोड पर स्थित गांव में हुई घटना के बाद से जीटी रोड पर जगह-जगह बैरियर लगाकर हो रही है संघन तलाशी ली गई. वहीं फॉरेंसिंक टीमें भी घटनास्थल पर जाँच पड़ताल के लिए पहुंची है. अपराधी विकास के घर को चारों तरफ पुलिस तैनात कर दिया गया है. 

कानपुर देहात से विकास दुबे के बहनोई को पुलिस ने हिरासत में लिया
घटना के बाद शुक्रवार प्रातः काल शिवली पुलिस ने विकास दुबे के बहनोई दिनेश तिवारी को हिरासत में ले लिया है. उनके घर में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दिनेश और उनके परिवार के लोगों की गतिविधियों को पुलिस ने चेक किया.

एडीजी कहे : पुलिस से हुई चूक 

घटनास्थन का दौरा करने के बाद एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बोला कि बदमाश विकास दुबे के घर गुरुवार रात दबिश देने गई पुलिस पर बदमाश हावी हो चुके थे, पुलिस टीम बिना तैयारी गई थी. उसे अंदाजा ही नहीं था कि विकास व उसके साथी असलहों के साथ अंदर हैं. यही चूक भारी पड़ गई. सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश पर लखनऊ से सीधे घटनास्थल पुहंचे प्रशांत कुमार ने बोला कि इस मुद्दे में पुलिस की तरफ से चूक हुई है. वह जल्द ही मुख्यमंत्री को अपनी रिपोर्ट देंगे. मुद्दे की उच्च स्तरीय जाँच होगी. अब एसटीएफ के साथ कई टीमें लगी हैं.